Homeराज्यहरियाणाकरनाल : अब नहीं चलेगा बहाना, कार्य पूरा नहीं किया तो ठेकेदार...

करनाल : अब नहीं चलेगा बहाना, कार्य पूरा नहीं किया तो ठेकेदार ब्लैक लिस्ट करवा दिया जाएगा : डीसी

प्रवीण वालिया, करनाल :
उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने जिला में सरकारी कॉलेज भवनों के निर्माण कार्य को जल्द से जल्द पूरा करवाने के उद्देश्य से औचक निरीक्षण करके कार्यों का जायजा लिया। निर्माण कार्य की धीमी गति को देखकर उपायुक्त ने ठेकेदार को स्पष्ट शब्दों में कहा कि देरी किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। निर्माण कार्य को पूरा करवाने की बार-बार डेट दे रहे हैं। अब ऐसा बहाना नहीं चलेगा। आगामी 31 अगस्त तक अगर कालेज भवनों का निर्माण कार्य पूरा नहीं किया तो ब्लैक लिस्ट करवा दिया जाएगा। उपायुक्त ने निरीक्षण के दौरान सबसे पहले जुंडला कस्बे के लिए गांव दादूपुर में करीब 17 करोड़ 11 लाख रुपये की लागत से बनाए जा रहे राजकीय महिला महाविद्यालय के निमार्णाधीन भवन का निरीक्षण किया और बारिकी से एक-एक कार्य को चैक किया। उन्होंने देरी से हो निर्माण कार्य पर असंतोष व्यक्त करते हुए ठेकेदार को सख्त हिदायत दी कि कॉलेज भवन का निर्माण कार्य काफी दिनों से लंबित चल रहा है, इसे जल्द से जल्द पूरा करवाएं ताकि जुंडला कस्बे के आसपास के छात्राओं को आधुनिक सुविधाओं से युक्त ग्रामीण आंचल में महिला कॉलेज की सुविधाओं का लाभ मिल सके।

उपायुक्त ने ठेकेदार को चारदीवारी के कार्य को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करवाने के निर्देश दिए। इतना ही नहीं लोक निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता को निर्देश दिए कि अगर यह ठेकेदार भवन निर्माण कार्य में तेजी न दिखाएं तो इनकी पेमेंट रोक दी जाए। उन्होंने यह भी कहा कि जिला में चल रहे कॉलेज भवनों के निर्माण कार्य को लेकर हर सप्ताह की प्रगति रिपोर्ट ठेकेदार से ली जाए और इसकी एक प्रति उपायुक्त कार्यालय को भिजवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी कहा कि कार्य की गुणवत्ता चैक करने के लिए तीन सदस्सीय कमेटी का गठन किया जाएगा जिसमें पंचायती राज के कार्यकारी अभियंता व नगरनिगम के एसडीओ शामिल रहेंगे। इस अवसर पर कॉलेज के प्राचार्य डा. पीयूष ने बताया कि 12 अगस्त से नए बच्चों के दाखिले शुरू हो जाएंगे। इसलिए जितना जल्दी भवन बनकर तैयार होगा उतना ही जल्दी बच्चों को आधुनिक सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा। इसके उपरांत उपायुक्त ने असंध उपमंडल के गांव जयसिंहपुरा में 19 करोड़ 77 लाख रुपये की लागत से बनने वाले निमार्णाधीन राजकीय महाविद्यालय के निमार्णाधीन भवन में पहुंचे और वहां पर भी निर्माण कार्यों का जायजा लिया। इस कॉलेज का निर्माण कार्य लगभग 85 प्रतिशत पूरा हो चुका है। उन्होंने ठेकेदार को निर्देश दिए कि कॉलेज परिसर को भी साफ-सुथरा व सुंदर बनाया जाए। इस मौके पर कॉलेज के प्राचार्य डा. रोहताश ने बताया कि आसपास के ईलाके से भी 500 बच्चों का कॉलेज में दाखिला है। इस कॉलेज भवन के बनने से यहां छात्रों की संख्या और बढ़ेगी।

उन्होंने उपायुक्त के संज्ञान में लाया कि कॉलेज में बिजली कनैक्शन के लिए एस्टीमेट बनवाया जाए ताकि जल्द से जल्द कॉलेज में बिजली की सुविधा उपलब्ध हो सके। इसके बाद उपायुक्त ने गांव पाढा में 17 करोड़ 65 लाख रुपये की लागत से बनने वाले निर्माणधीन महिला कॉलेज के निर्माण कार्य का निरीक्षण किया। इस पर भी उपायुक्त ने ठेकेदार को कहा कि यहां पर कार्य की गति बिल्कुल धीमी है, इसमें मैन पावर बढ़ाकर कार्य को जल्द पूरा करवाया जाए। इस मौके पर कार्यकारी अभियंता आरके नैन ने बताया कि कॉलेज भवन के लिए जगह में बदलाव किया गया है। इस वजह से भी निर्माण कार्य में देरी हुई है। कॉलेज की प्राचार्या अनुराधा पुनिया ने बताया कि कॉलेज भवन निर्माण कार्य से संबंधित प्रगति रिपोर्ट हर माह निदेशालय भेजी जाती है। फिलहाल कालेज की कक्षाएं साथ लगते गुरूकुल में चलाई जा रही हैं। इसलिए कालेज भवन का जल्द से जल्द निर्माण कार्य पूरा करवाने की जरूरत है। इस अवसर पर एसडीएम असंध मनदीप कुमार, लोक निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता आरके नैन, एसडीओ नवीन राठी, सीएम अनाऊंसमेंट के नोडल जगीर सिंह उपस्थित रहे। उपायुक्त ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की घोषणा के अनुसार करनाल जिला को 6 कालेज की सौगात मिली थी। इनमें राजकीय कॉलेज जयसिंहपुरा, राजकीय महिला कालेज जुंडला, राजकीय महिला कालेज पाढा, राजकीय महिला कालेज बस्तली, राजकीय महिला कॉलेज बसताड़ा, राजकीय महिला कालेज तरावड़ी शामिल हैं। यह सभी कॉलेज 20 किलोमीटर के दायरे पर सरकार के निदेर्शानुसार स्थापित किए जा रहे हैं ताकि लड़कियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए दूर-दराज के ईलाके में न जाना पड़े।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments