HomeहरियाणाकरनालGovernor Bandaru Dattatreya In Karnal देश की विरासत शहीदों की जीवन गाथा...

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal देश की विरासत शहीदों की जीवन गाथा पाठ्यक्रम में हो शामिल : राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

इशिका ठाकुर, करनाल
हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने बुधवार को अपने करनाल आगमन पर, निफा संस्था की ओर से शहर के गोल्डन मूमैंट बैंक्टहाल में शहीदी दिवस के अवसर पर आयोजित राष्ट्रीय युवा सम्मेलन एवं विशाल रक्तदान शिविर के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि देश के नायकों शहीदे-आजम सरदार भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव को नमन किया और उन सभी वीर शहीदों को भी प्रणाम किया, जिन्होंने देश की आन, बान और शान के लिए बलिदान दिया और देश को आजाद करवाया।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

राज्यपाल ने कहा कि हमारे वीर शहीदों की गाथाओं से देश का इतिहास भरा पड़ा है। 23 मार्च का दिन भारतीय इतिहास में कभी भुलाया नहीं जा सकता क्योंकि 1931 की रात्रि में तीनों नायकों ने अपने आप को देश के लिए न्यौछावर कर दिया था। अदालत के आदेशों के अनुसार भगतसिंह, राजगुरू और सुखदेव को 24 मार्च 1931 को फांसी दी जानी थी लेकिन अंग्रेजी शासन द्वारा हमारे तीनों सूरमाओं को 23 मार्च को ही फांसी लगा दी गई।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

सरदार भगत सिंह ने कहा था कि मैं महत्वकांक्षा, आशा और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हूँ, पर मैं जरूरत पडऩे पर ये सब त्याग कर सकता हूँ, यही सच्चा बलिदान है और भगत सिंह ने यही किया। जब देश को जरूरत पड़ी तो उन्होंने देश की आजादी के लिए हंसते हंसते फांसी के फंदे को गले लगा लिया।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

उन्होंने कहा कि आज देश आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर इन वीर शहीदों को गर्व से याद कर रहा है। सरदार भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव तीनों नायक ऐसे सच्चे राष्ट्रवादी थे जिनके खून में देशभक्ति का भाव कूट-कूट कर भरा हुआ था। इन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए देश के युवाओं में नए जोश के साथ क्रांति की भावना का संचार किया।

लाखों युवा उनके इन्कलाब के नारे के साथ मिलकर अंग्रेजों के खिलाफ उठ खड़े हुए थे जिसके चलते अंग्रेजों को 1947 में भारत छोडऩा पड़ा और देश को स्वतंत्रता मिली। आज हम उन्हें याद करके देश की युवा पीढ़ी में वीरता का साहस भरकर उन्हें देश की जिम्मेवारी के लिए हर तरह के बलिदान के लिए तैयार कर रहे हैं।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

राज्यपाल ने कहा कि विश्व में भारत की पहचान युवाओं के देश के रूप में है। देश में 35 वर्ष की आयु तक के करीब 65 (पैंसठ) करोड़ से अधिक युवा हैं, जिसके कारण देश में अथाह युवा एवम श्रमशक्ति विद्यमान है। आज देश की उन्नति में युवाओं की भागीदार सुनिश्चित करने के लिए उन्हें अच्छे संस्कार, उचित शिक्षा एवं प्रोद्यौगिक विशेषज्ञता तथा ई-गवर्नेस द्वारा नए स्टार्टअप शुरू करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसीलिए दुनिया आज नए भारत की ओर आशा व उम्मीद की निगाह से देख रही है।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

आज की युवा पीढ़ी को जुआ, हिंसा व नशा से मुक्त होने की आवश्यकता है। देश में स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को युवा दिवस के तौर पर मनाया जाता है। उनके आदर्शों से भारत को विकसित और समृद्ध देश बनाने और युवाओं की असीमित ऊर्जा को जागृत करने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय युवा नीति बनाई है। इसी तर्ज पर हरियाणा सरकार ने भी नई युवा नीति बनाई है। इसके साथ-साथ केन्द्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय युवा शक्तिकरण और खेलो इंडिया जैसे कार्यक्रम शुरू किए गए।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

केन्द्र सरकार ने वर्ष 2022-23 के बजट में अकेले खेलो इंडिया के लिए एक हजार करोड़ रूपये से भी अधिक की राशि का प्रावधान किया गया है। एन.एस.एस योजना का विस्तार कर इसे देश के 491 विश्वविद्यालय, 16 हजार से भी अधिक महाविद्यालयों और हजारों स्कूलों में शुरू करके लगभग 37 लाख छात्रों को जोड़ा है।
उन्होंने नीफा संस्था द्वारा राष्ट्र और समाज के प्रति युवाओं की, और अधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन करने पर बधाई दी और कहा कि निफा की पूरी टीम बधाई की पात्र है।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

रक्तदाताओं के साहस की सराहना करते हुए उन्हें शुभकामनाएँ देते राज्यपाल ने कहा रक्तदान एक महा दान है। जैसा कि कहते हैं ”रक्तदान – बचाए जान”। क्योंकि रक्तदान करने वाला व्यक्ति जरूरतमंद व्यक्ति की जान बचाता है।
राज्यपाल ने कहा कि भारतीय इतिहास दानी वीरों से भरा पड़ा है। महर्षि दधीचि जिन्होंने मानव कल्याण के लिए अपनी अस्थियों (हड्डियों) तक का दान कर दिया था। देवताओं के मुख से यह जानकर कि केवल दधीचि की अस्थियों से बनाए गए धनुष से ही असुरों का संहार किया जा सकता है, यह सुनकर महर्षि दधीचि ने अपना शरीर त्याग कर अस्थियों का दान कर दिया था। देवताओं ने महर्षि दधीचि की हड्डियों का धनुष बनाकर वृत्रासुर राक्षस का वध किया।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

उन्होंने कहा कि हरियाणा को वीर भूमि के नाम से जाना जाता है। भारत की तीनों सेनाओं एवं सुरक्षा बलों में यहां के सबसे अधिक जवान देश की सेवा कर रहे हैं। इसलिए हमारे प्रदेश के युवाओं की रक्तदान जैसे महान कार्यों में बढ़-चढ़ कर भाग लेने की जिम्मेवारी और अधिक बढ़ जाती है।
इस अवसर पर राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने निफा की और से देशभर से आमन्त्रित व निफा से जुडे 27 युवाओं को प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह भेंट किए। स्मृति चिन्ह प्राप्त करने वालों में निफा के नये राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिमेश डेबरोय तथा जापान से आए दो युवा ईसुको नन्दी व फुसाको फुजीवारा भी शामिल थे। करनाल के एसडीएम गौरव कुमार को भी राज्यपाल ने, रक्तदान करने के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

अपने सम्बोधन से पूर्व राज्यपाल ने कार्यक्रम स्थल पर, शहीदे-आजम सरदार भगत सिंह, राजगुरू व सुखदेव के चित्र पर पुष्पाजंलि अर्पित की और निफा द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तरीय संवेदना चित्रकाल प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इसके पश्चात गोल्डन मूमैंट के हाल में आयोजित विशाल रक्तदान शिविर का अवलोकन किया और रक्तदाताओं का उत्साह बढ़ाया।

गौर हो कि शहर की करीब 30 संस्थाओं, जिनमें ई-रिक्शा युनियन भी शामिल थी, ने रक्तदान शिविर के आयोजन में अपना सहयोग दिया। शिविर में रक्त देने आए युवाओं में गजब का उत्साह था। उन्होंने सम्बोधन मंच पर दीपशिखा प्रज्ज्वलित की।
इस मौके पर निफा की और से राज्यपाल, सांसद, उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक सहित कई महानुभावों को स्मृति चिन्ह व शहीद भगत सिंह की जेल डेयरी पुस्तक देकर सम्मानित किया गया।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

निफा के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रीतपाल सिंह पन्नू ने कार्यक्रम में प्रधारे राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, सांसद संजय भाटिया और सम्मानित अतिथियों का स्वागत किया तथा निफा की उपलब्धियों बारे बताया। उन्होंने बताया कि गत वर्ष शहीदी दिवस पर एक दिन में एक लाख 3 हजार युनिट रक्त एकत्रित करने का रिकोर्ड बनाया था। उन्होंने जानकारी दी कि निफा की ओर से एक एप्प व वैब साइड लॉच की जाएगी, जिसमें देश के हर जिले से दानी जुडेगे।

कार्यक्रम में उपायुक्त अनीश यादव, पुलिस अधीक्षक गंगा राम पुनिया ,मीडिया कोर्डिनेटर जगमोहन आनन्द, मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि संजय बठला, नव चेतना मंच के कोर्डिनेटर एस.पी. चैहान, नरेश भराना, पंजाबी साहित्य एकेडमी हरियाणा के उपाध्यक्ष गुरविन्द्र सिंह, स्पीडवेल के निदेशक नीरज गुप्ता, निफा के पैटर्न डा. एल.आर. चौधरी, पैटर्न प्रवेश गाबा तथा शहर के अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

Governor Bandaru Dattatreya In Karnal

Read Also : Rotary Club Banga Aastha शहीदे आजम सरदार भगत सिंह के साथ उनकी माता विद्यावती को भी दी श्रद्धांजलि

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular