Homeराज्यहरियाणारोहतक : काली पट्टी बांधकर सरकार के खिलाफ किया रोष प्रदर्शन

रोहतक : काली पट्टी बांधकर सरकार के खिलाफ किया रोष प्रदर्शन

संजीव कुमार, रोहतक :
हरियाणा एडिड कॉलेजेज नॉन टीचिंग यूनियन के आह्वान पर जाट कॉलेज में कार्यरत गैर शिक्षक कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ काली पट्टी बांधकर रोष प्रदर्शन किया। हरियाणा एडिड कॉलेज नॉन टीचिंग एंपलाईज यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष श्री सुरेंद्र सिंह दिमाना ने बताया कि हरियाणा सरकार ने प्रदेश के सभी विभागों में संशोधित मकान किराया भत्ता अगस्त, 2019 से लागू कर दिया है लेकिन एडिड कॉलेजों के कर्मचारी आज तक इस लाभ से वंचित रखा गया है। श्री दिमाना ने बताया कि आज पूरे प्रदेश के गैर शिक्षक कर्मचारियों ने अपने-अपने कॉलेजों में काली पट्टी बांधकर सरकार के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया है। श्री दिमाना ने कहा कि सरकारी सहायता प्राप्त कॉलेजों के कर्मचारियों का मकान किराया भत्ता सरकारी कॉलेजों में कार्यरत कर्मचारियों के समकक्ष है। इससे पहले प्रदेश में जब भी संशोधित मकान किराया भत्ता लागू हुआ है तो सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में भी उनके समकक्ष ही लागू किया गया। मकान किराया भत्ता नोटिफिकेशन लागू करवाने के लिए टीचिंग और नॉन टीचिंग यूनियन के सदस्य कई बार शिक्षा मंत्री से मिलकर गुहार लगा चुके  लेकिन फाइल लंबे समय से वित्त विभाग में विचाराधीन है। श्री दिमाना ने कहा कि सरकार के इस सौतेले व्यवहार से कर्मचारियों में पूर्ण रोष है। इसके परिणाम स्वरूप आज कॉलेज के गैर शैक्षिक कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर महाविद्यालय के गेट पर प्रदर्शन करके अपना रोष प्रकट किया। उन्होंने कहा कि इसके बाद भी यदि सरकार ने एचआरए की फाइल पर जल्दी कोई निर्णय नहीं लिया तो सभी कॉलेजों में कार्यरत कर्मचारी सडकों पर उतरकर सरकार के खिलाफ संघर्ष करेंगे। एडिड कॉलेजों के कर्मचारियों को एसीपी, मेडिकल, एक्सग्रेशिया, सीसीएल इत्यादि लाभ भी नहीं मिलते। श्री सुरेंद्र सिंह दीमाना ने बताया कि यदि सरकार आने वाले समय में कुछ ठोस कदम नहीं उठाती तो यूनियन को मजबूरन पेन डाउन स्ट्राइक पर जाना पड़ेगा। पेन डाउन स्ट्राइक से यदि कॉलेज प्रशासन या छात्र-छात्राओं को शिक्षा के क्षेत्र में किसी भी प्रकार का नुकसान होगा तो उसके लिए सरकार स्वयं जिम्मेदार होगी। इस अवसर पर कॉलेज के सभी गैर शिक्षक कर्मचारी उपस्थित रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments