Homeराज्यहिमाचल प्रदेशआशा वर्कर्स का मानदेय बढ़ाने का मामला केंद्र से उठाएगी सरकार :...

आशा वर्कर्स का मानदेय बढ़ाने का मामला केंद्र से उठाएगी सरकार : डॉ. सैजल

आज समाज डिजिटल, शिमला:
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने कहा कि आशा वर्कर्स के मानदेय को बढ़ाने का मामला केंद्र सरकार से उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने जो आशा वर्कर्स को 1500-1500 रुपए का इंसेंटिव देने की घोषणा की थी, उसकी अदायगी के लिए 14 करोड़ रुपए की राशि जारी कर दी है और जल्द ही इन्हें बढ़ा हुआ मानदेय और इंसेंटिव मिल जाएगा। वे गुरुवार को विधानसभा में प्रश्नकाल को दौरान विधायक राकेश सिंघा और अरुण कुमार के सवाल का जवाब दे रहे थे। राकेश सिंघा ने कहा कि सरकार ने बजट में विभिन्न श्रेणियों का मानदेय बढ़ाया था, लेकिन आशा वर्कर्स का मानदेय नहीं बढ़ाया गया था। उन्होंने कहा कि आशा वर्कर्स कोरोना वॉर्रियर हैं और इन्हें क्यों नजरअंदाज किया गया। इस पर डॉ. सैजल ने कहा कि आशा वर्कर्स स्वास्थ्य विभाग का अहम हिस्सा है और यह एक पुल का काम करती हैं। उन्हें बहुत सी अहम जिम्मेदारी दी गई है। उन्होंने कहा कि कोविड के दौरान भी इनकी अहम सेवाएं रही हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने इनके लिए दो हजार रुपए तय किया है और हिमाचल सरकार भी इतनी ही राशि दे रही है और इसमें अभी 750 रुपए बढ़ाए हैं। उन्होंने माना कि यह बहुत कम है। उन्होंने कहा कि आशा वर्कर्स को कोविड सर्विस के दौरान इंसेंटिव देने के लिए सरकार ने 14 करोड़ रुपए जारी किए हैं और आशा वर्कर्स को जल्द ही बढ़ा हुआ मानदेय जारी होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के दौरान जो इन्हें 1500 रुपए प्रोत्साहन राशि देने की बात कही थी, वह दी जा रही है।
उधर, सदस्य पवन नैय्यर और आशा कुमारी के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि चंबा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में ब्लड बैंक में 400 यूनिट ब्लड स्टोर करने की क्षमता है। इस समय वहां 200 यूनिट ब्लड स्टोर करने वाली मशीन खराब है, जिसे ठीक करने के लिए इंजीनियरों ने निरीक्षण कर लिया है और जल्द ठीक करवा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वहां जेनरेटर की सुविधा नहीं है और इसकी खरीद कर नवंबर माह तक लगवा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस समय चंबा मेडिकल कॉलेज में ब्लड बैंक क्षेत्रीय अस्पताल की तर्ज पर ही कार्य कर रहा है, लेकिन भविष्य में इस मेडिकल कॉलेज की अतिरिक्त औपचारिकताओं को पूर्ण करने के बाद सरकार द्वारा एमसीआई, एनएमसी के नियमानुसार पदों को बढ़ाने का विचार किया जाएगा।
विधायक अर्जुन ठाकुर के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ज्वाली में चिकित्सकों के आवासीय भवनों के लिए फिलहाल जमीन उपलब्ध नहीं है, इसलिए चिकित्सकों के आवास का निर्माण नहीं हो पाया है। उन्होंने कहा कि रेडियोलाजिस्ट उपलब्ध होने पर ज्वाली अस्पताल में इसकी तैनाती कर दी जाएगी। भाजपा सदस्य रीना कश्यप के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पच्छाद विधानसभा हलके में राजगढ़ ब्लाक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोटि पधोग और धामला में डॉक्टरों की तैनाती शीघ्र कर दी जाएगी।

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments