Homeराज्यचण्डीगढ़अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को समाज की मुख्यधारा में लाना हो...

अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को समाज की मुख्यधारा में लाना हो मकसद

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सुशासन सहयोगियों के नए बैच को संबोधित किया, कहा सुशासन सहयोगी सकारात्मक लक्ष्य लेकर आगे आएं
आज समाज डिजिटल, चंडीगढ़

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि शासन में सुधार लाने के लिए मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी प्रदेश की प्राथमिकताओं के अनुरूप बेहतर कार्य करेंगे। इसके साथ ही सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों को समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचा कर उन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़ने में सहयोग करेंगे। मुख्यमंत्री आज यहां सुशासन सहयोगियों के छठे नए बैच को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार पहचान पत्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना के तहत अति गरीब एक लाख परिवारों की आय कम से कम 10 हजार रुपए मासिक करने का लक्ष्य है। इस योजना में 6 विभाग संयुक्त रूप से कार्य कर रहे हैं जिनमें स्थानीय निकाय, श्रम, स्किल इंडस्ट्रीज, स्वास्थ्य, एमएसएमई शामिल हैं। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि 2024 तक प्रदेश के हर परिवार को रोजगार व स्वरोजगार के अवसर मिलें और उनमें आर्थिक सम्पन्नता आए। उन्होंने कहा कि प्रदेश का नूंह जिला सबसे कमजोर है उसे शिक्षा, स्वास्थ्य एवं रोजगार के क्षेत्र में आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि सुशासन सहयोगी समाज के लिए सकारात्मक और लाभप्रद विचारों वाले लक्ष्य लेकर आगे आएं, और उन्हें पूरा करने के लिए कार्य करें।
सही रास्तों पर चलते हैं तो कठिनाइयां आती हैं
यदि सही रास्तों पर चलते हैं तो कठिनाइयां आती हैं, लेकिन उनका हल निकालकर आगे बढ़ना ही मुख्य ध्येय होना चाहिए। नए विचारों एवं सोच को लागू करना और उन्हें परिणामोन्मुखी बनाना ही जीवन का आधार होना चाहिए । उन्होंने कहा कि यदि जीवन में निराशा के क्षण आएं तो हिम्मत से काम लें और स्वामी विवेकानंद की कहावत अनुसार उठो, जागो और आगे बढ़ो-पर चलें और अपना जीवन लोगों की भलाई के लिए समर्पित करें। जीवन  में अनुशासन और समय के सदुपयोग पर पूरा ध्यान केंद्रित रखना है।
सरकार और जनता के बीच सहयोगी की भूमिका निभाएं
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुशासन सहयोगी सरकार व जनता के बीच सहयोगी की अहम भूमिका निभाते हुए लक्ष्य के अनुरुप कार्य करें। उन्होंने कहा कि इससे पहले बैच के सुशासन सहयोगियों ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, लिंगानुपात, सीएम विंडो, सक्षम हरियाणा, ई-आफिस, स्वच्छ भारत अभियान आदि कार्यक्रमों में योगदान दिया। वर्तमान बैच में शासन, सुरक्षा, स्वास्थ्य और शिक्षा, मेरी फसल मेरा ब्यौरा, मेरा पानी मेरी विरासत, मॉडल संस्कृति स्कूल, मुख्यमंत्री परिवार समृद्वि योजना, परिवार पहचान पत्र आदि योजनाओं पर मुख्य रूप से कार्य किया जाना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सुशासन सहयोगी कोविड 19 नियंत्रण में भी भरपूर योगदान करेंगे। सुशासन सहयोगियों ने मुख्यमंत्री को अपने सुझाव भी दिए। इस मौके पर मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ. अमित अग्रवाल के अलावा अशोका युनिवर्सिटी के को-फाउंडर विनित गुप्ता भी मौजूद रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments