Home संपादकीय विचार मंच Neither caste nor religion in train: ट्रेन में न जाति न मजहब

Neither caste nor religion in train: ट्रेन में न जाति न मजहब

14 second read
0
76

यह अकेला हिंदुस्तान ही है, जहां ट्रेन के सफर में हम एक-दूसरे के इतना करीब आ जाते हैं, कि संकोच-संकोच में ही अगले के बारे में सब कुछ जान जाते हैं। पिछले दो जुलाई को जब हम त्रिवेंद्रम राजधानी से उडुपी जा रहे थे, तब हमारे केबिन में एक मुस्लिम जोड़ा आ गया। वे लोग सउदी अरब से आ रहे थे।पति दुबला-पतला और उसके चेहरे पर दाढ़ी थी। जबकि बीवी खूब खाते-पीते घर की लग रही थी, पर उसने अपने बदन पर बुरका इस तरह से लपेट रखा था, कि बस उसकी दो सजल आंखें ही दिख रही थीं। उनका दो बर्थ वाला कूपा दूसरा था, लेकिन वहां कोई और सवारी सो रही थी, अत: वे हमारे चार बर्थ वाले कूपे में आ गए। हमारे यहां दो बर्थ खाली थीं। उस बुरके वाली स्त्री ने बताया कि उसके अपने कूपे में लेटे मियां-बीवी ने कहा है, कि वे लोग कोटा उतर जाएंगे, इसलिए वह इधर आ गई। वह स्त्री मेरी बर्थ पर मेरे बगल में बैठी थी, पति अनिल जी की बर्थ पर। स्त्री की गोद में एक साल का प्यारा-सा बच्चा था। कुछ देर की हिचक के बाद उन्होंने हमसे पूछा, कि कहां जा रहे हैं? हमारे उडुपी बताने पर वे खुश हुए और कहा कि हम उडुपी के अगले स्टेशन मंगलौर उतरेंगे। मैने पूछा कहां के रहने वाले हैं? बीवी ने बताया कि मैं मंगलोरियन हूं और ये चेन्नई के। फिर तो उसने बातचीत का जरिया ही खोल दिया। बताने लगी, कि मेरी तीन बहनें हैं। जबकि ये दो भाई। जेठ सरकारी नौकरी में हैं और जेठानी कॉलेज में पढ़ाती है। वे सब चेन्नई में रहते हैं। अपने बारे में बताया कि हम उडुपी के करीब कुंडापुर के हैं। उसने भले बुरका पहन रखा हो पर मुझसे बात करने में उसे झिझक नहीं थी। उसके अंदर आत्म विश्वास भी खूब था। उसकी हिंदी बोली में दक्षिणात्य पुट था और वह खूब बातूनी थी। जबकि पति चुप्पा और घुन्ना-सा लगा। मैने पूछा कि तुम कितने साल से सऊदी में हो? बोली- तीन साल से। तुम्हें तो सऊदी बोली यानि कि अरबी आती होगी? मैने अगला सवाल किया। उसने कहा कि थोड़ी-थोड़ी समझ लेती हूं। फिर सीखी क्यों नहीं? मैने पूछा, तो उसका जवाब था कि मुझे हिंदुस्तानी बोली और हिंदुस्तान पसंद है। मैं अरबी सीखूंगी भी नहीं। उसने बताया कि सऊदी में बुरका अनिवार्य है और वहां औरतें अकेले घर से नहीं निकल सकतीं। मैने कहा कि इस तरह का बुरका पहनना वहीं सीखा? बोली नहीं, हमारे अब्बू बुरके के पाबंद हैं। जबकि ससुराल में न सास पहने न जेठानी। इतना कहते हुए उसने चेहरे से नकाब उतार दिया। गेहुंआ रंग और सुतवां नाक। वह सुंदर महिला थी। त्रिवेंद्रम राजधानी एक्सप्रेस में मेरी उस मुस्लिम सहयात्री ने चेहरे से नकाब उतारा और बताया कि उसका नाम रूबीन है। पति का नाम अब्दुल्लाह। जो एक साल का बच्चा उसकी गोद में था, उसका नाम उसके पति ने फातिमा रखा है, लेकिन रूबीन ने उसमें अयान और जोड़ा है। रूबीन ने बताया कि आगे चलकर बच्ची जब मां से पूछेगी, कि ममा तुमने मेरा यह कितना पिछड़ा नाम फातिमा क्यों रखा है? तो वह क्या जवाब देगी? इसीलिए उसने यह आधुनिक नाम अयान रखा है। यह नाम पढ़े-लिखे मुस्लिम भी रखते हैं, हिंदू भी और ईसाई भी। फिर उसने पूछा, कि आप लोगों के नाम क्या हैं? मेरा नाम सुनकर वह बोली, कि हमारी तरफ जो शिनॉय होते हैं, वही यूपी में शुक्ला हो गए! उसकी यह व्याख्या अच्छी लगी। आप लोग अपनी बीवियों को लेकर क्यों नहीं आए? उसने धमाकेदार सवाल किया। उसे यह समझाने में काफी दिक्कत हुई, कि हम लोग अपनी बीवियों को लेकर क्यों नहीं आए। उसने यह भी पूछा कि हमारे कितने बच्चे हैं? मैने बताया कि तीन बेटियां हैं। और उनके भी बच्चे हैं। बड़ी बेटी के एक बेटा और एक बेटी तथा छोटी के भी बेटी-बेटा। मंझली के एक बेटा है। कितने में पढ़ते हैं, कैसे लगते हैं? क्या फोटो लाए हैं? आदि तमाम जिज्ञासाएं उसने जताईं। अनिल जी से भी उसने यही सब सवाल किए। उसके पास बातों की कमी नहीं थी। तब तक कोटा आ गया और वे दोनों पति-पत्नी अपने जी केबिन में चले गए और एफ में हम अकेले रह गए। लेकिन जाते-जाते वह कह गई, कि जब भी आप लोग बोर हों, हमारे केबिन में आ जाइएगा। और मैं बोर हुई तो आप लोगों के पास आ जाऊंगी। शाम को वह बच्ची को लेकर आई। अब वह बुरका नहीं पहने थी। उसने साड़ी पहन रखी थी, एकदम कर्नाटकी अंदाज में। बोली- पसंद तो मुझे साड़ी ही है। लेकिन बुरका पहनना ही पड़ता है। उसने कहा कि आप लोगों की तरफ अच्छा है। वहां मुसलमान औरतों पर बुरके की पाबंदी नहीं है। जो मन आए पहनो। मगर हमारे साउथ में इतना खुलापन नहीं है। मैने कहा कि नार्थ इंडिया में 99 प्रतिशत मुसलमान पहले हिंदू थे, बाद में वे कन्वर्ट होकर मुसलमान बने हैं। इसलिए पहरावे, रीति-रिवाज और जाति-बिरादरी में वे हिंदू जैसे ही हैं। मैने उसे बताया कि नार्थ में मुस्लिम परिवार शादी के पहले बिरादरी देखते हैं, फिर कुछ तो कुंडली मिलान भी करते हैं। तो उसने कहा, कि वे इस्लाम के सच्चे बंदे नहीं हो सकते। फिर वह चली गई। कोटा के बाद हमारी त्रिवेन्द्रम एक्सप्रेस ट्रेन वडोदरा आकर रुकी। रात पौने 11 बज रहे थे, लेकिन फेसबुक की दोस्ती ज्यादा दमदार होती है। वडोदरा स्टेशन पर श्री अनिल तिवारी हमारा इंतजार कर रहे थे। जैसे ही हमारी ट्रेन रुकी, वे कई पैकेट गुजराती नमकीन के तथा खूब घोंटे गए खोये के पेड़े लेकर हमारे केबिन में आ गए। ट्रेन दस मिनट तक वहां रुकती है, तब तक वे हमारे साथ ही रहे। अगले रोज सुबह नाश्ते के बाद रूबीन अपनी बच्ची फातिमा अयान को लेकर हमारे केबिन में आई। आज उसने बुरका तो पहन रखा था, लेकिन चेहरा और सिर खुला हुआ था। उसने बताया, कि उसके कूपे में चूंकि हम दो लोग ही हैं, इसलिए यह भी कब तक अपनी ममा और डैडी का चेहरा देखे! इसलिए रात भर ये रोती रही। मैं इसके डैडी के पांव दबाने लगी, तो इसने रोना शुरू कर दिया। हमने बच्ची को पेड़े खिलाए और उसे भी दिए। पेड़े खाकर बच्ची भी हमसे परक गई। और वह हमारी गोद में आ गई। रूबीन को भी पेड़े खूब स्वादिष्ट लगे, और दो पेड़े वह अपने पति के लिए भी ले गई। वह सऊदी अरब के बारे में चाव से बताती रही। उसने हमसे कहा, कि आप लोग वहां आइएगा, लेकिन बिजिनेस वीजा लेकर ही। क्योंकि वहा टूरिस्ट वीजा बहुत मुश्किल से मिलता है। वहां तो सिर्फ हज करने वाले जा सकते हैं। मैंने पूछा कि यह बच्ची तो सऊदी में पैदा हुई होगी? बोली- नहीं, जब यह होने वाली थी, तब मैं हिंदुस्तान आ गई थी। डिलीवरी मायके में हुई। यूं भी मैं नहीं चाहती कि हमारी बेटी सऊदी की औलाद कहलाए। उसने यह भी बताया कि वैसे वहां पर अगर हम करीब एक करोड़ रुपए दे दें तो हमें सऊदी का ग्रीन कार्ड मिल सकता है। पर हम लेंगे नहीं, क्योंकि इतना रुपया दें, फिर वहां की नागरिक सुविधाएं हम हासिल नहीं कर सकते। सऊदी कोई अच्छा मुल्क नहीं है। बहुत भेद-भाव होता है, हमारे साथ। मगर पेट के वास्ते वहां पड़े हैं। जहां न तो लोग अपने, न धरती अपनी और न ही समान व्यवहार। अलबत्ता पाकिस्तानियों की बात अलग है, उनके मुल्क में कोई काम नहीं है, इसलिए वे किसी भी हालत में रह लेते हैं। वहां औरतें अकेले घर से निकाल नहीं सकतीं। जो औरतें नौकरी करती हैं, उन्हें कंपनी की कैब में ही जाना होता है। अब हमारी ट्रेन कोंकण रेलवे के रूट पर चल रही थी। ट्रेन रत्नागिरि पार कर चुकी थी। दोनों तरफ साद्रि की पहाड़ियां, जंगल, झरने और उफनाती नदियां थीं। इनको निहारते हुए रूबीन बोली- सऊदी में हम इस हरियाली को तरस जाते हैं। उसकी आंखों में अपनी धरती और अपने लोगों के लिए प्यार उमड़ता स्पष्ट दीख रहा था। रूबीन इस्लाम पंथ की अनुयाई थी, लेकिन कट्टरता उसमें नहीं थी। उसे हरीतिमा से प्यार था, उसे संगीत से प्यार था और गाने-बजाने से भी। उसे हिंदुस्तान से प्यार था और हिन्दू धार्मिक रीति-रिवाजों से भी। उसने हमसे बार-बार कहा, कि आप जब अगुम्बे जाएं तो शृंगेरी स्थित शारदा पीठ पर जाएं और शंकराचार्य से भी मिलें। उसने बताया, कि यह मठ आदि शंकराचार्य ने ही बनवाया था, इसलिए आप लोग जरूर जाएं। फिर वह चली गई।
(लेखक वरिष्ठ संपादक हैं।यह इनके निजी विचार हैं।)

Load More Related Articles
Load More By ShambhuNath Shakula
Load More In विचार मंच

Check Also

The farmer and his produce!: किसान और उसकी उपज!

किसान आजकल आंदोलित हैं, उन्हें लगता है उनके साथ छल किया गया है। कृषि मंडियों और न्यूनतम सम…