Homeराज्यहरियाणाकोरोना महामारी के बीच फीस बढ़ाना छात्रों की जेब पर डाका -...

कोरोना महामारी के बीच फीस बढ़ाना छात्रों की जेब पर डाका – दीपक मलिक

संजीव कुमार, रोहतक:

आज जाट कॉलेज में इनसो प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक मलिक के नेतृत्व में छात्रों से बढ़ी हुई फीस का विरोध तथा अपना मांग पत्र जाट कॉलेज प्रिंसिपल डॉ महेश ख्यालिया जो को सौंपा। छात्र नेता दीपक मलिक ने बताया कि कोरोना महामारी के बीच कॉलेज प्रशासन ने यू.जी. व पी जी दोनों कोर्सो की फीस 500 से 2500 तक बढ़ा दी गई है। जिसका सीधा प्रभाव छात्रों की आर्थिक स्थिति पर पड़ता है।
उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में सबको आर्थिक संकट पड़ा है। ज्यादा छात्र ग्रामीण आंचल से आते है। जहाँ कोरोना संकट में सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा हैं। इस माहौल में छात्र तो कॉलेज प्रशासन से फीस में कुछ रिायत की आस लगाए बैठे थे, इस बीच ये वृद्धि उनके मानसिक हालात पर भी प्रभाव डालेगी।
दीपक मलिक ने बतया कि प्रथम वर्ष की फीस दूसरे व तीसरे वर्ष के छात्रों से कुछ ज्यादा होती है। पी जी कक्षाओं में भी प्रथम वर्ष की फीस तुलना करके तीनों वर्षो की फीस बराबर कर दी जो सरासर गलत है। जल्द से जल्द इस फैसले को वापिस लिया जाए।
दीपक ने बताया कि राम विलास शर्मा जी के शिक्षामंत्री रहते हरियाणा में फीस बढ़ोतरी हुई थी जिसको लेकर इनसो ने पूरे हरियाणा में प्रदर्शन किये थे। विश्वविद्यालयों की तालाबंदी की थी। इनसो के लम्बे विरोध के बाद सरकार की फीस वृद्वि का फैसला वापिस लेने को कहा था। सभी कॉलेजों तथा विश्वविद्यालयों को पत्र जारी कर फीस लौटोने को कहा था। बहुत सारे कॉलेजों ने फीस लौटा भी दी। जाट कॉलेज ने अभी तक छात्रों की फीस वापिस नहीं लौटाई है। हमनें मांग की जल्द से जल्द छात्रों को वो बढ़ी हुई राशि वापिस की जाए।
जाट कॉलेज प्राचार्य ने छात्रों की दोनों मांगें सुनकर जल्द समाधान की बात कही। उन्होंने कहा कि कमेटी बनाकर जल्दी दोनों मांगों पर संज्ञान लिया जाएगा।
इस अवसर पर संदीप देशवाल, प्रदीप घुसकानी, अजीत, मोहित, कृष्ण पुनिया, पवन कादयान, साहिल मलिक, प्रवेश मलिक, सात्विक जागड़ा, साहिल गहलावत, नितिन दलाल, मन्टु देशवाल आदि छात्र मौजूद रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular