Homeहरियाणाकरनालकरनाल अनाज मंडी में पहुंचे कृषि मंत्री जेपी दलाल

करनाल अनाज मंडी में पहुंचे कृषि मंत्री जेपी दलाल

अनाज मंडी करनाल में पहुंचे Agriculture Minister JP Dalal, अधिकारियों की ली बैठक, प्रेसवार्ता में आम आदमी पार्टी, कांग्रेस पर जमकर साधा निशाना, कृषि कानून पर सरकार का रखा पक्ष...

इशिका ठाकुर, करनाल
हरियाणा के Agriculture Minister JP Dalal ने Grain Market Karnal में अधिकारियों की बैठक ली। इसके बाद प्रेसवार्ता में आम आदमी पार्टी, कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। कृषि कानून पर भी सरकार का पक्ष रखा।

किसानो की आय बढ़ाने का प्रयास

कृषि कानून पर मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि किसान जत्थेबंदियों से सदस्यों की मांग की हुई है। नेशनल रिपोर्ट के माध्यम से किसानो की आय 27 रुपये है। इसको बढ़ाने के लिए हम लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए कुछ करने के बाद ही परिवतर्न होगा। भारत के किसानों ने आंदोलन में बहुत अच्छा कदम बताया। हरियाणा के किसान आंदोलन की बता करें तो हमारे पास सबसे अच्छी मंडी है। सबसे बढ़ियां योजनाएं है। पोली हाउस पर काम चल रहा है।

इस बार मंडी में हो रही प्राइवेट खरीद भी

2022 तक किसान की आय डबल करने के जवाब में मंत्री बोले कि ये बहस की बात नहीं है। कपास का भाव, अन्य फसलों के भाव 2014 की बजाए आज से तुलना कर सकते हैं। तूड़ी का भाव 10 से 12 रुपये किलो चल रहा है। इस बार मंडी में प्राइवेट खरीद भी हो रही है।
किसानों की पेमेंट के सवाल के जवाब में बोले कि 72 घंटे में पेमेंट की जा रही है। जिस किसान को 72 घंटे में पेमेंट नहीं मिलेगी। उनको बयाज समेत पैसा दिया जाएगा।

जिन्हें जनता नकार चुकी है। वो आप पार्टी में जा रहे

आप पार्टी के जनाधान बढ़ने के सवाल में मंत्री ने कहा कि मैं मान सकता हूं कि कांग्रेस का वर्श्चव घट रहा है। पार्टी के टुकड़े-टुकड़े हो रहे हैं। जिन्हें जनता नकार चुकी है। वो आप पार्टी में जा रहे हैं। 5 राज्यों के चुनाव में 4 में भाजपा की सरकार बनी। पंजाब में आप की सरकार बनी, वहां पर भाजपा का एरिया कम है।

कांग्रेस में कोई संगठन नहीं

हरियाणा कांग्रेस परिवर्तन की चर्चा पर कृषि मंत्री ने कहा मैं सबसे पहले किसान हूं। रही बात कांग्रेस तो कांग्रेस में कोई संगठन नहीं है। कोई नेतृत्व नहीं है। कांग्रेस का हर नेता अपनी नेतागिरी के लिए जोर लगा है।

इसीलिए मैं पहले भी कई बार कह चुका हूं कि कांग्रेस के टुकड़े होने तय हैं। प्रदेशाध्यक्ष के परिवर्तन होने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। नेतृत्व नहीं है। अब राहुल गांधी बोले रहे हैं कि वो मायावती को मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं। ऐसा होता तो अपनी बहन को बना देता।

Also Read : दमदार कैमरा और परफॉर्मेंस वाले ये टॉप सबसे शानदार स्मार्टफोन , जानिए
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular