Homeराज्यहरियाणायमुनानगर : 23.5 करोड़ रुपये होगी निगम की आय, शहर के विकास...

यमुनानगर : 23.5 करोड़ रुपये होगी निगम की आय, शहर के विकास में आएगी तीव्रता

प्रभजीत सिंह लक्की, यमुनानगर :
नगर निगम द्वारा प्रस्तावित 100 एडवरटाइजमेंट साइटों ( लगभग 30100 वर्ग फुट एरिया) के लिए अनुमानित 7.5 करोड़ रुपये का सालाना लक्ष्य रखते हुए टेंडर निकाल दिया गया है। निगम की ओर से तीन साल के लिए टेंडर लगाया है। इससे निगम की अनुमानित 23.5 करोड़ रुपये रिकार्ड एडवरटाइमेंट व होर्डिंग की प्रस्तावित आय होगी। टेंडर में प्रस्तावित 100 साइटों में से 75 साइट्स यूनिपोल की है। जिनमें से 50 साइट्स दोनों तरफ की है व 25 साइट एक साइड की है। 10 गैंट्रीज दोनों तरफ की है व सार्वजनिक शौचालयों की 15 साइट्स है। निगम की ओर से वेबसाइट पर टेंडर अपलोड किया जा चुका है। इसको लेकर 12 अक्तूबर को सुबह 11 बजे निगमायुक्त कार्यालय में प्रोंविड मीटिंग रखी गई है। फीस जमा नहीं करवाने वाली एजेंसियों के खिलाफ होगी कार्रवाई पिछले तीन साल से एडवरटाइजमेंट फीस की चोरी कर रही एजेंसियों के विरूद्ध नगर निगम ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। निगम की ओर से जहां शहर में अवैध रूप में लगे होर्डिंग व बैनर हटाए जा रहे हैं, वहीं एजेंसियों को नोटिस देने की प्रक्रिया चल रही है। जिन एजेंसियों को अंतिम नोटिस दिए जाने के बावजूद भी एडवरटाइजमेंट फीस कार्यालय में जमा नहीं करवाई है। उनके खिलाफ मामला दर्ज करने की कार्यवाही की जा रही है
अवैध होर्डिंग व पोस्टरों पर लगेगी रोक:
नगर निगम की 100 साइटों के टेंडर अलॉट होते ही कोई भी अवैध रूप से होर्डिंग व बैनर नहीं लगा पाएगा। निगम एरिया में यूनिपोल, सड़कों किनारे, बस क्यू शेल्टर व सार्वजनिक शौचालयों पर अब अवैध रूप से कोई भी होर्डिंग व बैनर नहीं लगा सकेगा। इससे निगम को सलाना करोड़ों रुपये का राजस्व आने के साथ-साथ विज्ञापन के अवैध धंधे पर भी रोक लगेगी। निगम के राजस्व में करोड़ों रुपये आने से शहर के विकास में भी तीव्रता आएगी। नगर निगम द्वारा एडवरटाइजमेंट फीस की आय बढ़ाने के गंभीर प्रयास किए जा रहे है। प्रस्तावित टेंडर में पहली बार एजेंसियों को साइट के चयन की स्वतंत्रता प्रदान की गई है। चयनित की गई साइटों का हरियाणा एडवरटाइजमेंट बाईलॉज, 2018 की सभी शर्तों को पूरा करते हुए नगर निगम से अनुमोदन करवाना होगा।
– अजय सिंह तोमर, आयुक्त, नगर निगम।
एडवरटाइजमेंट कार्य को प्रभावी बनाने एवे निपटान में तेजी लाने के लिए निगम की रेंट शाखा में अलग सेल बनाया गया है। जिसमें क्षेत्रीय कराधान अधिकारी अजय वालिया, रेंट लिपिक संदीप, रेंट सहायक देशराज की ड्यूटी लगाई है। मामले के सभी तकनीकी कार्य की देखरेख सहायक अभियंता वरूण शर्मा द्वारा की जाएगी।
– अशोक कुमार, उप निगम आयुक्त, नगर निगम।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular