Homeहरियाणाहिसाररोडवेज कर्मशाला की दीवार तोड़कर गेट बनाना राजनीतिक लाभ लेने व चहेतों...

रोडवेज कर्मशाला की दीवार तोड़कर गेट बनाना राजनीतिक लाभ लेने व चहेतों को फायदा पहुंचाने का प्रयास  :  सांझा मोर्चा

कहा -शीघ्र ही बैठक बुलाकर होगा आंदोलन की रणनीति पर विचार

आज समाज डिजिटल,हिसार:
हरियाणा रोडवेज कर्मचारी सांझा मोर्चा ने मंत्री डा. कमल गुप्ता के निर्देशों पर बस अड्डा कर्मशाला की दीवार तोड़कर रास्ता बनाने की प्रक्रिया को केवल राजनीतिक लाभ लेने व चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए इस्तेमाल की जा रही प्रक्रिया बताया है। सांझा मोर्चा ने कहा है कि यदि दीवार तोड़ऩे का काम तुरंत नहीं रोका गया तो शीघ्र ही आपात बैठक बुलाकर आंदोलन को घोषणा की जाएगी क्योंकि दीवार तोड़कर रास्ता बनाने से न तो रोडवेज को कोई फायदा है और न ही जनता को फायदा है, उल्टा किलोमीटर बढऩे से किराया बढ़ेगा, जिससे जनता पर आर्थिक बोझ पड़ेगा।

जाम के मूल कारणों की तरफ ध्यान नहीं दे रहे मंत्री व प्रशासनिक अधिकारी

सांझा मोर्चा के वरिष्ठ नेता रामसिंह बिश्नोई, राजबीर दुहन, सूरजमल पाबड़ा व पवन बूरा ने संयुक्त बयान में कहा कि बस अड्डा के कर्मशाला की दीवार तोड़कर रास्ता बनाना केवल राजनीतिक लाभ लेने व चहेतों को फायदा पहुंचाने की प्रक्रिया से अधिक कुछ भी नहीं है। यह दीवार तोड़कर रास्ता बनाने से ट्रैफिक जाम से तनिक भर भी निजात मिलने की कोई संभावना नहीं है क्योंकि जहां पर बस अड्डे का गेट होगा या बसों का आना—जाना होगा, वहां पर आटो व रेहडिय़ों का लगना भी अवश्यंभावी है और आटो व रेहडिय़ां होंगी तो जाम भी लगेगा।
मोर्चा नेताओं ने कहा कि शहर में जाम बस या बड़े वाहनों के कारण नहीं बल्कि आटो की अधिक संख्या व उनके बेतरतीब चलने से है। यह भी ध्यान में आया है कि राजनीतिक हस्तक्षेप पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की छत्रछाया में सैंकड़ों आटो चल रहे हैं इसलिए उन पर हाथ डालने की बजाय जाम से निजात पाने के नाम पर बस अड्डा कर्मशाला की दीवार तोड़कर नया रास्ता बनाने का प्रयास किया जा रहा है, जो केवल जनता के धन की बर्बादी, रोडवेज के लिए नुकसानदायक व जनता पर आर्थिक बोझ डालने वाला कदम है।

कर्मशाला की दीवार तोडऩे से कर्मशाला का कैंपस बिल्कुल सिकुड़ जाएगा

सांझा मोर्चा नेताओं ने कहा कि कर्मशाला की दीवार तोडऩे से कर्मशाला का कैंपस बिल्कुल सिकुड़ जाएगा, कर्मचारियों को कर्मशाला में काम करने के लिए जगह नहीं रहेगी, अधिकतर बसें शहर की परिधि में ही चलती रहेगी, जिससे यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। नया गेट बनाते ही वहां आटो व रेहडिय़ों का जाम लग जाएगा, ऋषि नगर स्थित शमशान घाट में दाह संस्कार के लिए आने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। इसके अतिरिक्त यह रास्ता आबादी क्षेत्र से गुजर रहा है, जिससे हर समय दुर्घटना का भय बना रहेगा। मोर्चा नेताओं ने जिला प्रशासन व रोडवेज प्रशासन से अपील की कि कर्मशाला की दीवार तोड़कर रास्ता बनाने का काम तुरंत रोका जाए अन्यथा इसका पुरजोर विरोध किया जाएगा। इसके लिए सांझा मोर्चा शीघ्र ही बैठक बुलाकर आंदोलन की रणनीति तय करेगा।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular