Homeराज्यहरियाणाकरनाल : किसानों का आंदोलन होगा अहंकारी भाजपा सरकार के कफन में...

करनाल : किसानों का आंदोलन होगा अहंकारी भाजपा सरकार के कफन में कील साबित : रमेश सैनी

प्रवीण वालिया, करनाल :
हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रदेश महासचिव रमेश सैनी ने कहा कि किसान, मजदूर के साथ-साथ छोटे दुकानदार व्यापारी और आम जागरूक नागरिकों ने जिस प्रकार सामूहिक रूप से देश व्यापी बंद को समर्थन दिया उससे एक बात तय है कि किसान मजदूर का यह आंदोलन अंहकारी भाजपा सरकार के कफन में कील साबित होगा। उन्होंने कहा कि अब यह संघर्ष इस अहंकारी और अत्याचारी सरकार के खिलाफ पहले से अधिक मजबूत होकर जनांदोलन का रूप ले चुका है। कई जगहों पर व्यापारियों ने खुद अपने संगठनों के माध्यम से किसानों के बीच बैठकर उनका समर्थन किया और उन्हें आश्वासन दिया कि इस संघर्ष की मुहिम में उनका योगदान आगे भी मिलता रहेगा। जन आंदोलन इस प्रकार से दिखाई दिया कि कई जगहों पर प्रदेश के विभिन्न मुख्य मार्गों पर अलग-अलग गांव से लोगों ने आकर सडकों पर बैठकर किसान मजदूर विरोधी सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। प्रदेश के छोटे कस्बों में भी दुकानदारों और किसान मजदूरों ने मिलकर अहंकारी सरकार को अपनी ताकत दिखाई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का हर कार्यकर्ता किसान मजदूर के इस संघर्ष में उनकी हर मुहिम और रणनीति के साथ शामिल है। जिस प्रकार गांधीवादी अहिंसात्मक विचारधारा से जन आंदोलन का रूप किसान-मजदूर ने दिया हैै। वह सत्तासीन विघटनकारी एवं प्रपंचकारी सरकार की विचारधारा के लिए जनता की तरफ से एक चुनौती है। हालांकि कई जगह साजिश एवं षड्यंत्र की विचारधारा के लोगों ने माहौल को खराब करने की कोशिश की लेकिन सत्य और अहिंसा के साथ अपने हक अधिकार के लिए किसान सच्ची नीयत से लगा हुआ है। राष्ट्रीय कांग्रेस कमेटी की नेता की सोनिया गांधी, राहुल गांधी, कांग्रेस हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल, विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा, प्रदेशाध्यक्ष बहन कुमारी शैलजा ने किसानों की इस मुहिम का समर्थन करते हुए कार्यकतार्ओं को निर्देश दिया कि किसान के संघर्ष और उसकेसम्मान की रक्षा में कांग्रेस कार्यकर्ता सदैव तत्पर रहेंगे। सैनी ने कहा कि अब भी समय हैै। अहंकारी सरकार को समझ लेना चाहिए कि देश का आम नागरिक उनकी नीतियों से उनके शासन की विचारधारा से तंग आ चुका है। सत्ता का अहंकार छोडकर जनता के अनुरूप शासन करना चाहिए और तीन कृषि काले कानून तुरंत वापिस ले।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments