Homeराज्यहरियाणाकोरोना काल में चिकित्सक सम्मान के हकदार : डॉ.ममगाईं

कोरोना काल में चिकित्सक सम्मान के हकदार : डॉ.ममगाईं

मनोज वर्मा (कैथल) चिकित्सा केवल पैसा कमाने के लिए पेशा मात्र नहीं है, बल्कि समाज के कल्याण और उत्थान का सबसे महत्वपूर्ण माध्यम है। कोरोना काल में चिकित्सक वास्तव में सम्मान के सबसे बड़े हकदार हैं। यह कहना है सिविल सर्जन और हृदय एवं छाती रोग विशेषज्ञ डॉ.शैलेंद्र ममगाईं शैली का। वे राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस के अवसर पर जिला नागरिक अस्पताल में आयोजित समारोह में बोल रहे थे।

26 चिकित्सक दे चुके बलिदान

डॉ. ममगाईं ने इस अवसर पर कहा कि कोरोना महामारी में देश में ड्यूटी के दौरान 700 से ज्यादा और हरियाणा में 26 चिकित्सकों की मौत हो चुकी है । इस चिलचिलाती गर्मी के मौसम में हर समय पीपी किट पहनकर मरीजों के इलाज में जुटे चिकित्सकों के प्रति र्दुव्यवहार करना न्याय संगत और तर्कसंगत नहीं है। कोरोना की पहली और दूसरी लहर के दौरान बहुत से चिकित्सकों और चिकित्सा स्टाफ को अपनी छुट्टियां रद्द कर प्रतिदिन लंबे -लंबे समय तक कार्य करना पड़ा और बहुत से चिकित्सा कर्मी महीनों-महीनों तक अपने परिवार और छोटे बच्चों से भी दूर रहे हैं। डॉ.शैली ने बताया कि 1991 में शुरू एक जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस समाज के प्रति चिकित्सकों के समर्पण और प्रतिबद्धता के लिए कृतज्ञता और आभार व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। पश्चिम बंगाल के प्रथम मुख्यमंत्री और फिजीशियन डॉ. बिधान चंद्र राय की जन्म तिथि और पुण्य तिथि 1 जुलाई को होने के कारण उनको सम्मान देने के चलते यह दिन मनाया जाता है। जिनकी याद में 1976 से प्रतिवर्ष चिकित्सा क्षेत्र में प्रतिष्ठित डॉ.बी. सी. राय राष्ट्रीय पुरस्कार दिया जाता है। वे 1948 से 1962 तक ऐसे मुख्यमंत्री थे,जो पद पर होते हुए भी नि:शुल्क रोगों का उपचार करते थे और उन्हें 4 फरवरी, 1961 को भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

केक काटकर मनाया दिवस

इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ. शैली द्वारा केक काटा गया और सभी चिकित्सकों ने डॉ.बी. सी. राय को श्रद्धांजलि देते हुए उनके दिखाए रास्ते पर चलने का संकल्प लिया। इस अवसर पर वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ.रेनू चावला, स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ.सुमन लता, डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. बलविंदर गर्ग, दंत रोग विशेषज्ञ डॉ.गौरव पूनिया, पैथोलॉजिस्ट डॉ. राजेंद्र कुमार, हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ.अमन सूद, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ.कविता गोयल, नेत्र रोग परामर्शक डॉ.आर.पी. गोयल, कान- नाक- गला विशेषज्ञ डॉ. राकेश मित्तल व नमिता गुप्ता, शल्य परामर्शक डॉ.आर.डी.चावला और हेल्थ मैप डायग्नोस्टिक के मैनेजर पारस कौशिक मौजूद थे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular