Homeहरियाणापानीपतहनी ट्रैप में फंसाकर वसूली करने के मामले में तीन महिलाओं सहित...

हनी ट्रैप में फंसाकर वसूली करने के मामले में तीन महिलाओं सहित पांच गिरफ्तार

आज समाज डिजिटल, पानीपत:
पानीपत। तहसील कैंप निवासी एक युवक को हनी ट्रैप में फंसाकर एक लाख 13 हजार रुपए वसूलने व 4 लाख की डिमांड करने के मामले में गहनता से जांच करते हुए सीआईए-थ्री पुलिस की टीम ने तीन महिलाओं सहित पाचं आरोपियों को गिरफ्तार किया। प्रारंम्भिक पुलिस पुछताछ में पांचों आरोपियों ने योजनाबद्ध तरिके से मिलकर वारदात को अंजाम देने बारे स्वीकार किया। वसूली गई नगदी में से 25 हजार रुपए आरोपियों के कब्जे से बरामद कर पुलिस टीम ने गिरफ्तार पांचो आरोपियों को न्यायालय में पेश किया, जहां से तीनों आरोपी महिलाओं को न्यायिक हिरासत जेल भेजा गया, वहीं दोनों आरोपी युवकों को दो दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया।

आपत्तिजनक हालत में दोनों की वीडियो बना ली

सीआईए-थ्री प्रभारी इंस्पेक्टर अंकित ने बताया तहसील कैंप निवासी एक युवक ने 14 मई को थाना माडल टाउन पुलिस को शिकायत देकर बताया था कि उसकी करीब 3 साल से एक महिला के साथ जान पहचान थी। दोनों ने इस दौरान दो बार संबंध बनाए। महिला ने उससे 65 हजार रुपए ऐंठ लिए। कुछ समय पहले महिला ने उसका मोबाइल नंबर अपनी सहेली को दे दिया। सहेली पीछले एक महीने से उसके साथ फोन पर बातचीत करने के साथ ही वॉटसएप पर चैट कर रही थी। महिला ने 13 मई को कच्चा कैंप में उसको अपने घर पर बुला लिया और संबंध बनाए। पहले वाली महिला इस दौरान अपने पति व अपनी एक अन्य सहेली व सहेली के पति को साथ लेकर मौके पर आए और मारपीट कर उसकी आपत्तिजनक हालत में दोनों की वीडियो बना ली।

बलात्कार के केस में फंसाने की धमकी

आरोपियों ने उससे मौके पर 4 एटीएम कार्ड, गाड़ी की आरसी, आधार कार्ड व 20 हजार रूपए छीन लिए और झूठे बलात्कार के केस में फंसाने की धमकी देते हुए 14 मई को 4 लाख रूपए देने की मांग की। पहले वाली महिला के पति ने क्यूआर कोड के जरिए उसके फोन से 93 हजार रूपए ट्रांसफर कर लिए। पांचों आरोपियों ने मिलकर योजनाबद्ध तरीक से फंसाकर उससे नगदी ऐंठ ली। युवक की शिकायत पर पांचों आरोपियों के खिलाफ थाना माडल टाउन में आईपीसी की धारा 379ए, 384 व 389 के तहत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई अमल में लाई गई थी।

केस सीआईए-थ्री पुलिस टीम को सौंपा

इंस्पेक्टर अंकित ने बताया उक्त मामला पुलिस अधीक्षक शशांक कुमार सावन के संज्ञान में लाया गया। उन्होंने मामले की गम्भीरता को देखते हुए केस सीआईए-थ्री पुलिस टीम को सौंपा था। सीआईए-थ्री पुलिस की टीम ने विभिन्न पहलुओं पर छानबीन करते हुए रविवार को मामले में तीनों महिला आरोपियों सहित पांच को गिरफ्तार कर गहनता से पुछताछ की तो पुछताछ में पांचों आरोपियों ने मिलकर वारदात को अंजाम देने बारे स्वीकार किया।

ब्लैकमेल करके शार्ट कट तरीके से पैसे कमाने के चक्कर में दिया वारदात को अंजाम

आरोपियों से की गई पुछताछ में सामने आया कि पहले वाली महिला की करीब 3 साल पहले अंकित के साथ शादी हुई थी। शादी के कुछ महीने बाद अंकित को पता चला की उसकी पत्नी कि तहसील कैंप निवासी एक युवक से काफी बातचीत होती थी। करीब दो महीने पहले पति पत्नी सावन पार्क में घूमने गए थे। वहां पर उनकी मुलाकात एक महिला व उसके पति इमरान और एक अन्य युवती से हुई थी। बाद में सभी दोस्त बन गए। पांचों ने मिलकर योजना बनाई की किसी को ब्लैकमेल करके शार्ट कट तरीके से मोटे पैसे कमा लिए जाए।
योजनाबद्ध तरीके से दिया अंजाम
आरोपी अंकित की पत्नी ने तहसील कैंप निवासी जानकार युवक का फोन नंबर सहेली को दे दिया। सहेली ने उक्त नंबर पर बातचीत कर युवक को दोस्त बना लिया। 13 मई को योजनाबद्ध तरीके से सहेली ने तहसील कैंप निवासी युवक को इमरान के घर बुलाया और संबध बनाए। इसी दौरान प्लानिंग अनुसार चारो आरोपी मौके पर पहुंच गए और अंकित ने अपने फोन में दोनो की आपत्तिजन हालत में विडियो बना ली। सभी ने मारपीट करते हुए युवक से एटीएम कार्ड, गाड़ी की आरसी, आधार कार्ड व 20 हजार रूपए छीन लिए व 93 हजार रुपए क्यूआर कोड के जरिए उसके फोन से ट्रांसफर कर लिए।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular