Homeहरियाणापानीपतलोगों ने चाहा तो 2024 में हरियाणा में देंगे मजबूत विकल्प :...

लोगों ने चाहा तो 2024 में हरियाणा में देंगे मजबूत विकल्प : गुरनाम चढूनी

आज समाज डिजिटल, पानीपत:
पानीपत (Bhartiya Kisan Union) भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सरदार गुरनाम चढूनी समालखा हल्के के गांव पट्टीकल्याणा में अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी तान्या पहलवान की मौत पर शोक प्रकट करने पहुंचे और पीड़ित परिवार को सांत्वना व्यक्त की और कहा कि दिवंगत खिलाड़ी तान्या पट्टीकल्याणा या पानीपत ही नहीं बल्कि हरियाणा और देश की बेटी थी। वहीं, भाकियू राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम चढूनी पानीपत में सर्वजातीय जन पंचायत के कार्यालय में मिलने पहुंचे और इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि – देश मे व्यवस्था परिवर्तन के लिए आम लोगों को सड़कों पर उतरना होगा, क्योंकि सरकार देश को गुलाम बनाने में लगी हुई है। आज देश के 9 लोगों के पास पूरे देश के 50 प्रतिशत आबादी के बराबर संपत्ति है। यह सोचने का बात है कि कोरोना में सबकी आय घटी है, लेकिन 3 प्रतिशत लोगों की ही आय बड़ी है।

अच्छे और ईमानदार लोगों को एक मंच पर इकट्ठा किया जाए

गुरनाम चढूनी ने कहा कि- समान विचारधारा के लोगों को एक मंच पर आकर व्यवस्था परिवर्तन के लिए लड़ने की आवश्यकता है और आज उसी कड़ी में वे सर्वजातीय जन पंचायत के अध्यक्ष सुरेंद्र अहलावत से मिलने पानीपत पहुँचे हैं और कोशिश करेंगे पूरे देश से अच्छे और ईमानदार लोगों को एक मंच पर इकट्ठा किया जाए। किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने टोल कंपनियों को चेतावनी दी है कि किसान आंदोलन के बाद जो नए मुकदमे टोल कंपनियों द्वारा  किसानों पर दर्ज करवाए है उन मुकदमें को टोल कंपनी वापस ले ले नहीं तो आने वाले समय में भारतीय किसान यूनियन टोल टैक्स को परमानेंट टोल फ्री करवा देगी। हाल ही में किसान आंदोलन के बाद भारतीय किसान यूनियन ने 3 घंटे के लिए टोल को फ्री करवाया था जिसके बाद कंपनियों की शिकायत पर नए  किसानों पर दर्ज करवाए गए है।

सरे प्रदेशों में तूड़ी बेचने पर रोक लगाकर सरकार गुंडागर्दी कर रही है

गुरनाम चढूनी ने मौजूदा सरकार पर भी हमला बोलते हुए कहा दूसरे प्रदेशों में तूड़ी बेचने पर रोक लगाकर सरकार गुंडागर्दी कर रही है। और हमारी सरकार डब्लू टी ओ में शामिल हो गई, क्योंकि पूरी दुनिया का व्यपार है खुला लेकिन किसानों के दूसरे प्रदेशो में तूड़ी बेचने पर रोक लगा रही है। क्योंकि अबकी बार किसानों को तूड़ी का अच्छा रेट मिल रहा है तो सरकार किसानों को दूसरे प्रदेशों में तूड़ी बेचने पर रोक लगा रही है। जब किसान की तूड़ी सस्ती बिकती थी तब तो सरकार मौन नजर आती थी। जिसके चलते अब राजस्थान की गौशालाओं लोग कह रहे हैं कि अगर हरियाणा सरकार राजस्थान के अंदर थोड़ी नहीं जाने देगी तो वह राजस्थान के सभी गौशालाओं से गायों को खोलकर हरियाणा में ले आएंगे।

सरकार अब अपने वायदे से भी मुकर रही है

गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान सरकार द्वारा किसानों से वादा किया गया था सरकार अब अपने उस वायदे से भी मुकर रही है। क्योंकि किसान आंदोलन के दौरान सरकार ने किसानों पर दर्ज सभी मुकदमे वापस लेने की बात कही थी लेकिन सरकार ने अब तक सभी मुकदमों को वापस नहीं लिया है और कुछ मुकदमों को वापस लेने से मना कर रही है जबकि अपने वायदे के अनुसार भारतीय किसान यूनियन द्वारा जो मुकदमे दर्ज करवाए गए थे उन सभी मुकदमों को भारतीय किसान यूनियन ने मुख्यमंत्री के कहने पर वापस ले लिया है लेकिन सरकार अपने वादे से मुकर रही है। हरियाणा में चुनाव चुनाव लड़ने पर बोले – जनता की राय के हिसाब से लेंगे फैसला, अगर जनता कहेगी तो लड़ेंगे चुनाव
अपनी 4 मुख्य मांगों के लेकर 2 मई को पूरे हरियाणा में जिला स्तर पर सौंपेंगे ज्ञापन
1.25 तारीख को हरियाणा में हुई आगजनी पर  किसानों को सरकार दे मुआवजा।
2. प्रति क्विंटल के हिसाब 500रुपए बोनस की मांग।
3.जल्द से जल्द मिले किसानों को समर्सिबल के कनेक्शन।
4.जिन किसानों की फसल कम निकली है उनके बीमा कंपनी जल्द दे मुआवजा।
 इस अवसर पर उनके साथ भाकियू जिलाध्यक्ष सुधीर जाखड़, मीडिया प्रभारी राकेश बैंस, कुरुक्षेत्र ज़िलाप्रधान कृष्ण सैनी, कोर कमेटी के सदस्य रामबीर झटटीपुर, युवा ज़िला उपाध्यक्ष नदीम गुज्जर आदि मौजूद रहे।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular