HomeAssembly Election 2022UP Assembly Election Result 2022UP Assembly Elections 2022 प्रधानमंत्री की 32 रैलियों में 193 सीटें कवर,...

UP Assembly Elections 2022 प्रधानमंत्री की 32 रैलियों में 193 सीटें कवर, जानते हैं यहां के समीकरण

UP Assembly Elections 2022

आज समाज डिजिटल, लखनऊ:
उत्तर प्रदेश समेत पांचों राज्यों के लिए प्रधानमंत्री ने ताकत लगा दी थी। इन रैलियों का असर कितना हुआ। ये सामने आना शुरू हो गया है। आपको बताते हैं पिछले 23 दिन के अंदर कहां-कहां रैलियां कीं और उन जिलों के समीकरण:-

32 फिजिकल और 12 अन्य रैलियां

प्रधानमंत्री मोदी ने यहां कुल 32 फिजिकल और 12 वर्चुअल रैली की। ज्यादातर वर्चुअल रैली पहले चरण वाली सीटों में हुईं। प्रधानमंत्री ने फिजिकल रैली की शुरूआत 10 फरवरी से शुरू की, जब पहले चरण का मतदान चल रहा था। वर्चुअल रैली के जरिए पीएम ने यूपी की 126 सीटों को कवर किया। पिछली बार इनमें से 104 सीटें भाजपा के खाते में थीं।  इन जिलों में रैलियां कीं उनमें सहारनपुर, कासगंज, कन्नौज, कानपुर देहात, सीतापुर, फतेहपुर, हरदोई, उन्नाव, बाराबंकी, कौशांबी, अमेठी, प्रयागराज, बस्ती, देवरिया, वाराणसी, बलिया, महाराजगंज, सोनभद्र, गाजीपुर, जौनपुर, चंदौली और मिजार्पुर शामिल थे।

शुरुआत गढ़वाल के श्रीनगर से UP Assembly Elections 2022

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड में तीन चुनावी रैलियों को संबोधित किया। पहली रैली 10 फरवरी को पौढ़ी गढ़वाल के श्रीनगर में थी। यहां छह सीटें हैं और 2017 में इन सभी पर भाजपा प्रत्याशियों ने जीत हासिल की थी। इसी तरह दूसरी रैली पीएम ने 11 फरवरी को अल्मोड़ा में की थी। यहां भी छह सीटें हैं और सभी पर पिछली बार भाजपा ने जीत दर्ज की थी। तीसरी और आखिरी रैली 12 फरवरी को ऊधम सिंह नगर में हुई थी। यहां सबसे ज्यादा नौ विधानसभा सीटें हैं।

तीन फरवरी को भी उत्तराखंड

इसके पहले पीएम ने तीन अलग-अलग वर्चुअल रैलियों को भी संबोधित किया था। तीन फरवरी को उन्होंने वर्चुअल रैली के जरिए अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत और पिथौरागढ़ के मतदाताओं को संबोधित किया था। सात फरवरी को देहरादून और हरिद्वार के वोटर्स के लिए रैली थी। आठ फरवरी को उधम सिंह नगर और नैनीताल में ये वर्चुअल रैली हुई।

आठ फरवरी को दी थी पंजाब में दस्तक UP Assembly Elections 2022

पीएम मोदी ने पंजाब में तीन फिजिकल और एक वर्चुअल रैली को संबोधित किया। सबसे पहले आठ फरवरी  को फतेहगढ़ साहिब और लुधियाना के वोटर्स के लिए रैली हुई। इसके पहले सुरक्षा कारणों से पीएम की एक रैली रद्द हो गई थी। इसको लेकर खूब विवाद हुआ था। इसके बाद पीएम मोदी 14 फरवरी को जालंधर में अपनी पहली फिजिकल रैली के लिए पहुंचे। यहां नौ सीटें हैं। इनमें से एक पर भी भाजपा प्रत्याशी की जीत नहीं हुई थी। 2017 में भाजपा और शिरोमणि अकाली दल ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। तब शिरोमणि अकाली दल के चार प्रत्याशियों ने जीत हासिल की थी। पांच पर कांग्रेस उम्मीदवार जीते थे। दूसरी रैली 16 फरवरी को पठानकोट में हुई। यहां तीन सीटें हैं। भाजपा यहां मजबूत मानी जाती है। पीएम की तीसरी रैली 17 फरवरी को फाजिल्का में हुई। यहां चार सीटें हैं। यहां से भी इस बार भाजपा ने सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं।

मणिपुर और गोवा पर कम दिया ध्यान

प्रधानमंत्री का सबसे कम फोकस मणिपुर और गोवा में रहा। पीएम ने दोनों राज्यों में एक-एक फिजिकल और एक-एक वर्चुअल रैली की। फजिकल रैली के जरिए पीएम ने मणिपुर की 11 सीटों को साधने की कोशिश की, वहीं गोवा की 19 सीटों पर फोकस रहा। मणिपुर में प्रधानमंत्री ने 22 फरवरी को रैली की। वहीं, 10 फरवरी को उन्होंने गोवा में रैली की।  प्रधानमंत्री ने एक दिन में तीन-तीन रैलियां कीं। 10 फरवरी को मोदी सहारनपुर, उत्तराखंड के श्रीनगर के साथ-साथ गोवा भी पहुंचे। ये फजिकल रैली का पहला दिन था। इसके बाद लगभग वह दिन उन्होंने दो से तीन रैलियां की हैं। पीएम ने सबसे ज्यादा समय अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में दिया।

Read Also : Punjab Election Results 2022 Live Update पंजाब में आम आदमी पार्टी 90 सीटों के पार

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular