Homeराज्यहरियाणाकिसान आंदोलन के नाम पर दलितों पर अत्याचार असहनीय: बांगड़ी

किसान आंदोलन के नाम पर दलितों पर अत्याचार असहनीय: बांगड़ी

संजीव दीक्षित, रोहतक: दलित समाज के वरिष्ठ नेता व भाजपा के मंत्री अमित बाल्मीकि पर किसान नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में कृषि कानूनों का विरोध कर रहे असमाजिक तत्वों द्वारा गाजियाबाद के यूपी गेट पर किये गए हमले के विरोध में आज स्थानीय भिवानी स्टैंड पर नगर परिषद रोहतक के पूर्व चेयरमैन व दलित समाज के वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश बागड़ी व नगर निगम रोहतक की पूर्व मेयर श्रीमति रेणू डाबला के नेतृत्व में सैकड़ों दलित समाज के नेता व लोगों ने भारी विरोध प्रदर्शन किया व राकेश टिकैत का पुतला जलाया। प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए दलित नेता ओमप्रकाश बागड़ी ने कहा कि राकेश टिकैत द्वारा किसानों के नाम पर असामाजिक तत्वों के साथ मिलकर दलित समाज के नेता अमित बाल्मीकि पर जो हमला किया गया है वह निंदनीय ही नहीं बल्कि देश व समाज को तोड़ने वाला है। जिसे दलित समाज किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि इस तरह के हमलों का दलित समाज ईंट का जवाब पत्थर से देने में सक्षम है।

ओमप्रकाश बागड़ी के नेतृत्व में दलित समाज के समस्त नेताओं व कार्यकतार्ओं ने हाथ उठाकर एक स्वर में वरिष्ठ नेता अमित बाल्मीकि पर हुए हमलें की घोर भर्त्सना की। प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए पूर्व मेयर रेणू डाबला ने कहा कि राकेश टिकैत अपनी राजनीतिक महत्वकांक्षा को पूरा करने के लिए किसानों के नाम पर दलितों पर हमला कर रहे है व समाज को तोड़ रहे है। महिला नेत्री ने कहा कि राकेश टिकैत केवल अपनी महत्वकांक्षाओं व स्वार्थो की पूर्ति के लिए किसानों को बलि का बकरा बना रहे है। उन्होंने कहा कि दलित समाज किसी भी सूरत में अपने पर हुए हमलों को सहन नहीं करेगा। विरोध प्रदर्शन को वार्ड न 6 से पार्षद सुरेश किराड़, वार्ड 5 की पार्षद मैडम गीता, वार्ड 2 से पार्षद प्रतिनिधि सुरेश सैनी, पार्षद प्रतिनिधि सूरजमल किलोई, प्रोफेसर मनोज कुमार, जयभगवान सिंह व अन्य नेताओं ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से भीमा बागड़ी, संदीप डागला, डॉ सुखदेव कलानौर, रविन्द्र मेहरा, रामजी गहलोत, पूर्व पार्षद अशोक कुमार, दिनेश कांगड़ा, प्रोफेसर गुरूदयाल, डॉ जोगेन्द्र, डॉ सुमेश, सुनीता देवी, बबलू, सोनू बाल्मीकि, हेमंत बांगड़ी, उमेश बांगड़ी आदि उपस्थित रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular