Homeहरियाणाकैथलचिराग योजना का विरोध, अध्यापकों का आरोप-सरकार दे रही निजीकरण को बढ़ावा

चिराग योजना का विरोध, अध्यापकों का आरोप-सरकार दे रही निजीकरण को बढ़ावा

मनोज वर्मा, Kaithal News:
हरियाणा सरकार की ओर से शुरू चिराग नामक योजना का शिक्षक तालमेल कमेटी कैथल की ओर से आज इस योजना की प्रतियां जलाकर विरोध किया।

जनहित के खिलाफ फैसलों पर लड़ने की घोषणा

आज राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कैथल में एनएफएल ट्रेनिंग ले रहे अध्यापकों को हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ के पूर्व राज्य प्रधान मास्टर शेर सिंह ने संबोधित किया और सरकार की ओर से जनशिक्षा को बर्बाद करने के लि,जन विरोधी फैसलों के प्रति आगाह करते हुए अध्यापक/अध्यापिकाओं को इन जनविरोधी फैसलों के खिलाफ लड़ने का आह्वान किया। इस अवसर पर अध्यापक संघ के राज्य प्रेस प्रवक्ता सतबीर गोयत, राज्य सचिव रामपाल शर्मा, हसला के राज्य उपप्रधान राजेश ढुल व शारीरिक शिक्षक संघ के जिला प्रधान रमेश डीपी ने कहा कि सरकार चिराग नामक योजना लाकर जन शिक्षा को बर्बाद करके निजी स्कूलों को बढ़ावा देना चाहती है।

शिक्षा का वर्तमान ढांचा बिगाड़ने का आरोप

आरोप लगाया कि सरकार शिक्षा का वर्तमान ढांचा बिगाड़ रही है। इस योजना के अनुसार सरकारी स्कूलों के बच्चों को प्राइवेट स्कूल में दाखिल होने पर सरकार प्राइवेट स्कूलों को प्रति छात्र 700 से 1100 तक फीस देगी। दूसरी तरफ सरकारी मॉडल संस्कृति स्कूल के नाम पर सरकारी स्कूलों में छात्र-छात्राओं को प्रति मास 500 फीस देनी पड़ेगी।

हरियाणा सरकार शिक्षा विभाग में 50,000 शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने के बजाय उन पर दूसरे प्रदेशों तक के रिटायर्ड अध्यापकों को लगाने के लिए पोर्टल जारी कर रही है। इसी प्रकार मेवात क्षेत्र में बिना एचटेट पास किए प्राइवेट एनजीओ द्वारा सीधे अध्यापक भर्ती किए जा रहे हैं। जबकि दूसरी तरफ प्रदेश में दो-दो तीन-तीन बार एचटेट पास किए युवा दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हो रहे हैं।

28 जून को शिक्षा मंत्री से हुई थी बैठक

शिक्षा मंत्री से 28 जून को हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ के प्रतिनिधि मंडल द्वारा इस पर बात की गई तो उन्होंने कहा वोट हमने लेने हैं आपको नहीं। एक जनप्रतिनिधि जिनका कार्य हरियाणा में जन शिक्षा की रक्षा करते हुए जन जन तक शिक्षा पहुंचाने का है। इस प्रकार की बयान बाजी अति निंदनीय है। इसका मतलब स्पष्ट है कि सरकार जन शिक्षा को बर्बाद करके निजीकरण को बढ़ावा देना चाहती है। जिसका हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ सहित पूरे प्रदेश का शिक्षक वर्ग जोरदार विरोध करेगा।

एक लोग शामिल हुए बैठक में

इस अवसर पर हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ के जिला प्रधान विजेंद्र मोर ,सचिव बूटा सिंह, खंड प्रधान कृष्ण आर्य, बालिंद्र गोयत,हसला के राज्य उपप्रधान राजेश ढुल,रविंद्र मित्तल,राकेश बिढान,शारीरिक शिक्षक संघ के जिला प्रधान रमेश डीपी, संदीप डीपी,पवन डीपी व मोहन डीपी प्राथमिक शिक्षक संघ के राज्य उपप्रधान बलवीर पहलवान, टीपू , कमलेश कुमारी, रितु कुमारी, कृष्णा व आशा रानी आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें : कार्तिकेय शर्मा की जीत को लेकर समस्त ब्राह्मण समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री का किया धन्यवाद

ये भी पढ़ें : खुल गया प्रगति मैदान सुरंग, पीएम मोदी ने किया टनल और अंडरपास का उद्घाटन

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular