Homeहरियाणाकरनालनए बस स्टैण्ड के साथ बन रहा ड्राईविंग प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान...

नए बस स्टैण्ड के साथ बन रहा ड्राईविंग प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान जल्द होगा मुकम्मल:उपायुक्त अनीश यादव

HEADLINES : 
  • नए बस स्टैण्ड के साथ बन रहा ड्राईविंग प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (आई.डी.टी.आर.) जल्द होगा मुकम्मल
  • उपायुक्त अनीश यादव ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ मीटिंग कर सीवरेज लाईन जोडऩे जैसे छोटे-छोटे कार्यों को जल्द पूरा करने के दिए निर्देश।
  • आई.डी.टी.आर. मुख्यमंत्री का है ड्रीम प्रोजेक्ट, जून माह में हो सकता है उद्घाटन।
इशिका ठाकुर, करनाल
बलड़ी बाईपास स्थित नए बस स्टैण्ड से सटे ड्राईविंग प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (आई.डी.टी.आर.) का 95 प्रतिशत कार्य मुकम्मल हो गया है। एक सीवरेज पाईप लाईन का छोटे सा मसला आड़े आने से इसका शेष काम रूका हुआ था, जिसका जल्द ही हल हो जाएगा।
सोमवार को उपायुक्त अनीश यादव ने विभिन्न विभागीय अधिकारियों के साथ इस मसले को लेकर एक मीटिंग के दौरान चर्चा हुई, जिसमें अधिकारियों को निर्दिष्ट किया गया कि अगले 15 दिन में इसका हल हो जाना चाहिए, ताकि जून में इसके उद्घाटन की तैयारियां की जा सकें।
मीटिंग में आई.डी.टी.आर. का निर्माण कर रही होंडा मोटरसाईकल एंड स्कूटर इंडिया प्राईवेट लिमिटेड के ओप्रेटिंग ऑफिसर सत्य प्रकाश, उनके सहयोगी कमल कुमार, जीएम रोडवेज कुलदीप सिंह, सिंचाई विभाग के एक्सईएन नवतेज सिंह, नगर निगम के एक्सईएन सतीश शर्मा, आरटीए के सहायक सचिव सतीश जैन तथा जन स्वास्थ्य व लोक निर्माण (बी. एंड आर.) विभागों के उपमण्डल अभियंता शरीक हुए।

सीवरेज लाईन आईडीटीआर की तरफ

क्या था ईश्यू- मीटिंग में उपायुक्त ने आई.डी.टी.आर. के मुकम्मल होने में देरी क्यों है और क्या ईश्यू हैं, इस पर अधिकारियों से बात की। जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग के एसडीई ने बताया कि मौजूदा बस स्टैण्ड से एक सीवरेज लाईन आईडीटीआर की तरफ ली गई थी। भवन में इंटीरियर को लेकर कुछ खुदाई करने के बाद इसमें लीकेज आ गई, जिससे व्यवधान पैदा हुआ। इसका हल करने के लिए इसे करनाल-इन्द्री स्टेट हाईवे की ओर से मोड़कर नगर निगम के तत्वावधान में अम्रुत के तहत डाली गई पाईप लाईन से डाला जाना है।

सीवर लाईन को ट्रैंच मशीन से पूरा करवाया जाए

लेकिन इस लाईन में इन्द्रप्रस्थ गैस लिमिटेड की पाईप लाईन गुजरती है। जन स्वास्थ्य विभाग की ओर से निर्णय लिया गया था कि सीवर लाईन को ट्रैंच मशीन से पूरा करवा लिया जाए। इस पर आईजीएल ने जोखिम की आशंका जाहिर की, परिणामस्वरूप जन स्वास्थ्य विभाग ने प्रस्तावित सीवर लाईन को, ट्रैंच मशीन की बजाए ओपन रोड कंटिंग करके, नगर निगम की सीवर लाईन में जोडऩे का प्लान बनाया और 9 मेन होल बनाए।

लोक निर्माण विभाग से अनुमति ली गई

इनमें पहले मेन होल को बस स्टैण्ड की मौजूदा लाईन से जोड़ा जाएगा और नौवें को नगर निगम की सीवर लाईन से जोड़कर पूरा किया जाएगा, शेष मेन होल पूरे हो चुके हैं। रोड कटिंग के लिए लोक निर्माण विभाग से अनुमति भी ली गई है। दूसरी ओर जी.एम. रोडवेज ने बताया कि हरियाणा राज्य परिवहन के करनाल डिपो की ओर से इस काम के लिए जन स्वास्थ्य विभाग को 10 लाख 44 हजार रूपये की राशि भी जमा करा दी है, 72 हजार रूपये जल्द ही जमा करा दिए जाएंगे।
नए बस स्टैण्ड के साथ बन रहा ड्राईविंग प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान जल्द होगा मुकम्मल- उपायुक्त अनीश यादव
नए बस स्टैण्ड के साथ बन रहा ड्राईविंग प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान जल्द होगा मुकम्मल- उपायुक्त अनीश यादव

उपायुक्त ने अन्य अधिकारियों से भी उनके ईश्यू पूछे। सिंचाई विभाग के एक्सईएन नवतेज सिंह ने बताया कि आईडीटीआर को जाने वाले रास्ते पर दो पुलिया बनाई जानी है, इनमें से एक मुकम्मल हो गई है, दूसरी भी जल्द मुकम्मल हो जाएगी। इसके बाद इसपर ट्रैफिक गुजर सकेगा। चर्चा के बाद उपायुक्त ने जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि अगले 15 दिन में सीवर लाईन का काम पूरा हो जाना चाहिए। उन्होंने निगम के एक्सईएन से कहा कि जैसे भी हो सीवरेज लाईन को अम्रुत की मेन लाईन से जोडऩा होगा।

9.25 एकड़ में 30 करोड़ रूपये की लागत से पूरा होगा

क्या है आई.डी.टी.आर.- बता दें कि मुख्यमंत्री हरियाणा के इस ड्रीम प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाने के लिए मौजूदा होंडा मोटर साईकिल एंड स्कूटर इंडिया प्राईवेट लिमिटेड ने करीब 2 साल पहले इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट का कॉन्सैप्ट लेकर, कॉर्पोरेट सोशल रिस्पोंसिब्लिटी के तहत इस पर काम शुरू किया था। कोविड के चलते हालांकि निर्माण गति कुछ धीमी रही, लेकिन अब इसके मुकम्मल होने पर ज्यादा वक्त नहीं है। आगामी जून माह में मुख्यमंत्री के द्वारा ही इसका उद्घाटन हो सकता है। प्रदेश के अपनी तरह के पहले स्पैशल ड्राईविंग ट्रेनिंग संस्थान का निर्माण 9.25 एकड़ में किया गया है और यह 30 करोड़ रूपये की लागत से पूरा होगा।

वाहनो की ड्राईविंग के प्रशिक्षण व टैस्ट

क्या होगा आईडीटीआर में- मीटिंग में मौजूद होंडा मोटर साईकिल एंड स्कूटर इंडिया प्राईवेट लिमिटेड के ऑप्रेटिंग अधिकारी सत्य प्रकाश पाटिल ने बताया कि इस संस्थान में दुपहिया, चौपहिया लाईट व हैवी वाहनो की ड्राईविंग के प्रशिक्षण व टैस्ट लिए जाएंगे, जिनकी अवधि 2, 4 ओर 6 महीनो की होगी।

पाटिल ने बताया कि ऑटोमेटिक ड्राईविंग टैस्ट ट्रैक के जरिए प्रशिक्षण लेने वाले की छोटी-छोटी गलती चैक करके उसे सुधारा जाएगा और टैस्ट पास करने के बाद एक प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके चालू हो जाने पर ड्राईविंग के लर्निंग और रेगूलर लाईसेंस भी इसी संस्थान से बनेंगे, इसके लिए आरटीए और लाईसेसिंग अथोरिटी के कर्मचारी यहां बैठेंगे। यानि होंडा कम्पनी और सरकार दोनो मिलकर इस संस्थान को चलाएंगे।

ये भी पढ़ें : दिव्य ज्योति जागृति संस्थान द्वारा हुडा ग्राउंड सेक्टर 13 करनाल में पांच दिवसीय श्री राम कथा का आयोजन
ये भी पढ़ें : हरियाणा-पंजाब सहित कई राज्यों में क्यों हुई बिजली गुल, गहराएगा संकट, ये हैं कारण
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular