Homeराज्यपंजाबपंजाब और हरियाणा में राजधानी के लिए विवाद, किसका है चंडीगढ़ Controversy...

पंजाब और हरियाणा में राजधानी के लिए विवाद, किसका है चंडीगढ़ Controversy for Capital in Punjab-Haryana

Controversy for Capital in Punjab-Haryana

आज समाज डिजिटल, अंबाला:
Controversy for Capital in Punjab-Haryana : पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद एक बार फिर चंडीगढ़ के मुद्दे पर रस्साकशी शुरू हो गई है। इधर, पंजाब सरकार की ओर से चंडीगढ़ को अपने दायरे में लाने के लिए विधानसभा में एक प्रस्ताव पास किया। इसके पास होते ही हरियाणा में सभी दलों ने इसका विरोध शुरू कर दिया। इधर हरियाणा ने भी 5 अप्रैल को विशेष सत्र बुला लिया है।

चंडीगढ़ दोनों की राजधानी, और रहेगा

इस प्रस्ताव के खिलाफ हरियाणा में लगभग सभी दलों ने अपना गुस्सा जाहिर किया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि चंडीगढ़ हरियाणा और पंजाब की संयुक्त राजधानी है और रहेगा। उन्होंने कहा कि दोनों राज्यों के पास चर्चा के लिए  चंडीगढ़ के अलावा कई अन्य मुद्दे हैं। यहां तक कि विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी इस मुद्दे पर खट्टर का समर्थन किया। हुड्डा ने कहा कि पंजाब का प्रस्ताव महज एक राजनीतिक एजेंडा है।

एसवाईएल का पानी दे पंजाब

हुड्डा ने कहा कि शाह आयोग की रिपोर्ट के अनुसार चंडीगढ़ हरियाणा का है। पंजाब हमें हमारे हिस्से का पानी भी नहीं दे रहा है। चंडीगढ़ एयरपोर्ट में भी हमारी 50 फीसदी हिस्सेदारी है। क्या होगा यदि हम पंजाब के लिए अपनी सड़कों को अवरुद्ध करने और उन्हें प्रवेश से वंचित करने का निर्णय लेते हैं? पानी, क्षेत्र और राजधानी के तीन मुद्दों को हल करने की जरूरत है। नेताओं ने हरियाणा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की और कहा कि सतलुज यमुना लिंक नहर को भी नए सिरे से लिया जाए और शीघ्र समाधान के लिए जोर दिया जाए।

1967 में पेश हुआ था पहला प्रस्ताव

यह मुद्दा राजनीतिक रूप से कितना भावनात्मक है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चंडीगढ़ को पंजाब स्थानांतरित करने का प्रस्ताव ऐसा पहला प्रस्ताव नहीं है। पहली बार इसे 18 मई, 1967 को पेश किया गया था जब आचार्य पृथ्वी सिंह आजाद की ओर से एक गैर-सरकारी प्रस्ताव पेश किया गया था, जिसमें चंडीगढ़ को पंजाब में शामिल करने की मांग की गई थी।

1970, 1978 में भी पास हुआ था प्रस्ताव

19 जनवरी, 1970 को चौधरी बलबीर सिंह द्वारा चंडीगढ़, भाखड़ा और अन्य पंजाबी भाषी क्षेत्रों के हस्तांतरण के लिए एक और गैर-सरकारी प्रस्ताव पेश किया गया, जिसे बिना किसी चर्चा के सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। 7 सितंबर, 1978 को चंडीगढ़ और अन्य पंजाबी भाषी क्षेत्रों को पंजाब में मिलाने का एक गैर-सरकारी प्रस्ताव सुखदेव सिंह ढिल्लों द्वारा पेश किया गया और सर्वसम्मति से पारित किया गया।

1985 और 1986 में भी पेश हुआ था प्रस्ताव

चंडीगढ़ के बदले हिंदी भाषी क्षेत्रों को हरियाणा में स्थानांतरित करने का एक गैर-सरकारी प्रस्ताव 31 अक्टूबर 1985 को बलदेव सिंह मान द्वारा पेश किया गया था। इसके बाद 6 मार्च 1986 को ओम प्रकाश गुप्ता द्वारा राजीव गांधी-हरचंद सिंह लोंगोवाल समझौते के कार्यान्वयन के लिए गैर-सरकारी प्रस्ताव पेश किया गया था। इसे भी सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया।
Controversy for Capital in Punjab-Haryana
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular