Homeराज्यचण्डीगढ़चंडीगढ़ : जंडियाला गुरु में गेहूं स्टॉक में गड़बड़ी करने वालों पर...

चंडीगढ़ : जंडियाला गुरु में गेहूं स्टॉक में गड़बड़ी करने वालों पर हो सख्त कार्रवाई : आशु

आज समाज डिजिटल

खाद्य आपूर्ति मंत्री ने दिए विस्तृत जांच के आदेश
चंडीगढ़। पंजाब के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री भारत भूषण आशु ने अमृतसर जिले के जंडियाला गुरु केंद्र में गेहूं के स्टॉक में पाई गई कमी के लिए जिम्मेदार अधिकारियों / कर्मचारियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने के आदेश जारी किए गए हैं। यह जानकारी देते हुए आशु ने बताया कि पंजाब द्वारा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के मुख्यालय द्वारा जिला अमृतसर केंद्र जंडियाला गुरु में तैनात निरीक्षक, जसदेव सिंह के अचानक लापता होने बारे सूचना मिलने पर तुरंत मुख्यालय की सेंट्रल विजीलेंस कमेटी (सीवीसी) को टीमों का गठन करके जंडियाला गुरु में पनग्रेन के गोदामों /पलिंथों की स्पेशल पीवी करने के लिए हिदायत की गई। सीवीसी द्वारा अलग-अलग टीमों का गठन करके पड़ताल की गई, जिसकी प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार जंडियाला गुरु केंद्र में साल 2018-19, 2020-21 और 2021-22 केंद्रीय पूल और डीसीपी गेहूं के स्टॉक में 1,84,344 बोरियां ( 50 किलो जूट 30 किलो पीपी) की कमी पाई गई है, जिसकी कीमत करीब 20 करोड़ रुपए बनती है।

इसका गंभीर नोटिस लेते हुए उन्होंने इस केस में सभी जिम्मेदार अधिकारियों / कर्मचारियों के विरुद्ध सख्त विभागीय कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं, जिसके अनुसार अमृतसर जिले के जंडियाला गुरु केंद्र में तैनात अमरिंदर सिंह डीएफएसओ और अर्शदीप सिंह, एएफएसओ को तुरंत निलंबन अधीन करते हुए, उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई / चार्जशीट करने के आदेश दिए गए हैं। इसके अलावा, राज ऋषि मेहरा डीएफएससी अमृतसर और उनसे पहले तैनात डीएफएससी अमृतसर जसजीत कौर के विरुद्ध भी सुपरवाईजरी लैप्स और लापरवाही के कारण विभागीय कार्रवाई चार्जशीट जारी करने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा पुलिस स्टेशन जंडियाला जिला अमृतसर रुरल में आरोपी निरीक्षक के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करवाई गई है। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री, पंजाब द्वारा स्पष्ट किया गया है कि सरकार द्वारा किसी भी तरह के भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और दोषी पाए जाने वाले अधिकारियों  व कर्मचारियों के विरुद्ध कड़ी  कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। भविष्य में एसी घटनाओं को रोकने के लिए विभाग के अधिकारियों की समिति का गठन किया गया है, जिसको तीन सप्ताह में सुझाव देने के लिए हिदायत की गई है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments