Wednesday, December 1, 2021
Homeराज्यहिमाचल प्रदेशशिमला: लारजी बांध को पर्यटन की दृष्टि से किया जा रहा विकसित...

शिमला: लारजी बांध को पर्यटन की दृष्टि से किया जा रहा विकसित : जयराम

आज समाज डिजिटल

विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान पक्ष-विपक्ष के सवाल-जवाब

शिमला। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि लारजी बांध क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लारजी में निर्माणाधीन जल-क्रीड़ा गतिविधियों के लिए नई राहें, नई मंजिलें योजना के तहत 10.21 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की गई है। उन्होंने कहा कि लारजी जलविद्युत परियोजना जलाशय में वाटर स्पोर्ट्स के लिए 6.99 करोड़ रुपए की राशि राज्य बिजली बोर्ड को जारी की गई है। वहां कई स्थानों पर व्यू प्वाइंट भी विकसित किए जा रहे हैं। साथ ही वहां पर एक कैफेटेरिया भी बनाया है। उन्होंने कहा कि वहां पर एक जैटी नष्ट हुई है और इससे नुकसान भी हुआ है। भाजपा सदस्य सुरेंद्र शौरी के सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड के मामलों में कमी के बाद अब फिर से लारजी में पर्यटन गतिविधियां शुरू की जाएंगी। उन्होंने कहा कि नई राहें, नई मंजिलें योजना के तहत अटल बिहारी वाजपेयी खेल एवं पर्वतारोहण संस्थान मनाली द्वारा लारजी में जल-क्रीड़ा गतिविधियों से संबंधित उपकरण की खरीद कर ली गई है।
कांग्रेस सदस्य सुखविंद्र सिंह सुक्खू के सवाल पर मुख्यमंत्री जयराम ने शिमला-मटौर एनएच को स्तरोन्नत करने के लिए केंद्र ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इसके छह पैकेज में से पैकेज 5-बी का कार्य ठेकेदार को अवॉर्ड कर दिया गया है और इसका कार्य नवंबर 2021 में शुरू होने की संभावना है। वहीं बाकी पैकेजों के डीपीआर पर कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि मौजूदा स्थिति यह है कि इसका कुछ भाग फोर लेन बनेगा और कुछ दो लेन का बनेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यातायात के दबाव को देखते हुए दो लेन और चार लेन का निर्माण किया जाता है। उन्होंने कहा कि इस मार्ग की स्वीकृति केंद्र सरकार ने 2016 में दी थी। शिमला-मटौर एनएच के स्तरोन्नत की अनुमानित लागत 1323 करोड़ रुपए आंकी गई है। उन्होंने कहा कि इस मार्ग को फोरलेन बनाने के लिए मामले को केंद्र सरकार से उठाया है। उनका कहना था कि फोर लेन बनाने में भूमि का कटाव बहुत होता है और इससे भूस्खलन का भी भारी खतरा रहता है।
204.53 करोड़ रुपए की अदायगी शेष : परिवहन मंत्री
उद्योग व परिवहन मंत्री बिक्रम सिंह ने कहा कि हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम के पेंशनरों को अभी तक 204.53 करोड़ रुपए की अदायगी करना शेष है। उन्होंने कहा कि कोविड के बावजूद हिमाचल पथ परिवहन निगम ने 279 करोड़ रुपए का भुगतान कर्मचारियों और पेंशनरों को किया है। वे शुक्रवार को विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के सवाल का जवाब दे रहे थे। परिवहन मंत्री ने कहा कि सरकार की कोशिश है कि जितना जल्दी हो सके, उन्हें बकाया भी जारी कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड के कारण समस्या और जटिल हो गई है, फिर भी कोशिश है कि जल्द बकाये का भी भुगतान कर दिया जाए। उनका कहना था कि निगम में 6578 पेंशन और फैमिली पेंशन भोगी हैं। इससे पहले नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि राज्य पथ परिवहन निगम के पेंशनरों को समय पर पेंशन नहीं मिल रही है और 204 करोड़ रुपए इनका देना है। उन्होंने कहा कि ये पेंशनर धरना दे रहे हैं और सरकार से भी मिलकर अपनी बात रख रहे हैं। उन्होंने इस लंबित भुगतान की जल्द से जल्द अदायगी करने की मांग की।
टांडा मेडिकल कॉलेज में 537 पद रिक्त : स्वास्थ्य मंत्री
भाजपा सदस्य अरुण कुमार के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने कहा कि टांडा मेडिकल कॉलेज को पूर्ण रूप से विकसित करने का प्रयास जारी है। उन्होंने कहा कि इस मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में कुल 1384 पद स्वीकृत हैं और इनमें से अभी तक विभिन्न श्रेणियों को 537 पद रिक्त हैं। उन्होंने कहा कि खाली पदों को भरना एक निरंतर प्रक्रिया है और विभाग खाली पदों को भरने के लिए प्रयास कर रहा है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments