Wednesday, December 1, 2021
Homeलाइफस्टाइलकोरोनावायरस के वैक्सीन के बारे में गलत सूचना और मिथक और जानिए...

कोरोनावायरस के वैक्सीन के बारे में गलत सूचना और मिथक और जानिए कैसे रोडब्लॉक बनाया गया?

एक मेजर डेवलपमेंट में, देश में एडमिनिस्टर्ड कोरोना वैक्सीन खुराक की कम्यूलेटिव संख्या शुक्रवार को दी गई 43.29 लाख से ज्यादा खुराक के साथ 50 करोड़ को पार कर गई है। 50 करोड़ के माइलस्टोन तक पहुंचने में देश को 203 दिन लगे। पहले 10 करोड़ जैब्स सबसे धीमे थे और ये आंकड़ा छूने में 85 दिन लगे। इसके बाद 20 करोड़ का आंकड़ा पार करने में 45 दिन लगे, 30 करोड़ तक पहुंचने में 29 दिन और 40 करोड़ तक पहुंचने में 24 दिन और 50 करोड़ टीकाकरण को पार करने में 20 दिन और लगे।

सरकार के जरिए 16 जनवरी को शुरू किया गया टीकाकरण अभियान सफलतापूर्वक चल रहा है और अधिक से अधिक लोग घातक वायरस के खिलाफ टीका लेने के लिए आगे आ रहे हैं। हालांकि, पहले ऐसा नहीं था, बहुत से लोग वैक्सीन लेने के लिए उत्साहित थे, उनमें से कुछ वर्ग ऐसे भी थे जो टीकाकरण के व्यापक नकारात्मक प्रचार की वजह से कोविड वैक्सीन के बारे में थोड़ा संशय में थे। महामारी के दौरान, सोशल मीडिया पर गलत सूचनाओं ने महामारी से सफलतापूर्वक निपटने और वैक्सीन के रोलआउट में बाधाएं पैदा कीं। हालांकि, सिग्ना के कोविड वैक्सीन परसेप्शन स्टडी से पता चलता है कि केवल 5% रेस्पॉन्डेंट ने सोशल मीडिया को सूचना का सबसे विश्वसनीय सोर्स माना है, जबकि ज्यादातर सोशल मीडिया यूजर्स हैं। इसलिए यहां हम कोरोना वैक्सीन के बारे में गलत जानकारी पर कुछ प्रकाश डालेंगे जो शुरू में फैलाई जा रही थीं।

कोरोना वैक्सीन के बारे में गलत सूचना और मिथ

कोरोना वैक्सीन असुरक्षित है 

ऐसे बहुत से लोग थे जो मानते थे कि वैक्सीनलगवाना असुरक्षित है और मृत्यु के समान घातक हो सकता है। लेकिन, बाद में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इसे गलत साबित करने के लिए सभी दिशा-निर्देशों और सुरक्षा मानकों का पालन किया। वैक्सीन सुरक्षित निकले और क्लिनिकल टेस्टिंग के बाद ही स्वीकृत किए गए।

कोरोनावायरस वैक्सीन में एक ट्रैकिंग डिवाइस है

ये कोरोना वैक्सीन के बारे में सबसे विचित्र चीजों में से एक थी. ये स्पष्ट रूप से झूठ था क्योंकि किसी व्यक्ति में वैक्सीन इंजेक्शन के जरिए कोई चिप ट्रांसफर नहीं की गई थी।

कोरोना वैक्सीन में एलर्जी की प्रतिक्रिया होती है

खैर, ये बात काफी हद तक सही भी थी. हालांकि, ऐसा बहुत कम ही हो रहा था और वो भी बहुत हल्के ढंग से। ज्यादातर, लोग सिरदर्द, बुखार, शरीर में दर्द आदि जैसे दुष्प्रभावों का अनुभव करते हैं जो फिर से बहुत कम थे।

कोरोना वैक्सीन महिलाओं को बांझ बनाती है

ये उतना ही मजेदार था जितना अब लगता है। ये तथ्य बिल्कुल भी सच नहीं है क्योंकि विशेषज्ञों का कहना है कि वैक्सीन में मौजूद अमीनो एसिड हकीकत में एक महिला की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करने के लिए बहुत कम है। इसलिए, उन्होंने लोगों से इस मिथक पर भरोसा न करने के लिए कहा, ये पूरी तरह से बना हुआ है।

वायरस का पता चलने के बाद कोरोना वैक्सीन की कोई जरूरत नहीं है

ये भी गलत था। अगर किसी को पहले ही कोरोनावायरस बीमारी हो चुकी है, तो उनके लिए वैक्सीनेशन करना जरूरी था। विशेषज्ञों के अनुसार, इम्यूनिटी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग होती है और कोई नहीं जानता कि कोई व्यक्ति कितने समय तक COVID-19 से सुरक्षित है। इसलिए, एक व्यक्ति जो पहले से ही कोरोनावायरस के कॉन्टैक्ट में आ चुका है, वैक्सीन से बेनेफिटेड हो सकता है

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments