Home संपादकीय विचार मंच What to learn from “The Great Depression”?’: “द ग्रेट डिप्रेशन” से क्या सीखना चाहिए?

What to learn from “The Great Depression”?’: “द ग्रेट डिप्रेशन” से क्या सीखना चाहिए?

2 second read
0
137

दुनिया एक महामारी से जंग लड़ रही है। इस महामारी के प्रभाव को सीमित करने के लिए किए गए उपायों ने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं को धीमा करने या रोकने का काम किया है। इस परिदृश्य ने मुझे अतीत में एक और महामारी के कारण हुई तबाही की याद दिला दी, जिसे हमने किताबों में और आज कल आम चर्चा में वर्णित होते देखा है। यह 1918 की इन्फ्लूएंजा महामारी थी, जो संभवत: वर्तमान महामारी की तुलना में अधिक विनाशकारी थी। अर्थव्यवस्थाओं पर 1918 की महामारी का प्रभाव भी गंभीर था, लेकिन अर्थव्यवस्था में मंदी या ठहराव अंतत: बेहतर प्रयासों से उन्हें बेहतरी की ओर मोड़ सकता है।
फेडरल रिजर्व के शोधकतार्ओं ने अमेरिका में 1918 इन्फ्लूएंजा महामारी का विश्लेषण किया। यह विश्लेषण 28 मई को एक प्रीलिमिनरी में प्रकाशित किया गया। इससे हमें पता चला कि इन्फ्लूएंजा महामारी जो तकरीबन 5,50,000 से 6,75,000 (उस वक्त अमेरिकी आबादी का लगभग 0.66%) अमेरिकियों की मौत का कारण थी, वो महामारी भी आर्थिक गतिविधियों में लगातार गिरावट का कारण बनी। एक औसत स्तर पर अमेरिकी राज्य ने 1918 में उत्पादन में 18% की कमी देखी। यह प्रभाव वर्षों तक अवसादग्रस्त अर्थव्यवस्थाओं, विशेषकर संक्रमण के उच्च स्तर वाले क्षेत्रों में रहा। इसके विपरीत, विनिर्माण गतिविधि और बैंक एसेट्स पर उपलब्ध सबूत बताते हैं कि महामारी के बाद अधिक आक्रामक एनपीआई (नॉन फार्मास्यूटिकल इंटरवेनशंस) वाले क्षेत्रों में अर्थव्यवस्था ने बेहतर प्रदर्शन किया था। कोविड-19 कुछ ऐसी ही महामारी है।
1918 के संकट के बाद एक और या शायद सबसे बड़ा आर्थिक संकट ‘द ग्रेट डिप्रेशन’ था। कई संगठनों ने ‘ग्रेट डिप्रेशन’ और ‘ग्रेट लॉकडाउन’ या ‘ग्रेट कोविड-19 रिसेशन’ के बीच समानता बताने की कोशिश की है। ‘द ग्रेट डिप्रेशन’ ने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं में तबाही मचा दी थी। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका था। ये सब कैसे शुरू हुआ? इस प्रश्न का उत्तर खोजते वक्त, हम पाएंगे कि यह शेयर बाजार में भारी गिरावट के बाद शुरू हुआ जिसने वॉल स्ट्रीट को दहशत में डाल दिया और लाखों निवेशकों का सफाया कर दिया।
इन्फ्लूएंजा महामारी के बाद, 1920 के दशक में अमेरिकी अर्थव्यवस्था का तेजी से विस्तार हुआ, 1920 से 1929 के बीच यह दोगुने से भी अधिक हो गई। इस दौर को हम ‘द रोरिंग ट्वेंटी’ के नाम से जानते हैं। स्टॉक एक्सचेंज, वॉल स्ट्रीट, न्यूयॉर्क सिटी में स्थित था, जहां करोड़पतियों से लेकर रसोइयों तक सभी ने अपनी बचत को स्टॉक में डाला हुआ था। परिणामस्वरूप, शेयर बाजार का तेजी से विस्तार हुआ, जो अगस्त 1929 में अपने चरम पर पहुंच गया। अब तक उत्पादन में पहले ही गिरावट आ गई थी और बेरोजगारी बढ़ गई थी। इसके अतिरिक्त, अर्थव्यवस्था का कृषि क्षेत्र सूखे के कारण संघर्ष कर रहा था और बैंकों के पास बड़े ऋणों की अधिकता थी, जिन्हें समाप्त नहीं किया जा सकता था। उपभोक्ता खर्च में कमी आने से अमेरिकी अर्थव्यवस्था ने 1929 की गर्मियों के दौरान हल्की मंदी में प्रवेश किया। दूसरी ओर, स्टॉक की कीमतों में वृद्धि जारी रही। इसके बाद जैसे-जैसे घबराए निवेशक ओवरराइड शेयर बेचने लगे, शेयर बाजार क्रैश होता गया। 24 अक्टूबर 1929 को, रिकॉर्ड 1.29 करोड़ शेयरों को बेचा गया, इस दिन को ‘ब्लैक थर्सडे’ के रूप में जाना जाता है। पांच दिन बाद, ‘ब्लैक ट्यूसडे’ को तकरीबन 1.6 करोड़ शेयरों को बेचा गया। लाखों शेयर बेकार हो गए। राष्ट्रपति हर्बर्ट हूवर के आश्वासन के बावजूद कि संकट अपने पाठ्यक्रम तक चलेगा, अगले तीन वर्षों में स्थितियां बदतर होती चली गईं। देश का औद्योगिक उत्पादन आधे से भी कम हो गया। 1930 के पतन में, निवेशकों ने अपने बैंकों की सॉल्वेंसी में विश्वास खो दिया और अपने जमा खतों से धन की नकद में मांग की, जिससे बैंकों को अपने अपर्याप्त नकदी भंडार को पूर्ण करने के लिए ऋणों को खत्म करना पड़ा। 1931, 1932 और 1933 की शुरूआत में हजारों बैंकों पर ताला लग गया। इस विकट स्थिति में, राष्ट्रपति हर्बर्ट हूवर के प्रशासन ने सरकारी ऋण के जरिए बैंकों का समर्थन करने की कोशिश की, विचार यह था, कि बैंक बदले में व्यवसायों को ऋण देंगे, जिससे वो रोजगार दे सकें। हूवर का मानना था कि सरकार को अर्थव्यवस्था में सीधे हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए, और नागरिकों के लिए रोजगार की जिम्मेदारी सरकार की नहीं है। 1932 तक लगभग 1.5 करोड़ लोग (20 प्रतिशत जनसंख्या) बेरोजगार थे। इन हालातों में, डेमोक्रेट फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट राष्ट्रपति का चुनाव आसानी से जीत गए।एफडीआर ने एक शांत ऊर्जा और आशावाद को देखा। रूजवेल्ट ने देश के आर्थिक संकट का समाधान करने के लिए तत्काल कार्रवाई की, जिसमें बैंक के सुधर के लिए कानून, स्टॉक मार्केट को किसी अप्रत्याशित घटना से बचाने के लिए कानून इसके अलावा खेती-किसानी और बांध निर्माण के लिए टीवीए और स्थायी नौकरी के लिए डब्ल्यूपीए जैसे कार्यक्रम चलाए गए। डब्ल्यूपीए के तेहत अमेरिका में 1935 से 1943 तक 85 लाख लोगों को रोजगार दिया गया। साथ ही 1935 में, यूएस कांग्रेस ने सामाजिक सुरक्षा अधिनियम पारित किया, जिसने पहली बार बेरोजगारों, विकलांगों और वृद्धों को पेंशन दी। अगले तीन वर्षों में अमेरिकी अर्थव्यवस्था में सुधार जारी रहा, इस दौरान वास्तविक जीडीपी औसतन 9 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से बढ़ी। अमेरिकी अर्थव्यवस्था कुछ ही वर्षों में भीमकाय हो गई। आखिरकार “द ग्रेट डिप्रेशन” बीत गया। इस संकट से उभरने के संघर्ष ने साबित कर दिया कि आपदाओं को अवसरों में बदला जा सकता है। दिखावों ने किसी भी तरह के पुनरुद्धार में कभी मदद नहीं की और न ही अब करेंगे। सुधार अनिवार्य हैं।


अक्षत मित्तल
(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं। यह इनके निजी विचार हैं।)

Load More Related Articles
Load More By Akashat Mittal
Load More In विचार मंच

Check Also

Argument on new agricultural laws!: नए कृषि कानूनों पर तर्क-वितर्क!

जबसे केंद्र सरकार नए कृषि विधेयकों को लेकर आई है, तबसे इसके पक्ष-विपक्ष में कई तर्क रखे जा…