Homeराज्यहरियाणाकरनाल : डी.सी. ने जागरूकता वैन को दिखाई हरी झंड़ी

करनाल : डी.सी. ने जागरूकता वैन को दिखाई हरी झंड़ी

प्रवीण वालिया, करनाल :

कोरोना महामारी से बचाव के लिए सभी व्यस्क वैक्सीन लगवाएं, इसके लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार की जागरूकता वैन जिला में पहुंची है, जो आज 26 जुलाई से अगले 5 दिनों तक सभी खण्डों के भिन्न-भिन्न गांवों में जाकर लोगों को जागरूक करेगी। उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने सोमवार को लघु सचिवालय परिसर से हरी झण्डी दिखाकर जागरूकता वैन को रवाना किया। इस मौके पर सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा के अतिरिक्त सिविल अस्पताल के डा. नीलम वर्मा, डा. अभय अग्रवाल और उक्त मंत्रालय के क्षेत्रीय कार्यालय चण्डीगढ़ की उप निदेशक सपना मौजूद थी। जागरूकता वैन पर, वैक्सीन की जरूरत प्रधानमंत्री का आह्वान और कोरोना के विरूद्ध जन अंदोलन को लेकर मुफ्त वैक्सीन या टीकाकरण का संदेश प्रदर्शित किया गया है। वैन में एक आडियो के माध्यम से जनता विशेषकर व्यस्कों को टीकाकरण अभियान से जुड़ने की अपील की गई है। इस दौरान वैक्सीन को लेकर लोगों की भ्रांतियां भी दूर की जाएंगी। जागरूकता वैन को हरी झंड़ी दिखाकर उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने मीडिया को बताया कि अब तक जिला में 18 प्लस के 5 लाख 91 हजार 581 महिला एवं पुरूषों को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है। इनमें 3 लाख 13 हजार 688 पुरूष और 2 लाख 77 हजार 801 महिलाएं शामिल हैं।

पहली डोज 63 हजार 466 को तथा दूसरी डोज 1 लाख 28 हजार 115 को लगाई जा चुकी है, विशेष व्यक्तियों में 92 ट्रांसजैण्डर भी हैं। उन्होंने बताया कि अब दूध पिलाने वाली माताएं और गर्भवती भी टीकाकरण करवा सकती हैं। तीसरी लहर के आने की अटकलों का जिक्र करते उन्होंने कहा कि यह सितम्बर-अक्तूबर में सम्भावित हो सकती है, हमारा लक्ष्य है कि तब तक हम 65 प्रतिशत को वैक्सीन लगा सकेंगे। मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि जिला में वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता है। आज 56 जगहों पर विशेष टीकाकरण किया जा रहा है। मंगलवार को जिला के जलमाना में विशेष टीकाकरण शिविर आयोजित किया जाएगा। उन्होंने अपील कर कहा कि 18 से ऊपर के जितने भी व्यस्क बचे हैं, वह अपनी फर्स्ट डोज अवश्य लगवा लें। उन्होंने बताया कि तीसरी लहर की संभावना को देखते जिला के केसीजीएमएस में बैडो की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। बच्चों को कोरोना से बचाने पर ज्यादा फोकस रहेगा, इसके तहत पीकू यानि छोटे और नीकू यानि नवजात बच्चों के लिए सभी तैयारियां कर ली गई हैं। केसीजीएमएस और जिला की सभी सीएचसी में आक्सीजन प्लांटों की स्थापना का काम चल रहा है। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उपायुक्त ने बताया कि बारिश से शहरों में अब जल भराव की स्थिति नहीं होनी चाहिए, इसकी पम्प लगाकर या ड्रेन से सफाई करवाई जा रही है। जहां तक रेन हार्वेस्टर की बात है, पहली बारिश के बाद कूड़ा-कचरा बहकर इसे चौक कर देता है, अब इनकी भी सफाई की जा रही है। यह एक अनवरत प्रकिया है। कावडियों को लेकर उपायुक्त ने उनसे अपील की है कि वे गंगा जल लेने के लिए हरिद्वार ना जाएं। कोविड को देखते वहां से जल लाने की मनाही है, गंगा जल के लिए प्रशासन ने व्यवस्था कर दी है, आज-कल में एक टैंकर आ जाएगा और जरूरतमंद शहर के पंचायत भवन से रजिस्ट्रेशन करवाकर गंगा जल ले सकते हैं। जिला बाल कल्याण अधिकारी इसके नोडल बनाए गए हैं।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments