Homeराज्यहरियाणाकरनाल: अनन्या बनर्जी ने आर्ट संकाय में टाप फोर में बनाया स्थान 

करनाल: अनन्या बनर्जी ने आर्ट संकाय में टाप फोर में बनाया स्थान 

प्रवीण वालिया, करनाल:
कोरोना काल के बाद आज सीबीएसई के तहत बारहवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम घोषित हुआ है। इस बार बारहवीं और दसवीं की परीक्षा नहीं हुई थी। बोर्ड ने औसत अंकों के आधार पर परीक्षा परिणाम घोषित किया। आज अधिकतर बच्चों के चेहरे पर खुशी दिखाई दी। शायद कोई भी विद्यार्थी फेल नहीं हुआ। अधिकतर बच्चों के 80 प्रतिशत से अधिक अंक आए।
आर्ट संकाय में करनाल की छात्रा अनन्या बनर्जी ने 98.5 प्रतिशत अंक प्राप्त कर प्रदेश और देश में टाप फोर में स्थान बनाया। उसने साइकोलोजी में 100 में से 100 अंक प्राप्त किए। इसके अलावा सभी विषयों में 95 प्रतिशत से अधिक थे। अनन्या बनर्जी करनाल के शिक्षक मिहिर बनर्जी की बेटी हैं। इस अवसर पर अनन्या बनर्जी ने बताया कि वह कुशल मनौवैज्ञानिक बनना चाहती हैं। बचपन से ही समाज और पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर लडऩे वाली अनन्या बनर्जी की बड़ी बहन ने भी सीबीएसई में 12 वीं में टाप पांच में स्थान बनाया था। अनन्या गांव दरड़ में स्ट्रीट चिल्ड्रन को पढ़ा रही हैं। अनन्या ने बताया कि जो मानक उसकी बड़ी बहन ने तय किए थे। उन्ही का उसने अचीव किया है। वह सबसे पहले समाजसेवी हैं।
वह साइकोलोजी के क्षेत्र में काम करना चाहती हैं। आज समाज में लोग डिप्रेशन के शिकार हैं। आज समाज में हर कोई मनोविकारों के शिकार है। नई शिक्षा नीति का समर्थन करते हुए उन्होंने बताया कि इससे देश बदलेगा। बच्चे रटने की परंपरा से मुक्त होंगे। इस अवसर पर शिक्षक मिहिर बनर्जी तथा उनकी पत्नी श्रीमती गगन बनर्जी ने कहा कि उन्हें अपनी बेटियों पर गर्व है। उन्होंने कहा कि अनन्या के जन्म पर ही उन्होंने लोहड़ी बेटी के नाम मनाई थी। वह देश में पहली लोहड़ी बेटी के नाम थी। उन्होंने कहा कि उनकी बेटियों ने उनका नाम रोशन किया है। इस अवसर पर मनोविज्ञान शिक्षक देविंद्र मोहन सिंह ने भी कहा कि बेटियां निश्चित ही समाज का नजरिया बदलेंगी। आज का दिन करनाल के लिए बेहतर हैं। उन्होंने कहा कि अनन्या कुछ हट कर ऐसा करेगी जिस पर देश को गर्व होगा।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments