Homeहरियाणाकैथलपीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर यूनियन ने किया उपायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन, एस डी...

पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर यूनियन ने किया उपायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन, एस डी एम का  सौंपा ज्ञापन

मनोज वर्मा, कैथल:

हरियाणा गवर्नमेंट पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर यूनियन रजिस्टर नंबर 41 संबंधित सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने जिला प्रधान पृथ्वी सिंह की अध्यक्षता में उपायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन कर एसडीएम के माध्यम से मुख्य सचिव हरियाणा सरकार के नाम ज्ञापन सौंपा।

कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान न होने से प्रदर्शन कर दिया ज्ञापन 

कार्यक्रम का संचालन जिला सचिव राजकुमार नापा ने किया। उपस्थिति को संबोधित करते हुए राज्य महासचिव जरनैल सिंह, राज्य उपप्रधान ओमपाल व राज्य कमेटी सदस्य मनोज शर्मा ने बताया कि प्रमुख अभियंता सिंचाई विभाग, जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी तथा भवन निर्माण व सडक़ विभाग की गैर जिम्मेदार कार्यवाहियों , तानाशाही व सरकार के निर्देशानुसार संगठन से बातचीत द्वारा कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान न होने से कर्मचारियों के गुस्से के कारण आज प्रदर्शन कर ज्ञापन दिया गया है।

उन्होंने बताया की प्रमुख अभियंता सिंचाई विभाग ने सेवा नियम की अनदेखी कर व बिना सरकार से अप्रूवल लिए बहुत से पदों को मर्ज कर दिया। जोकि व्यवहारिक तौर पर भी गलत है। उन्होंने डंपर चालक जेसीबी चालक, ट्रैक्टर चालक, पोप लाइन चालक, ट्रक चालक आदि को मर्ज कर हेवी व्हीकल चालक, स्टोर कीपर, स्टोर मुंशी आदि पदों को क्लब कर स्टोर कीपर बना दिया। जबकि इनका कार्य प्रकृति अलग अलग है और सुपरवाइजर स्टोर कीपर का प्रमोशनल पद है। उच्च पद को नीचे क्लब नहीं किया जा सकता है।

कैनाल गार्ड की भर्ती योग्यता 10+2 के साथ तैराकी और शारीरिक मापदंड

PWD Mechanical Workers Union demonstrated in the office of the Deputy Commissioner

ग्रुप डी में कैनाल गार्ड, बेलदार , चौकीदार, हेल्पर आदि को क्लब कर बेलदार बना दिया जबकि कैनाल गार्ड की भर्ती योग्यता 10+2 के साथ तैराकी और शारीरिक मापदंड है। जबकि बेलदार की योग्यता आठवीं पास है। सिंचाई विभाग मुख्यालय में कर्मचारियों के निजी केस वर्षों से लंबित रहते है। भ्रष्टाचार का बोलबाला है। जिनकी प्रमोशन का अधिकार क्षेत्र अधीक्षक अभियंता है उनके हेड ऑफिस से प्रमोशन किए जाते हैं। उन्होंने आगे कहा कि जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी प्रमुख अभियंता ने 19-04-22 को संगठन से बातचीत में कई समस्याओं पर सहमति के बावजूद मीटिंग कार्यवाही में नहीं दर्शाया गया। मैट्रिक आईटीआई को 2400 ग्रेड पे, पद बदलवाने, प्रमोशन व अन्य मामले पेंडिंग है और विभाग को नगर निगम, पंचायतों के हवाले किया जा रहा जिससे कर्मचारियों में असंतोष है। इसी प्रकार भवन निर्माण व सडक़ विभाग में लंबे समय से समस्याएं लंबित हैं और बातचीत के लिए अधिकारी उपलब्ध नहीं है।

पेच वर्क कार्य प्राइवेट ठेकेदारों के हवाले

पेच वर्क कार्य प्राइवेट ठेकेदारों के हवाले कर अरबों रुपए की मशीनरी को जंग के हवाले किया जा रहा और कर्मचारियों को खाली बैठाया जा रहा है। कमीशन खोरी चरम पर है। अत: तीनों विभागों के प्रमुख अभियंताओं की कार्यप्रणाली की रोष स्वरूप व सरकार की नीतियों के खिलाफ जिनमें कौशल रोजगार निगम को भंग करवाने, निजीकरण व ठेका प्रथा के विरोध में, कच्चे कर्मचारियों की नियमितकरण करवाने, पंचायती पंप चालकों का वेतन जन स्वास्थ्य विभाग से दिलवाने समेत 16 सूत्रीय मांग पत्र के समाधान हेतु  ज्ञापन सौंपा गया है और अतिशीघ्र समाधान नहीं होता तो आने वाली 8 जुलाई को प्रमुख अभियंता सिंचाई व जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी के पंचकूला मुख्यालयों का घेराव कर अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू किया जाएगा और 11 जुलाई को चंडीगढ़ स्थित भवन निर्माण विभाग के मुख्यालय पर प्रदर्शन किया जाएगा और समस्याओं के समाधान होने तक आंदोलन जारी रहेगा। इस अवसर पर संदीप हैलवा , इंद्र जांगड़ा, सतीश टयोठां, शिवदत्त शर्मा, राजपाल, सुरेश कुमार, रमेश, करण सिंह, राजकुमार चहल, संदीप, दलबीर कलायत, विक्रम संगण, जगसीर, सोमदत्त शर्मा, बलबीर मलिक, बिट्टू कलायत, बलविंदर सोडी, रमेश कोलेंखा, कृष्ण करोड़ा, देवी दत्त शर्मा, अनिल कुमार, रिटायर्ड  कर्मचारी संघ के जिला प्रधान रमेश हरित, सीटू जिला कोषाध्यक्ष जयप्रकाश, किसान नेता महेंद्र सिंह ने भी आंदोलन व मांगो का समर्थन किया।

ये भी पढ़ें : कार्तिकेय शर्मा की जीत को लेकर समस्त ब्राह्मण समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री का किया धन्यवाद

ये भी पढ़ें : खुल गया प्रगति मैदान सुरंग, पीएम मोदी ने किया टनल और अंडरपास का उद्घाटन

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular