Homeहरियाणाकरनालपल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान को सफल बनाने के लिए सुरक्षा चक्र न...

पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान को सफल बनाने के लिए सुरक्षा चक्र न टूटे, कोई भी बच्चा न छूटे : डॉ. वैशाली शर्मा

प्रवीण वालिया, Karnal News : आगामी 19 जून से जिला में सघन पल्स पोलियो अभियान के तहत सब नेशनल राउण्ड पूरा किया जाएगा। इसमें नवजात से 5 साल तक के 1 लाख 91 हजार लक्षित बच्चों को पोलियो रोधी खुराक पिलाई जाएगी। अभियान की तैयारियों को लेकर गुरूवार को अतिरिक्त उपायुक्त डॉ. वैशाली शर्मा ने स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों के साथ एक मीटिंग कर निर्देश दिए कि पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान को सफल बनाने के लिए सुरक्षा चक्र न टूटे, कोई भी बच्चा न छूटे।

सब नेशनल राउण्ड 13 जिलो में

बैठक में मौजूद डिप्टी सीएमओ व जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. नीलम वर्मा ने अतिरिक्त उपायुक्त को अवगत कराया कि करनाल जिला में वर्ष 2011 में पोलियो का कोई केस नहीं हुआ है, फिर भी सुरक्षा व एहतियात की दृष्टि से हर वर्ष 1 नेशनल राउण्ड और 2 सब नेशनल राउण्ड के तहत बच्चों को पोलियो रोधी दवा की बूंदे पिलाई जाती हैं। पहला सब नेशनल राउण्ड 19 जून से शुरू होगा, जो 3 दिन तक रहेगा। सब नेशनल राउण्ड के लिए उत्तर प्रदेश की सीमा से लगते 13 जिले लिए गए हैं, इनमें करनाल, पंचकूला, अम्बाला, यमुनानगर, कुरूक्षेत्र, पानीपत, सोनीपत, रोहतक, झज्जर, गुरूग्राम, फरीदाबाद, मेवात और पलवल शामिल हैं।

887 बूथ और 1558 टीमों का गठन

डॉ. नीलम वर्मा ने बताया कि पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान को सफल बनाने के लिए जिला में 887 बूथ बनाए गए हैं। पहले दिन बूथ पर ही 0 से 5 साल तक के बच्चे को पोलियो से बचाव की बूंदे पिलाई जाएंगी। जबकि दूसरे व तीसरे दिन घर-घर जाकर दवा पिलाई जाएगी। इसके लिए 1558 टीमें बनाई गई हैं। इनमें 22 ट्रांजिट टीमें होंगी, जो रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड, टोल बैरियर और मेला स्थल जैसी जगहों पर जाकर बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाएंगी। इसके अतिरिक्त 67 मोबाईल टीमें बनाई गई हैं, जो जिला के ईंट भठ्ठे, पोल्ट्री फार्म और डेरे इत्यादि पर जाकर बच्चों को दवा पिलाने का काम करेंगी। टीमों का कामकाज देखने के लिए 145 सुपरवाईजर रहेंगे।

अभी नहीं टला पोलियो का खतरा

डॉ. नीलम वर्मा ने बताया कि कुछ वर्ष  पहले भारत बेशक पोलियो मुक्त देश घोषित हो गया था, लेकिन यह कहना होगा कि अभी भी पोलियो का खतरा नहीं टला है, क्योंकि पाकिस्तान, मोजाम्बिग और अफ्रीका के मलावी में इस साल और बीते वर्ष भी पोलियो के केस मिले हैं। इसे देखते एहतियात बरता जाना जरूरी है और उसी मकसद से पोलियो प्रतिरक्षण के विभिन्न राउण्ड लिए जा रहे हैं।
बैठक में मौजूद एस.एम.ओ. डॉ. अभय अग्रवाल ने 0 से 5 साल की आयु के बच्चों के सभी अभिभावकों से अपील की है कि वे 19 जून को अपने नजदीकी पोलियो प्रतिरक्षण बूथ पर बच्चे को लाकर उसे पोलियो रोधी दवा की दो बूंदे अवश्य पिलवाएं, ताकि भारत पोलियो मुक्त देश बना रहे।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular