Homeराज्यहरियाणामहिला सशक्तीकरण का प्रत्यक्ष प्रमाण दे रहा है प्रशासन

महिला सशक्तीकरण का प्रत्यक्ष प्रमाण दे रहा है प्रशासन

संजीत खन्ना, झज्जर: प्रशासन की ओर से जनसेवा की भावना से किए जा रहे सामाजिक व प्रशासनिक कार्यों में महिला अधिकारियों की अहम भूमिका रही है। शहरी व ग्रामीण विकास की बागडोर जहां महिला अधिकारी झज्जर जिला में संभाले हुए है वहीं प्रशासनिक प्रबंधन में भी महिला अधिकारियों के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। जी हां हम बात कर रहे हैं झज्जर जिला प्रशासन की कार्यशैली में निरंतर कदमताल कर रही प्रशासनिक महिला अधिकारियों की जो आपदा के इस दौर में घर के साथ ही अपनी ड्यूटी के प्रति प्रभावी रूप से निष्ठावान रहते हुए फील्ड में रही। झज्जर जिला प्रशासन की टीम में शामिल वर्ष 2004 बैच की एचसीएस अधिकारी आशिमा सांगवान, वर्ष 2016 बैच की एचसीएस अधिकारी शिखा, वर्ष 2020 बैच की एचसीएस अधिकारी शिवजीत भारती के साथ ही ग्रामीण विकास की दिशा में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर रही जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी ललिता वर्मा पूरी संजीदगी के साथ कोरोना महामारी में अपना बेस्ट देने में सजग रही हैं। प्रशासनिक दायित्व को लेकर उन्होंने संयुक्त रूप से कहा कि डीसी के मार्गदर्शन में उन्हें हर पहलू पर जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए अपनी ड्यूटी निभाई है।

शहरी क्षेत्र में आपदा के दौरान सफाई प्रबंधन से लेकर स्वास्थ्य सुरक्षा पहलू पर दिया ध्यान : आशिमा

वर्ष 2004 बैच की एचसीएस अधिकारी एवं जिला नगर आयुक्त आशिमा सांगवान का कहना है कि कोरोना महामारी के दौर में उन्होंने झज्जर, बहादुरगढ़ व बेरी शहरी निकाय क्षेत्र में स्वच्छता के साथ ही स्वास्थ्य सुरक्षा पहलूओं पर पूरा फोकस रखा। उन्होंने बताया कि महामारी में शहरी क्षेत्र में निकाय कर्मचारियों के माध्यम से शहर की गलियों, सडकों की सफाई व कूड़ा उठान पर नियमित मॉनिटरिंग की। साथ ही कोविड गाइडलाइन की पालना करते हुए निकाय कर्मचारियों के माध्यम से कोविड संक्रमित मरीज के निधन होने पर उनका अंतिम संस्कार भी करवाया। प्रयास रहा कि किसी भी रूप से वे अपने दायित्व में पीछे न रहें इसके लिए विभागीय स्तर पर रोजाना अपडेट रिपोर्ट संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा ली गई और जो भी दिशा-निर्देश डीसी की ओर से दिए जाते तत्परता से उनकी पालना सुनिश्चित करना ही उनकी प्राथमिकता रही है। शहरी क्षेत्र में अन्य विकासात्मक कार्य भी जारी रखने के साथ ही स्वच्छ माहौल देने में नगर निकाय द्वारा सजगता व सतर्कता के साथ जिम्मेवारी निभाई जा रही है।

सुरक्षित माहौल प्रदान करने के साथ ही कानून व्यवस्था पर रही नजर : शिखा

वर्ष 2016 बैच की एचसीएस अधिकारी एवं झज्जर की एसडीएम शिखा ने कहा कि कोरोना महामारी में निर्धारित नियमों की पालना सुनिश्चित करवाने के लिए जिलाधीश की ओर से जारी आदेश लागू करवाने में वे निरंतर तत्पर रही हैं। आमजन को सुरक्षित माहौल प्रदान करने के साथ ही आपदा के इस दौर में कानून व्यवस्था को बनाए रखने में भी एसडीएम स्तर पर गंभीरता से ड्यूटी निभाई गई। कोरोना संक्रमित होने के बावजूद भी मोबाइल फोन के माध्यम से नियमित रिपोर्ट भी संबंधित अधिकारियों से ली और नियमों व कानून की पालना को लेकर उठाए गए हर कदम पर पूरी मॉनिटरिंग रखी गई। अब झज्जर नगर परिषद के प्रशासक की जिम्मेवारी के मद्देनजर शहरी क्षेत्र के सौंदर्यीकरण की भी पूरी रूपरेखा तैयार की जा रही है ताकि झज्जर शहरी क्षेत्र के लोगों को एक विकासात्मक परिवर्तन नजर आए।

कोरोना महामारी में भी निर्बाध रूप से जारी रही प्रशासनिक कार्यवाही : शिवजीत

वर्ष 2020 बैच की एचसीएस अधिकारी एवं सीटीएम शिवजीत भारती ने कहा कि बदलते परिवेश में डिजिटल स्वरूप के साथ जनसेवा के कार्य प्रशासन की ओर से किए जा रहे हैं। कोरोना काल में भी जहां लॉकडाउन व महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा के नियमों के तहत लोगों को घरों में रहने की अपील की गई उस दौरान झज्जर जिला प्रशासन ने डिजिटल प्लेटफॉर्म ई-आफिस के माध्यम से निर्बाध रूप से प्रशासनिक कार्य आमजन के हितों के मद्देनजर जारी रखे। पेपरलेस वर्किंग के साथ ही ई-आफिस प्रणाली में प्रभावी बढ़ते कदम के चलते पूरे हरियाणा प्रदेश में झज्जर जिला प्रशासन पिछले 14 सप्ताह से निरंतर नंबर वन बना हुआ है। उन्होंने कहा कि समान विचारधारा के साथ किए जा रहे कार्यों के फलस्वरूप झज्जर जिला प्रशासन टीम भावना के साथ झज्जर जिला की जनता को बेहतर सेवाएं देने में अग्रणी है।

कोरोना महामारी में ग्रामीणों को जागरूक करने सहित पंचायती स्तर पर सेवाएं प्रदान करने में बनी भागीदार : ललिता

झज्जर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी ललिता वर्मा ने बताया कि कोरोना काल में जिस प्रकार ग्रामीणों में संक्रमण चक्र फैलाव रोकने के लिए सुरक्षित प्रबंधन सुनिश्चित करते हुए कोरोना से दूरी बनाए रखने में पंचायती राज संस्थान ने अपनी भागीदारी सुनिश्चित की है। उन्होंने बताया कि विलेज आइसोलेशन सेंटर बनाने के साथ ही ठीकरी पहरा लगवाने सहित अन्य अहम कदम कोरोना महामारी रोकथाम में उन्होंने निभाए। अब पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव की प्रक्रिया भी आरंभ हो रही है, ऐसे में पूरी पारदर्शिता व निष्ठापूर्वक चुनाव प्रक्रिया को संपन्न करनवाना उनका लक्ष्य है। उन्होंने बताया कि बीडीपीओ जो अब ग्राम पंचायत के प्रशासक के तौर पर कार्य कर रहे हैं उनके माध्यम से ग्रामीण विकास पर पूरा ध्यान उनके द्वारा दिया जा रहा है।

महिला सशक्तीकरण का उदाहरण है झज्जर प्रशासन : डीसी

झज्जर जिला में एचसीएस महिला अधिकारियों सहित विभिन्न विभागों की महिला अधिकारी विभागाध्यक्ष का दायित्व प्रभारी रूप से निभा रही हैं। महिलाओं के प्रति लोगों की संकीर्ण मानसिकता को बदलने में झज्जर जिला प्रशासन की टीम में शामिल महिला अधिकारी एक उदाहरण प्रस्तुत कर रही हैं। आपदा की स्थिति में जब लोग अपने घरों में सुरक्षित हैं, ऐसी परिस्थिति में नियमित रूप से महिला अधिकारी जनसेवा की भावना को सर्वोपरि रखते हुए फील्ड में कार्य करती रही हैं। झज्जर जिला प्रशासन महिला सशक्तिकरण का प्रत्यक्ष प्रमाण झज्जर जिला की जनता के सामने रखता है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular