Homeराज्यहरियाणाकैथल : नशे का आदी व्यक्ति परिवार और समाज के लिए अभिशाप...

कैथल : नशे का आदी व्यक्ति परिवार और समाज के लिए अभिशाप : राजा सिंह झींंजर

मनोज वर्मा, कैथल :
जिला उपायुक्त प्रदीप दहिया के कुशल मार्गदर्शन तथा जिला शिक्षा अधिकारी अनिल कुमार एवं सचिव जिला रेडक्रास सोसाइटी रामजी लाल के नेतृत्व में शिक्षा विभाग के जूनियर रेडक्रास काउंसलर अध्यापकों द्वारा जिले में कोरोना वायरस, रक्तदान, कोरोना वैक्सीन, नशा मुक्ति, स्वच्छता इत्यादि के बारे में लोगों को लगातार जागरूक किया जा रहा है। अनेक नशा मुक्ति जागरूकता शिविरों का आयोजन किया जा चुका है। नशे का आदी व्यक्ति अपने परिवार की खुशहाली और सामाजिक विकास में जहां अभिशाप साबित होता है। वहीं राष्ट्र की उन्नति में उसका कोई महत्वपूर्ण योगदान नहीं रहता। यह विचार जिला जूनियर रेडक्रास काउंसलर प्राध्यापक राजा झींंजर ने लोगों को जागरूक करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि युवाओं में नशीले पदार्थों का बढ़ता प्रचलन चिंता का गंभीर विषय है और इसके दुरुपयोग ने जहां दिलो-दिमाग व सोचने की शक्ति को नष्ट किया है। वहीं अनेक गंभीर स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का जन्म हुआ है। झींजर ने कहा कि नशे के आदी व्यक्ति का जीवन लड़ाई झगड़े, चोरी, हिंसा और अपराध में ही गुजरता है और अंत में उसे इस सुंदर संसार से पाप की गठरी बांध परलोक सिधारना पड़ता है। उन्होंने कहा कि जागरूकता और समझदारी से ही समाज को खोखला करने वाली इस बुराई को एकजुटता से ही समाप्त किया जा सकता है।

झींजर ने कहा कि जूनियर रेडक्रास जन जागरूकता मुहिम से शिक्षाविद अध्यापकों को जोड़ा जा रहा है। क्योंकि सामाजिक आस्था और विश्वास की कसौटी एक अध्यापक ही है। कार्यक्रम में समाजसेवी जूनियर रेडक्रास काउंसलर बूटा सिंह ने कहा कि नशे की लत को प्रबल इच्छा शक्ति चाहिए रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि मादक पदार्थ भूख और वजन को कम कर मनुष्य को मानसिक और शारीरिक तौर से असमर्थ बना देते हैं। आजकल बच्चों महिलाओं और युवाओं में इसका बढ़ता प्रचलन गंभीर चिंता का विषय है। समाजसेवी भगवानदास जैन और कश्मीरी लाल गर्ग ने काउंसलर अध्यापकों की इस मुहिम की डटकर सराहना करते हुए कहा कि एक जन आंदोलन के द्वारा ही इस बुराई को धीरे धीरे कम किया जा सकता है। जैन ने कहा कि जूनियर रेडक्रास काउंसलर प्राध्यापक राजा झींंजर की टीम का प्रयास हमेशा से काबिले तारीफ रहा है। हरिगढ़ किंगन स्कूल के जेआरसी काउंसलर जितेंद्र सीडा ने कहा कि लोगों का माना की नशा तनाव मुक्ति का जरिया है। उनके जीवन की सबसे बड़ी भूल है। सीडा ने कहा कि जितना जल्दी हो सके इस बुराई के खात्मे के लिए समाज के हर वर्ग को जिम्मेदारी उठानी चाहिए। इस अवसर पर प्राध्यापक विजय कुमार ठाकुर, धर्म सिंह, बलकार सिंह, उषा रानी, राहुल कुमार कुमार आदि अध्यापक भी उपस्थित थे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments