Homeहरियाणाकैथलआर्ट ऑफ लिविंग द्वारा कैदियों के जीवन-उद्धार हेतु आयोजित प्रिजन स्मार्ट शिविर...

आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा कैदियों के जीवन-उद्धार हेतु आयोजित प्रिजन स्मार्ट शिविर का समापन

  • प्रतिभागी कैदी स्वयं को राष्ट्रीय धारा के साथ जोड़ते हुए एक उत्कृष्ट प्रेरणास्रोत बनेंगे -जेल उप-अधीक्षक सुरेंद्र कुमार

मनोज वर्मा, Kaithal News:
आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर द्वारा संचालित संस्था आर्ट ऑफ लिविंग की कैथल इकाई के तत्वावधान में कैथल कारागार के कैदियों के जीवन-उद्धार हेतू आयोजित प्रिजन स्मार्ट शिविर का समापन आचार्य दीपक सेठ संग प्रतिभागी साधकों द्वारा सम्पूर्ण विश्व-कल्याण हेतु मंगलकामना के पवित्र श्लोक सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया: सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दु:ख भाग्भवेत् के मधुर गायन के साथ सम्पन्न हुआ।

कैथल में आयोजित शिविर

आचार्या अल्पना मित्तल ने बताया कि स्थानीय कारागार, कैथल में आयोजित शिविर में साधकों ने योग-ध्यान, सूक्ष्म व्यायाम, प्राणायाम, विशिष्ट क्रियाओं-प्रक्रियाओं, भजन-सत्संग तथा अद्भुत सुदर्शन क्रिया के साथ-साथ जीवन से सम्बंधित छोटे-छोटे लेकिन महत्वपूर्ण बिंदुओं की ज्ञानवर्धक व सार्थक जानकारी रोचक वार्तालाप व अनोखी प्रक्रियाओं के माध्यम से प्राप्त की। विशेष रूप से सुदर्शन क्रिया के खुशगवार प्रभाव व अनोखे अनुभव से प्रत्येक व्यक्ति अभिभूत था।

कार्यक्रम की अद्वितीय विशेषता

प्रतिभागियों द्वारा वीडियो के माध्यम से श्री श्री रविशंकर के पावन सानिध्य में समर्पण ध्यान करते हुए पावन परमशान्ति, आत्मिक आनंद तथा दिव्य ऊर्जा की अद्भुत एवं अवर्णनीय सुखद अनुभूति करना इस कार्यक्रम की अद्वितीय विशेषता रही। कार्यक्रम के अंतिम दिन दिव्य भजन सत्संग में दीपक सेठ एडवोकेट द्वारा भगवान शिव के चरणों में समर्पित गाए गये भावपूर्ण भजन शिव राजा महेश्वराय जय शंकर शिव शम्भू ने प्रतिभागियों को भक्तिमय संगीत की अनंत गहराइयों में सराबोर करते हुए असीम ऊर्जा एवं दिव्यानंद की अलौकिक अनुभूति करवाई।

शिविर सम्बन्धी अनुभव सांझा 

तत्पश्चात् कलात्मक संगीत से सुसज्जित वाहेगुरु-स्तुति के भावपूर्ण भजन एही नाम है सहारा एही नाम है आधारा; सतनाम श्री वाहे गुरु की मनमोहक गूंज से सम्पूर्ण वातावरण अध्यात्मिकता की पवित्र खुशबू से महक उठा। प्रतिभागियों में एक प्रतिभागी ने शिविर सम्बन्धी अनुभव सांझा करते हुए बताया कि आत्मविश्लेषण और आत्मचिंतन से न सिर्फ अपने दुर्लभ मानव जीवन को एक नवीन दृष्टिकोण के साथ समझने का स्वर्णिम अवसर प्राप्त हुआ है, अपितु अपने भावी जीवन के प्रति सजगता का भी एहसास हुआ है।

स्वयं को समाज में एक उत्कृष्ट उदाहरण

आचार्य दीपक सेठ एडवोकेट द्वारा सेवा, साधना तथा सत्संग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाने के सबल आग्रह के पश्चात् सभी प्रतिभागियों द्वारा भविष्य में सेवा, साधना तथा सत्संग की मदद से राष्ट्रीय धारा में वापसी करते हुए स्वयं को समाज में एक उत्कृष्ट उदाहरण के रूप में स्थापित करने का संकल्प धारण करना इस कार्यक्रम की बेमिसाल उपलब्धि रही।

आर्ट ऑफ लिविंग परिवार 

कार्यक्रम के अंतिम चरण में आर्ट ऑफ लिविंग परिवार की ओर से आचार्य दीपक सेठ एडवोकेट ने इस सम्पूर्ण आयोजन में हर सम्भव सहयोग के लिए जेल अधीक्षक संजय बांगर, जेल उप-अधीक्षक सुरेन्द्र कुमार, जिला आयुर्वेद अधिकारी होशियार सिंह हुड्डा तथा जेल प्रशासन के समस्त अधिकारियों का भी तहेदिल से हार्दिक आभार व्यक्त किया।

सामाजिक हित के कार्यक्रम आयोजित

इस अवसर पर जेल उप-अधीक्षक सुरेन्द्र कुमार ने इस राष्ट्रोपयोगी आयोजन की अद्भुत सफलता के लिए स्थानीय आर्ट ऑफ लिविंग परिवार को बधाई देने के साथ साथ हार्दिक आभार प्रकट करते हुए उम्मीद जताई कि आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा भविष्य में भी इसी तरह के सामाजिक हित के कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहेंगे। जेल उप-अधीक्षक सुरेंद्र कुमार ने सभी प्रतिभागी कैदियों को कुछ न कुछ सीखते रहने की उत्कट प्रेरणा देते हुए उम्मीद जताई कि सभी प्रतिभागी कैदी औरों के लिए एक उत्कृष्ट उदाहरण बनकर स्वयं के साथ साथ दूसरों को भी राष्ट्रीय धारा के साथ जोड़ते हुए एक उत्कृष्ट प्रेरणास्रोत बनेंगे।

आयोजन की सफलता में योगदान प्रदान किया

इस सम्पूर्ण आयोजन की सफलता तय करने में जेल अधीक्षक संजय बांगर, जेल उप-अधीक्षक सुरेन्द्र कुमार, जिला आयुर्वेद अधिकारी होशियार सिंह हुड्डा तथा जेल प्रशासन के सभी जेल कर्मचारियों के साथ साथ दीपक सेठ एडवोकेट, मोहित, राजू तथा कमल कान्त गाँधी आदि स्वयंसेवकों ने सराहनीय योगदान प्रदान किया।

ये भी पढ़ें : बेटी के जन्म पर कुंआ पूजन कर दिया बेटी बचाओ का संदेश

ये भी पढ़ें : 30वीं जिला बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया प्रतियोगिता का दूसरा दिन

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular