Homeराज्यहरियाणाकैथल: 1 करोड़ में बेचा लाखों बेरोजगारों युवाओं का भविष्य

कैथल: 1 करोड़ में बेचा लाखों बेरोजगारों युवाओं का भविष्य

सिपाही परीक्षा लीक मामले में 7 अन्य आरोपी गिरफतार, 6 आरोपी 3 दिन के पुलिस रिमांड पर एक को भेजा गया न्यायिक हिरासत में
मनोज वर्मा, कैथल:
हरियाणा पुलिस सिपाही परीक्षा लीक करने के मामले में कैथल पुलिस द्वारा 7 अन्य आरोपियों को गिरफतार किया गया है। एसपी ने बताया कि कैथल सीआईए-1 प्रभारी इंस्पेक्टर अमित कुमार की अगुवाई में पुलिस टीम हरियाणा पुलिस सिपाही लिखित परीक्षा डयुटी के संदर्भ में 7 अगस्त की सुबह गश्त के दौरान पेहवा चौक कैथल के पास मौजूद थी। जहां पुलिस को सहयोगी सूत्रों से गुप्त जानकारी मिली की माता गेट कैथल के पास एक स्वीफट गाडी में तीन युवक मौजूद है। जिनके पास हरियाणा पुलिस सिपाही लिखित परीक्षा की एन्सवर की है तथा वे पेपर लीक करवा रहे है। पुलिस द्वारा माता गेट कैथल के नजदीक से स्वीफट गाडी में बैठे करीब 33 वर्षीय संदीप व करीब 25 वर्षीय गौतम दोनो निवासी खापड जिला जींद तथा करीब 27 वर्षीय नवीन निवासी प्यौदा को एन्सवर की सहित काबू किया गया था। जांच के दौरान युवकों के कब्जे से हरियाणा पुलिस सिपाही लिखित परीक्षा की एन्सवर की बरामद हुई। पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ थाना शहर में मामला दर्ज करके आगामी जांच दौरान उनके गिरोह से जुडे गांव थुआ निवासी करीब 42 वर्षीय आरोपी रमेश को कैथल से तथा गांव किच्छाना निवासी करीब 26 वर्षीय राजेश को अंबाला से काबू करके गिरफतार कर लिया गया था।

आरोपी रमेश कैथल में एक कोचिंग सैंटर चलाता है। आरोपियों से पूछताछ उपरांत उनके गिरोह से जुडे 6वें सदस्य करीब 31 वर्षीय नरेंद्र निवासी हिसार को भी 7 अगस्त की रात सिरसा से काबू करके गिरफतार कर लिया गया। जांच में सामने आया कि आरोपी नरेंद्र द्वारा रमेश को 6 अगस्त की रात ही एन्सवर की उपलब्ध करवाई गई थी। आरोपी नरेंद्र द्वारा 1 करोड रुपए में डील करके एन्सवर की प्राप्त की गई थी। जो रमेश व उसके अन्य साथियों द्वारा 12 से 18 लाख रुपए में आगे जिनको की उपलब्ध करवाई गई उनके साथ बात तय की हुई थी। सभी 6 आरोपी न्यायालय में पेश कर दिए गये, जहां से 3 आरोपी न्यायालय के आदेशानुसार न्यायिक हिरासत में भेज दिए गये, जबकि आरोपी रमेश, संदीप तथा नरेंद्र का गिरोह से जुडे अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी सहित व्यापक पूछताछ के लिये 9 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है।

एसपी ने बताया कि मामले की जांच दौरान सीआईए-2 प्रभारी इंस्पेक्टर सोमबीर सिंह की टीम द्वारा करीब उचाना जिला जींद निवासी 2 आरोपी, तारखा जिला जींद निवासी आरोपी, दरोली खेडा जिला जींद निवासी आरोपी, गांव थुआ जिला जींद निवासी 2 आरोपी तथा गांव सेगा निवासी आरोपी सहित 7 अन्य आरोपियों को भी गिरफतार कर लिया गया। उक्त सभी आरोपियों को आरोपी रमेश द्वारा एन्सवर की उपलब्ध करवाई गई थी। जो 4 आरोपियों का स्वयं का पेपर था। जबकि एक आरोपी ने अपने साली के लडके, दूसरे ने काका के लडके व साले के लिए तथा तीसरे आरोपी द्वारा अपने पुत्र के लिए एन्सवर की प्राप्त की थी। सभी सातों आरोपी सोमवार को न्यायालय में पेश कर दिए गये, जहां से तारखा निवासी आरोपी को न्यायालय के आदेशानुसार न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। जबकि शेष 6 आरोपियों का वारदात में प्रयुक्त मोबाईल फोन की बरामदगी सहित अन्य सदस्यों की गिरफतारी के लिए 3 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है। जांच के दौरान यह सामने आया है कि गिरोह सदस्यों द्वारा परीक्षा देने वाले कुछ युवकों को व्हाटसएप के माध्यम से जबकि कुछ को बाई हैंड एन्सवर की उपलब्ध करवाई गई थी। उनके द्वारा कैंडिडेटस से एन्सवर की सही होने पर बाद में पैसे देने की बात तय की हुई थी। जबकि कुछ युवकों से एडवांस के तौर पर चैक भी लिए हुए थे। एन्सवर की कहां से लीक हुई तथा उक्त आरोपियों के पास कहां से पहुंची इस बारे पुलिस द्वारा आगामी जांच के दौरान गिरोह से जुडे अन्य सदस्यों के ठिकानों पर लगातार छापेमारी की जा रही है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular