Home संपादकीय विचार मंच Cuba, Novichok, Security Law and Galvan: क्यूबा, नोविचोक, सुरक्षा कानून और गलवान

Cuba, Novichok, Security Law and Galvan: क्यूबा, नोविचोक, सुरक्षा कानून और गलवान

1 second read
0
77
हम में से ज्यादातर विश्वास करना चाहते हैं कि हम क्या विश्वास करना चाहते हैं।1939 में नाजी जर्मनी द्वारा पोलैंड पर किए जाने हमले तथा बाद में बेल्जियम और नीदरलैंड पर विजय के बाद प्रधानमंत्री के रूप में और बाद में रूढिवादी दल के उच्चतम दल में नेविले चेम्बरलेन तथा कई अन्य लोगों का विश्वास था कि हिटलर पर विश्वास किया जा सकता है कि लंदन के साथ सम्मानजनक समझौता हो जाए।चेम्बरलेन का प्रयास हिटलर से पहली बार हुआ जब चेम्बरलेन का मन था कि ब्रिटिशों को एक दूसरे विश्व युद्ध से बचाया जाए और इस आशा को बनाये रखा जाए तो उन्होंने (फ्रांसिसी लोगों के साथ) मौका गंवा दिया जिससे हिटलर को अपनी सेनाओं को पराजित करने का मौका मिल सके और उनकी पहली हड़ताल भी पूरी न हो।
फिर भी, यह कहा जा सकता है कि ब्रिटेन और फ्रांस के लोग युद्ध से थक गये थे और अगर एंग्लो-फ्रांसीसी गठबन्धन ने युद्ध की शुरूआत की तो वे खुश नहीं हुए होते। परन्तु वास्तविकता यह है कि युद्ध का तथ्य (एक बार शुरू किया गया) जनसंख्या के बीच उत्तेजित आक्रामकता के आत्मचिरस्थायी एलिक्सिर बन जाता है।अगर चेम्बरलेन उसी मस्तिष्क के रहे तो जहाँ तक नाजियों का सवाल था उसने अंग्रेज जनता को डेर फ्यूरर के भ्रष्ट होने के बारे में शिक्षित कर दिया और 1936 में ग्रेनालैंड और 1938 में फ्रांस और ब्रिटेन के अपने देश की रक्षा के साथ समन्वय स्थापित करने के लिए तैयार कर दिया तो वह हिटलर के पतन का अपमान हुआ। अधिक से अधिक, न केवल साधारण लोग बल्कि मध्यम वर्ग के लोगों को, और अंत में व्हाइट हाउस के एक बढ़ते हुए हिस्से को विश्वास था कि चर्चिल कभी हिटलर के बारे में चेतावनी दे रहा था और अगर जरूरत पड़े तो उसे रोक सकता था और चेम्बरलेन ने जर्मनी के तानाशाह के साथ, जो अपने जीवन के अधिकांश समय के लिए सम्मान को अधिक बोझ मानने के विचार को स्वीकार करता था, एक ‘सम्मानजनक’ स्थान पाने के अपने दयनीय प्रयासों में गलती की थी।
वैसे 1962 में सीपीयू के महासचिव श्री खरशेच के प्रक्षेपास्त्र संकट ने अमेरिका में सैन्य शोचनाव की समस्या को रोका होगा (जो कि निश्चित रूप से परमाणु क्षेत्र में नहीं पहुंच पाएगा) और राष्ट्रपति जॉन एफ केनेडी को इस तरह के युद्ध के परिणाम के बारे में बताया गया होगा)।
वैसे, अमेरिका में यह प्रभाव तेजी से बढे गया कि सोवियत रूस ने अमेरिका पर परमाणु प्रक्षेपास्त्रों के बाद से एक इंच के भीतर ही यह पक्का कर दिया कि उस समय के बाद अमेरिकी क्षेत्र सोवियत संघ के पक्ष में शीत युद्ध के बजाय सिकुड़ और सिकुड़ गया। इस प्रकार सोवियत संघ के नष्ट होने के बावजूद नाटो के सहयोगियों ने हथियार होड़ और रोकथाम की नीति का सूत्रपात किया।
पर उस चिंगारी ने मास्को और पश्चिमी यूरोप के बड़े देशों के बीच शीत युद्ध के नवीनीकरण को सुनिश्चित किया था। यह उम्मीद नहीं की गई थी कि एक बदली में दूसरे के लिए आदान-प्रदान करने वाले एजेंट को छोड़ने की प्रथा इस तरह की शैतानी रीति से तोड़ी जाएगी।
सरकार की हत्या में अब जिस जिस खबर पर जहर उतारा गया है उसका अभी तक कोई उपयोग नहीं है, उस पर भी अब यह जहर लाने वाला है।इसी समय के बाद से अनेक देशों के नेता पुतिन को ऐसे व्यक्ति मानते हैं जो जुडोका पेशी की चिंता में है और इसलिए इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि यदि उन्हें किसी न किसी तरह अपने पद से हटा दिया जाए तो दुनिया को बेहतर सेवा मिलेगी।यदि किसी समय राष्ट्रपति पुतिन को एटलांटिक एलयंस के मित्र बनने का मौका मिला तो स्करपाल हत्या ने उसे वहां से निकाल दिया और सीसीपी जनरल सेक्रेटरी के मस्तूल पर अपने रंग बांधने के अलावा छोड़ दिया।
इसके अलावा, एक बार डोनाल्ड ट्रम्प ने ऐक्सआई की तीखी प्रशंसा के बावजूद अटलांटिक गठबन्धन के नेता उन्हें इतना अधिक पसंद करते हैं जितना वे राष्ट्रपति पुतिन करते हैं, एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जिनके साथ वे कभी भी सामंजस्य नहीं कर सकते।जिस क्षण कंक्रीट पर यह विचार दृढ़ हो गया उसी दिन जिस दिन पूर्व ब्रिटिश उपनिवेश में हांगकांग सुरक्षा कानून लागू हुआ जैसे कि मूड के इस निश्चित परिवर्तन के अन्य उदाहरणों में, इसका अधिकांश भाग ऐक्सी लोगों की भावनाओं से और जिस दृढ़ संकल्प से वह पूरी तरह से उसके लिए अनुकूल समाधान खोज रहा है, उससे प्रेरित होता है।
(लेखक द संडे गार्डियन के संपादकीय निदेशक हैं। )
Load More Related Articles
Load More By M.D Nalpat
Load More In विचार मंच

Check Also

Ignore the disgusting hoot of Chinese media: चीनी मीडिया के घिनौने हूट को नजरअंदाज करें

एक फिल्म थी, संभवत: इंडियाना जोन्स, जहां एक मार्शल आर्ट योद्धा ने युद्ध करने के लिए प्रवेश…