Home संपादकीय विचार मंच Trying emergency remembering their time: अपने समय को याद कर रही आपातकाल की कोशिश

Trying emergency remembering their time: अपने समय को याद कर रही आपातकाल की कोशिश

3 second read
0
0
229

45 ग्रीष्मकाल पूर्व तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा आंतरिक आपातकाल की घोषणा की गई थी।शुक्रवार को बिना सोचे समझे ही विचार मेरे मन में आया।शायद जून महीने में इस देश के भाग़्य का रास्ता किसी और क्रम में बदल गया था। 23 जून, 1953 को भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी का देहांत हुआ और कांग्रेस के सामने वैचारिक रूप से एक राजनीतिक सत्ता छोड़ दी गई। भाजपा इस राजनीतिक थीसिस का नया अवतार है।
23 जून, 1980 को संजय गांधी को, जिन्हें अपनी मां द्वारा सरकार की बागडोर संभालने के लिए तैयार किया जा रहा था, विमान दुर्घटना में मौत हो गई और राजनीतिक गति बदल गई।फिर 23 जून 1985 को एअर इंडिया जंबो (कनिष्क) को सिख उग्रवादियों द्वारा आयरलैंड के तट के पास उड़ा दिया गया, जिन्होंने मॉन्ट्रल में बम फेंका, जिससे यात्री और चालक दल के सदस्य मारे गए।
12 जून, 1975 को जब समाजवादी नेता राज नारायण की याचिका पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश जगमोहन लाल सिन्हा ने इंदिरा गांधी को राय बर्लिन से एक ऐतिहासिक फैसले दिया। उसी दिन से उसके लिए यह दुहरी चोट थी। उसी दिन से उसके विश्वासपात्र दुर्गा प्रसाद धर उस समय सोवियत संघ में राजदूत के रूप में नियुक्त हो गए।1971 के आम चुनावों में इंदिरा गांधी ने जनसंघ, स्वतंत्रता दल, समाजवादियों और कांग्रेस (ओ) के बीच में अपने कार्यकाल के दौरान एक सुगठित आंदोलन से घिरा हुआ पाया।
नव निर्माण औडोलन, जिसने एक साल पहले गुजरात और बिहार में कदम रखा था, में एक महान उतार-चढ़ाव हो रहा था।राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता इन दो आंदोलनों का समर्थन कर रहे थे। इस फैसले के बाद प्रधानमंत्री अपना इस्तीफा दे देना चाहते थे, लेकिन संजय और उनके समर्थकों ने उनसे कानूनी विकल्प तलाशने का अनुरोध किया और उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ, जिसका उनके दिमाग में उद्देश्य था, सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई। 1 सफदरजंग रोड पर अपने आवास के बाहर कांग्रेस के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में एकत्र हुए और उनसे आग्रह किया कि वे प्रधानमंत्री बने रहें।जब जयप्रकाश नारायण ने वदीर्धारी शक्तियों को सरकार के आदेशों के विरुद्ध विद्रोह करने और अवज्ञा करने का आह्वान किया तो उन्होंने उसका विरोध किया।उसने इंदिरा को दम कर पश्चिम बंगाल के मुयमंत्री सिद्धार्थ शंकर राय को बुलाने का आह्वान किया। राय सर्वोच्च संवैधानिक विशेषज्ञ थे और उन्होंने सुझाव दिया कि देश की परिस्थितियों में आगे रहते हुए आंतरिक आपात स्थिति की घोषणा की जा सकती है।
उनके प्रधान सचिव पी. एन. धर ने अधिसूचना तैयार की और 25-26 जून की रात राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद की सहमति प्राप्त करने के बाद आपातकाल के एक राज्य की घोषणा की गई।कैबिनेट ने 26 जून की सुबह इस आदेश का अनुसमर्थन किया। इस घोषणा से प्रमुख विपक्षी नेताओं की गिरफ्तारी हुई और उनके साथ प्रेस की स्वतंत्रता में गंभीर कटौती हुई।बहादुरशाह जफर मार्ग पर अखबार के दफ्तरों में बिजली की सप्लाई बंद कर दी गयी, हिंदुस्तान टाइम्स और ‘स्टेट्समैन’ ने तभी देखा जब उनके परिसरों को कनॉट-प्लेस एरिया में रखा गया।मेरे पास पहले दिन की कई ज्वलंत यादें हैं-कोई भी यह समझने में सक्षम नहीं था कि क्या चल रहा था।हालांकि यह केवल राजनीतिक दल ही निशाना बना रहा। मैंने विश्वविद्यालय के परिसर में दौरा किया, जहां डूसू के अध्यक्ष अरुण जेटली को कॉफी घर के नजदीक विरोध प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार किया गया। मेरे वरिष् दीपक मल्होत्रा और प्रेम स्वरूप नायर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दफ्तर की ओर दौड़े, जो इसके बाद 5 बजे राजेंद्र प्रसाद मार्ग में स्थित थे। आंध्र के एक नेता राव, जो चंद्रशेखर के नेतृत्व में चंद्रशेखर के ‘युवा तुर्क’ चौकड़ी में थे, और मोहन धराया तथा कृष्ण कांत इसके अन्य सदस्य थे, के साथ नजर रखे हुए थे।
एक पाटदार राव ने गहराई और प्रेम दोनों से कहा कि आपातकाल के बारे में किसी भी अफवाह की अथवा किसी भी आवाज की उपेक्षा कर दें। इमर्जेंसी ने सुब्रमण्य स्वामी को जनसंघ के स्थायी नेता के रूप में उभरते देखा।यह एक हैरानी की बात थी कि उन्होंने चुपके से संसद में प्रवेश किया, रजिस्टर पर हस्ताक्षर किए और गायब हो जाने की कार्रवाई की।उनके संरक्षक नानाजी देशमुख और वरिष्ठ नेता केदर नाथ साहनी भी भूमिगत हो गए और एक उद्योगपति के स्वामित्व वाले कैलाश कॉलोनी हवेली के अस्थायी रूप से आश्रय लेने के लिए जो संजय गांधी के सास के कर्नल आनंद के व्यापारिक भागीदार बने।
कमल नाथ संजय के कुछ दोस्तों में से एक थे, जिन्होंने शाम के घर से खुलासा नाटक देखा।इसके बाद उन्हें इंदिरा गांधी ने निर्देश दिया कि वे ज्योति बसु को इस बात का संदेश देंगे कि उन्हें गिरतार नहीं किया जाएगा.बसु कलकत्ता में अमल दत्ता के घर में छुप रहे थे, जहां कमल नाथ ने निर्देश दिये थे।अतिरेकताओं की खबरें मिलीं, सत्तारूढ़ व्यवस्था की छवि को उद्विजित कर रही थीं और इमर्जेंसी ने इंदिरा गांधी के घटनापूर्ण कार्यकाल का सबसे गहरा अध्याय शेष रखा था।उसकी सबसे उल्लेखनीय अंतर्दृष्टि यह थी कि मीडिया को अपना कर्तव्य निभाने की अनुमति दी जाए।
समाचारों को प्रेस या थ्रॉटलिंग करना, आगे चलकर उल्टी-उत्पादक हो सकता है।
(लेखक द संडे गार्डियन के प्रबंध संपादक हैंं।)

Load More Related Articles
Load More By Pankaj Vohara
Load More In विचार मंच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The Right to Education Act should be implemented: शिक्षा अधिकार अधिनियम को लागू किया जाए

केंद्र सरकार ने दिल्ली विश्वविद्यालय के चार साल के पूर्व स्नातक कार्यक्रम को समाप्त करने क…