Homeराज्यहरियाणाकैथल : उपायुक्त प्रदीप दहिया ने डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया की रोकथाम...

कैथल : उपायुक्त प्रदीप दहिया ने डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया की रोकथाम को लेकर की बैठक

मनोज वर्मा, कैथल :
उपायुक्त प्रदीप दहिया ने कहा कि बरसात के मौसम में डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए जिला स्तरीय मलेरिया वर्किंग कमेटी कार्र्य कर रही है। कमेटी को निर्देश दिए गए हैं जहां भी डेंगू व मलेरिया का लारवा मिले, वहां तुरंत कार्रवाई करते हुए नोटिस भेजें साथ ही 2 हजार रुपये तक का जुमार्ना लगाएं। उन्होंने कहा कि सरकारी कार्यालयों में भी निगरानी टीम को भेजें और लारवा मिलने पर तुरंत नोटिस दें। उपायुक्त प्रदीप दहिया लघु सचिवालय स्थित कांफ्रैंस हॉल में डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया की रोकथाम को लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी निजी व सरकारी कार्यालयों में कूलर, टंकियां, टायरों व ऐसे स्थान जहां पानी एकत्रित हो वहां लारवा की जांच जरूर करें। उपायुक्त ने नगर परिषद को निर्देश दिए कि पूरे शहर में मलेरिया की रोकथाम के लिए आमजन को जागरूक करें और आदेशों की अवहेलना करने पर अधिकत्तम जुमार्ना लगाएं। शहरी क्षेत्र में नगर पालिका व ग्रामीण क्षेत्र में पंचायत विभाग फोगिंग के कार्य को करवाना सुुनिश्चित करें, इस कार्य में कोई भी लापरवाही न बरतें।

विभाग द्वारा जहां भी गंबुजिया मछली छोड़ी जाती हैं व अन्य कार्यों की जीपीएस आधारित फोटोग्राफस भिजवाना सुनिश्चित करें, ताकि कार्य पर निगरानी रखी जा सके। एनटी लारवा एक्टीविटी को भी स्वास्थ्य विभाग पूरा करवाएं। उपायुक्त प्रदीप दहिया ने नागरिकों से आह्वान करते हुए कहा कि वे स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें। एक जगह पर पानी को इक्ट्ठा न होने दें। मच्छर ठहरे हुए पानी मे अंडे देते हैं, जिससे मलेरिया व डेंगू की बीमारी फैलाने वाले मच्छरों की बढ़ोतरी तेजी से होती है। इसलिए मलेरिया उन्मूलन की सभी टीम ठहरे हुए पानी मे काला तेल व टेमिफोस की दवाई का छिडकाव कर रहे हैं, जिससे मच्छर का लारवा खत्म हो सके और जानलेवा बीमारी फैलाने वाले मच्छरों की उत्पत्ति पर पूर्ण रूप से रोक लग सके। अगली समीक्षा बैठक 15 दिन बाद की जाएगी।  इस मौके पर सिविल सर्जन जयंत आहूजा, रोडवेज महाप्रबंधक अजय गर्ग, डीडीपीओ जसविंद्र सिंह, नोडल अधिकारी डा. संदीप जैन, कार्यकारी अभियंता कर्णवीर सिंह, डीईओ अनिल शर्मा, पशुपालन उपनिदेशक डा. मंगल सिंह व अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments