Homeहरियाणाभिवानीपरेशानी का सबब बनी ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रालियां, यातायात में बाधक बन दे...

परेशानी का सबब बनी ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रालियां, यातायात में बाधक बन दे रही है हादसों को न्यौता

व्यावसायिक प्रयोग पर प्रतिबंध होने के बावजुद पुलिस व प्रशासन नहीं कर रहा कार्यवाहीं

आज समाज डिजिटल,लोहारू:

क्षेत्र के गांवों के मुख्य मार्गो पर सरकार के प्रतिबंध के आदेशों के बावजुद बेखौफ दौड़ रही पशुचारे, ईंटों, पत्थरों व पदाडी से भरी ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रालियां इन दिनों न केवल आमजन व वाहनचालकों के लिए परेशानी का सबब बनी है बल्कि क्षमता से अधिक तूड़ी व पदाडी भरी होने के कारण ग्रामीण क्षेत्र के छोटे संपर्क मार्गों पर अन्य वाहनों को गुजरने के लिए जगह ही नहीं रहती जिससे हर समय हर समय दुर्घटना का अंदेशा भी बना रहता है।

लोहारू इलाके से प्रतिदिन सैकड़ो ट्रैक्टर ट्रालियां ओवरलोड तूड़ी, पदाडी से भरकर गुजर रही

गौरतलब है कि लोहारू इलाके से प्रतिदिन सैकड़ो ट्रैक्टर ट्रालियां ओवरलोड तूड़ी, पदाडी से भरकर गुजर रही है, जो लोगों के साथ-साथ वाहनचालकों के लिए भी परेशानी का सबब बनी है। फसल कटाई के साथ ही तूड़ी किसानों द्वारा बेची जा रही है तथा ये ट्रैक्टरों में भरकर नगर के बीचोंबीच गुजर रही है। ट्रैक्टर चालक अपने वाहनों में क्षमता से अधिक पशुचारा भर लेते हैं। जिससे इन ट्रालियों की चौड़ाई 10 से 12 फीट तक हो जाती है और ज्यादातर वाहन चालकों को अपनी गंतव्य पर पहुंचने के लिए गांवों से होकर गुजरना पड़ता है जहां संपर्क मार्गों की चौड़ाई कम ही होती है। लोहारू में इनके गुजरते वक्त दो फुट की जगह भी इनके साईड से निकलने के लिए नहीं बचती तथा इसके कारण न केवल अन्य वाहन चालकों को रास्ते से गुजरने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है बल्कि स्वयं इन ट्रैक्टर चालकों को भी भारी दिक्कत उठानी पड़ती है।

ओवरलोड होने के कारण वाहन की ऊंचाई अधिक हो जाती है जिससे उन्हें पीछे से आने वाले वाहन दिखाई नहीं पड़ते

एक तो ओवरलोड होने के कारण वाहन की ऊंचाई अधिक हो जाती है जिससे उन्हें पीछे से आने वाले वाहन दिखाई नहीं पड़ते। मजबूरन अन्य वाहनों को उनके पीछे-पीछे ही चलना पड़ता है। वहीं दूसरी ओर पुलिस व प्रशासन की ठोस कार्यवाहीं के अभाव में कृषि कार्यो में प्रयोग होने वाले ट्रैक्टर ट्रालियां क्षेत्र के मुख्य मार्गो पर ईंटे व पत्थर ढ़ोती भी देखी जा सकती है। इससे न केवल इनका व्यावसायिक प्रयोग हो रहा है बल्कि राजस्व को भी प्रतिमाह लाखों का नुकसान हो रहा है। ध्यान रहे कि सरकार ने पशुचारे की किल्लत को देखते हुए प्रदेश से राजस्थान की ओर जाने वाले तुड़ी पर रोक लगा रखी है लेकिन लोहारू में प्रतिदिन सैकड़ो ट्रालियां निर्देशों की अवहेलना करते हुए प्रतिदिन लोहारू के रास्ते राजस्थान की ओर जा रही है जिस कारण कस्बे और गांवों से गुजरते समय अक्सर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है। लोगों ने प्रशासन से ऐसे वाहनों पर अंकुश लगाने की मांग की है।

एसडीएम ने यादव सभा को सौंपा एक लाख का चेक SDM Handed Over A Check Of One Lakh To Yadav Sabha

Also Read : करनाल की जरनैली कॉलोनी में संदिग्ध परिस्थितियो में मिला हरप्रीत सिंह नाम के युवक का शव Dead Body Of Harpreet Singh

Also Read : मनोविज्ञान के ज्ञान में आत्मसंतुष्टि के साथ पाएं सुरक्षित भविष्य Application Process For Admission In Haryana Central University

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular