Homeखास ख़बर4660 Nereus Asteroid: 330 मीटर से बड़ा है नेरियस एस्टेरॉयड

4660 Nereus Asteroid: 330 मीटर से बड़ा है नेरियस एस्टेरॉयड

आज समाज डिजिटल :

4660 Nereus Asteroid : शनिवार शाम साढ़े सात बजे एक विशेष खगोलीय घटना होने जा रही है। इस दौरान एक बहुत बड़ा 4660 नेरियस एस्टेरॉयड (4660 Nereus Asteroid) धरती के पास से गुजरेगा। अब तक लाखों एस्टेरॉयड का पता चल चुका है, जिनके आकार सैकड़ों किलोमीटर से लेकर कई मीटर तक हैं।

4660 Nereus Asteroid

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा अब तक 10 लाख से अधिक एस्टेरॉयड की पहचान कर चुका है। नासा लगातार पृथ्वी के निकट मौजूद स्टेरॉयड्स से जुड़े खतरे से बचने के लिए डार्ट मिशन लांच करने जा रही है। इससे क्या हमें किसी तरह का कोई खतरा है? इसका हम पर क्या असर होगा? इन सभी सवालों के जवाब हम इस पोस्ट में देंगे।

Read Also : Pollution Down In Delhi-NCR दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण डाउन, रेड जोन से बाहर इलाके

2 मार्च, 2031 को ये पृथ्वी के करीब से गुजर सकता है 4660 Nereus Asteroid

4660 Nereus Asteroid The Size of The Eiffel Tower Is Heading Straight for Earth: इस एस्टेरॉयड को वैज्ञानिकों ने 4660 नेरियस (4660 Nereus Asteroid) नाम दिया है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह एस्टेरॉयड 22 मार्च, 2011 को भी पृथ्वी के पास से गुजरा था। वैज्ञानिकों के अनुसार अगली बार यह 2 मार्च, 2031 को ये पृथ्वी के करीब से गुजर सकता है। इसके बाद फिर ये नवंबर 2050 को धरती के नजदीक आएगा। वैज्ञानिकों की माने तो 14 फरवरी 2060 को पृथ्वी के सबसे ज्यादा नजदीक से एक एस्टेरॉयड गुजरेगा।

Also Read : Sharjah New Weekend Days : UAE में कर्मचारियों को मिलेगा ढाई दिन का वीक ऑफ, 1 जनवरी 2022 से नया नियम होगा लागू

क्या है 4660 नेरियस एस्टेरॉयड? What is 4660 Nereus Asteroid

4660 Nereus Asteroid

यह एक प्रकार का उल्का पिंड है। इसे वैज्ञानिकों ने 4660 नेरियस एस्टेरॉयड का नाम दिया है। वैज्ञानिकों ने इसे खतरनाक आब्जेट की कैटागिरी में रखा गया है। इस कैटागिरी में ऐसे एस्टेरॉयड को रखा जाता है, जो धरती की आॅर्बिट से 74.8 लाख किलोमीटर के अंदर से गुजरता है और 140 मीटर से ज्यादा बड़ा होता है।

Read Also : Anganwadi Workers Again Roared For Their Demands अपनी मांगों के लिए फिर गरजीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता

क्या होता है एस्टेरॉयड? What are Asteroids?

4660 Nereus Asteroid

आपने किताबों में पढ़ा ही होगा कि एस्टेरॉयड भी सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते हैं। ये चट्टान से बने होते हैं। ये एस्टेरॉयड आकाशगंगा के हिसाब से धूल के कण जितने होते हैं। इसलिए इन आब्जेक्ट्स को एस्टेरॉयड कहा जाता है। इनको प्लेनेटॉइड्स या माइनर प्लेनेट्स भी कहा जाता है।

Read Also : Water Chemistry and Environmental Science Book Released वाटर केमेस्ट्री एंड इनवायरमेंटल साइंस पुस्तक का विमोचन

एफिल टावर से बड़ा एस्टेरॉयड बढ़ रहा है पृथ्वी की ओर

नासा ने बताया कि एफिल टॉवर जितना बड़ा एक एस्टेरॉयड पृथ्वी की ओर आ रहा है। नासा की ओर जारी की गई जानकारी के मुताबिक, ये एस्टेरॉयड धरती से होकर गुजरेगा, जिसका आकार एफिल टॉवर से 10 गुना ज्यादा बड़ा है। इसे दूसरे शब्दों में कहें तो ये फुटबॉल के मैदान से तीन गुना बड़ा है। नासा ने इस एस्टेरॉयड का नाम 4660 नेरियस रखा है।

Read Also Bihar Panchayat Election बिहार में उपमुखिया, उपसरपंच प्रमुख चुनाव 18 के बाद, ये है तैयारी

धरती से 4660 नेरियस एस्टेरॉयड की दूरी

4660 Nereus Asteroid

Asteroid turns towards Earth: नासा (NASA) ने अपनी रिसर्च में बताया कि, 4660 नेरियस 11 दिसंबर को धरती से होकर गुजरने के बाद कम से कम 10 साल तक यहां नहीं आएगा। वैज्ञानिकों के मुताबिक धरती से 4660 नेरियस एस्टेरॉयड की दूरी 3.9 मिलियन किलोमीटर यानि धरती और चांद के बीच की दूरी का 10 गुना है। एस्टेरॉयड 330 मीटर लंबा है। स्पेस रेफरेंस के मुताबिक अंतरिक्ष में मौजूद 90 फीसदी एस्टेरॉयड इससे छोटे हैं। नेरियस 1982 में खोजे गए अपोलो ग्रुप का ही सदस्य एस्टेरॉयड है।

Read Also : Gita Jayanti Festival Update गीता जयंती महोत्सव का आयोजन स्थल बदला

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular