Home संपादकीय विचार मंच एक संत को सेवा-संकल्प का प्रतिफल

एक संत को सेवा-संकल्प का प्रतिफल

4 second read
0
21

श्याम सुंदर भाटिया
कहते हैं, जितना सोना तपता है, उतना ही निखरता है। किसी तपस्वी के कठोर तप पर भी यह कहावत 100 प्रतिशत खरी उतरती है। देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश के मुखिया श्री योगी आदित्यनाथ देशभर के मुख्यमंत्रियों में अव्वल आए हैं तो कोई अजूबे की बात नहीं है। यह योगी को 18-18 घंटे की कर्म-पूजा का ही प्रसाद है। मीडिया के एक बड़े घराने की ओर से कराए गए सर्वे में 24 फीसदी लोगों ने दीगर सूबों की तुलना में योगी के काम को सर्वश्रेष्ठ माना है। आश्चर्य यह है, टॉप 10 में भाजपा शासित किसी भी प्रदेश का मुख्यमंत्री दूर-दूर तक नहीं है। नतीजन योगी देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री साबित हुए। यह सर्वे 19 राज्यों, 97 लोकसभा क्षेत्रों और 194 विधान सभाओं के बारह हजार इक्कीस लोगों से आॅनलाइन संवाद के जरिए हुआ।
योगी पिछले साल भी इस सर्वे में अव्वल थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविन्द केजरीवाल,बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को पीछे छोड़ते हुए यह दशार्ता है, उनकी कार्यशैली में दम है। इस सर्वे में 15 प्रतिशत लोग दिल्ली के सीएम श्री अरविन्द केजरीवाल को लोकप्रिय मानते हैं। खास बात यह है, सर्वे में जो सात सबसे लोकप्रिय सीएम चुने गए हैं, उनमें से छह गैर- भाजपा और गैर कांग्रेसी हैं। सर्वे में गुजरात के सीएम विजय रुपाणी सबसे निचले पायदान पर हैं। असरदार कामकाज को लेकर 15 से 27 जुलाई के बीच हुए सर्वे में इन लोगों ने माना कि यूपी के सीएम सबसे अच्छा काम कर रहे हैं। सर्वाधिक 24 फीसदी लोगों ने यह मोहर लगाई है। मुख्यमंत्रियों के कामकाज के असर को लेकर इन्हीं सवालों को जनवरी में भी किया गया था, लेकिन योगी जी को तब 18 प्रतिशत लोग पसंद कर रहे थे।
इसका मतलब साफ है, 06 प्रतिशत पसंदगी में इजाफा यह दशार्ता है, योगी को यह संकल्प, समर्पण और सेवा का प्रतिफल है। एक तपस्वी मुख्यमंत्री में जनता के प्रति गजब का जोश और जुनून है। कोरोना महामारी के दौरान का यह अति महत्वपूर्ण उदाहरण उल्लेखनीय है। मुख्यमंत्री अपने पिताश्री आनंद सिंह बिष्ट के देहावसान पर अंतिम दर्शन के लिए भी नहीं गए। काम के प्रति जुनूनी एवं कर्मठ मुख्यमंत्री योगी ने अपने पिताश्री के निधन पर शोक श्रद्धांजलि देते हए कहा था, यूपी में कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते पिता के अंतिम दर्शन नहीं कर पाएंगे। उन्होंने परिवार से यह अपील भी की थी कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अंतिम क्रिया संपन्न कराएं। आपको जानकर यह आश्चर्य होगा, मुख्यमंत्री को जब पिता के निधन की जानकारी मिली तो वह कोरोना को लेकर आला अफसरों संग मीटिंग कर रहे थे। वह कुछ देर के लिए स्तब्ध और नि:शब्द रह गए।
फिर भी उन्होंने मीटिंग जारी रखी। उन्होंने परिवार को एक मार्मिक पत्र भी लिखा- अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर मुझे भारी शोक है। अंतिम क्षणों में उनके दर्शन की हार्दिक इच्छा थी, लेकिन लेकिन कोरोना वायरस के खिलाफ देश की लड़ाई को यूपी की 23 करोड़ जनता के हित में आगे बढ़ाने का कर्तव्यबोध के कारण मैं नहीं पहुंच सका। अंतिम संस्कार में लॉकडाउन की सफलता और कोरोना को परास्त करने की रणनीति के कारण भाग नहीं ले पा रहा हूं। यह दुर्लभ उदाहरण योगी को दूसरे मुख्यमंत्रियों से अलग बनाते हैं।
इससे साफ है, योगी अपने आवाम से कितना कनेक्ट हैं। परिवार के दु:ख-सुख की तुलना में सूबे का परिवार फर्स्ट है। कोविद और तालाबंदी के प्रति उनकी संजीदगी जगजाहिर है। मुख्यमंत्रियों के कामकाज की सर्वे के जरिए पड़ताल में दिल्ली के सीएम श्री अरविन्द केजरीवाल 15% अपने पक्ष में राय पाकर दूसरे नंबर पर रहे जबकि 11% लोगों ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की वर्किंग को पसंद किया। सर्वे में वह तीसरे नंबर पर रहे। इस सर्वे में 67% ग्रामीण जबकि शेष 33% शहरी जनता थी। सर्वे में यूपी के अलावा दिल्ली, बिहार, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, असम, आंध्रप्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु के लोगों से किया गया। सर्वे में 52% पुरुष और 48% महिलाएं शामिल थीं। सर्वे के सैंपल में काश्तकार, नौकरीपेशा, व्यापारी, बेरोजगार, छात्र आदि को शामिल किया गया था। सीएम योगी आदित्य नाथ का मूल नाम श्री अजय सिंह बिष्ट है। उनका जन्म 05 जून, 1972 को उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल जिले के यमकेश्वर के पंचूर गांव में हुआ।

(लेखिका सीनियर जर्नलिस्ट और रिसर्च स्कॉलर हैं। यह इनके निजी विचार हैं।)

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In विचार मंच

Check Also

Minister of State for Railways Suresh Angadi passed away, infected with Corona virus: रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का निधन, कोरोना वायरस से थे संक्रमित

नई दिल्ली। कोरोना वायरस केकारण केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का बुधवार को निधन हो …