Homeराज्यहरियाणाकरनाल : फर्जी फेसबुक आईडी के जरिए लोगों को झूठे केस में...

करनाल : फर्जी फेसबुक आईडी के जरिए लोगों को झूठे केस में फंसाने व रुपए ऐंठने वाले 4 आरोपी गिरफ्तार

प्रवीण वालिया, करनाल :
फर्जी फेसबुक आईडी के जरिए लोगों को झूठे केस में फंसाने व जान से मारने की धमकी देकर रूपए हड़पने वाले 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गौरतलब है कि  6 जुलाई 2021 को थाना निसिंग जिला करनाल में शिकायतकर्ता हरविंद्र सिंह पुत्र स्वर्ण सिंह निवासी रामनगर ककरनाल ने एक शिकायत देते हुए पुलिस को बताया कि 4 जुलाई को उसके फेसबुक पर एक लड़की की फ्रैंड रिकवेस्ट आई थी जिसको उसने असेप्ट कर लिया था। इसके बाद वह उस लड़की की बातों में आ गया और अगले दिन उस लड़की के बुलाने पर वह उस लड़की से मिलने निसिंग चला गया। वहां पर उस लड़की के पांच अन्य साथी आ गए , जिनमे चार लड़के व एक महिला शामिल थी। जिन्होंने हरविंद्र के साथ मारपीट शुरू कर दी और दबाव देकर तीन लाख रूपए की मांग की लेकिन शिकायतकर्ता ने यह रकम देने में असमर्थता जाहिर की।

इसके बाद आरोपियों ने उसकी गर्दन पर सुआ रखकर जबरदस्ती अपने एक गूगल-पे अकाउंट में 76400 रूपए ट्रांसफर करा लिए और उसके बैग में रखे 40 हजार रूपयों को भी लेकर फरार हो गए और जाते समय किसी को बताने पर झूठे केस में फंसाने व जान से मारने की धमकी देते हुए मौका से फरार हो गए। इस संबंध में उक्त लड़की व उसके चार अन्य सहयोगियों के खिलाफ थाना निसिंग में धारा 384,506 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया।

मामले की आगामी तफ्तीश मुख्य सिपाही कुलदीप सिंह थाना निसिंग को सौंपी गई। दौराने तफ्तीश 11जुलाई को पुलिस ने चार आरोपियों रवि जिला कैथल, रवि पुत्र रघुबीर सिंह निवासी गांव राहडा जिला कुरूक्षेत्र, विजय उर्फ बिज्जू पुत्र सुखबीर सिंह निवासी जिला करनाल व  टिंकू पुत्र जोगध्यान निवासी जिला कैथल को गिरफ्तार किया। पूछताछ में आरोपियों द्वारा खुलासा किया गया कि उन्होंने गांव फरल जिला कैथल की रहने वाली एक मां-बेटी के साथ मिलकर किसी व्यक्ति को हनी ट्रैप में फंसाकर उससे रूपए हड़पने का प्लान बनाया था। प्लान के मुताबिक आरोपियों द्वारा एक लड़की की फर्जी फेसबुक आईडी बनवाकर गांव फरल की रहने वाली लड़की के माध्यम से शिकायतकर्ता के पास पहले फ्रैंड रिकवेस्ट भेजी।

जिसके बाद शिकयतकर्ता को बातों में फंसाकर उसको निसिंग के एक होटल के बाहर मिलने के लिए बुलाया गया। जिसके बाद शिकायतकर्ता के साथ मारपीट कर व उसको झूठे केस में फंसाने व जान से मारने की धमकी देकर रूपए छीनने की वारदात को अंजाम दिया गया। आरोपियों के कब्जे से गूगल-पे अकाउंट में ट्रांसफर किए गए रूपयों में से 62 हजार रूपए व वारदात में प्रयोग की गई एक आल्टो कार को बरामद किया गया है। चारों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। मामले में फरार दोनों आरोपियों मां-बेटी की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं। जिनको गिरफ्तार कर अन्य रूपयों की बरामदगी की जाएगी।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular