Home खेल अन्य खेल अब कुश्ती के लिए आधार कार्ड हुआ जरूरी

अब कुश्ती के लिए आधार कार्ड हुआ जरूरी

चंडीगढ़ । रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (डब्ल्यूएफआई) ने सभी सीनियर, जूनियर, सब-जूनियर और कैडेट टूर्नमेंट के लिए आधार को अनिवार्य कर दिया है। फेडरेशन के मुताबिक, उम्र के गलत आंकड़े पेश करने के अलावा, इस फैसले से उन खिलाड़ियों पर भी रोक लगेगी जो जाली आवास सर्टिफिकेट देते हैं और साथ ही मूल राज्य से अनापत्ति सर्टिफिकेट लिए बिना अपना राज्य बदलकर दूसरे राज्य से खेलते हैं।

इस फैसले के बाद राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय स्तर की कुश्ती के लिए अब आधार को सभी तरह की सीनियर, जूनियर और कैडेट कैटिगरी के लिए अनिवार्य बना दिया है। डब्ल्यूएफआई के सचिव विनोद तोमर ने कहा, ‘आधार से पहले खिलाड़ी नए दस्तावेज पेश कर आसानी से उम्र में धोखाधड़ी और झूठे आवास सर्टिफिकेट पेश कर संबंधित प्रतियोगिताओं में खेल लेते थे। इस नियम के अस्तित्व में आने के वह ऐसा नहीं कर पाएंगे। अगर कोई खिलाड़ी अपना राज्य छोड़कर किसी और राज्य से खेलना चाहता है, तो ऐसे मामले उन खिलाड़ियों को अपने मूल राज्य से प्रमाणपत्र लेना अनिवार्य होगा।’

तोमर ने बताया कि आधार से हमें रेसलर्स का संपूर्ण डाटा उपलब्ध होगा और हम इसे अपने पास दर्ज कर लेंगे। इसकी मदद से हम यह मालूम कर लेंगे कि किसी पहलवान कब कौन सी प्रतियोगिता जीती थी और उस वक्त उसकी उम्र क्या थी। ये रिकॉर्ड हमें यह भी बता पाएंगे कि किसी पहलवान ने किस स्थान पर कौन सा टूर्नमेंट जीता है। ये सभी सूचनाएं आधार की मदद से रिकॉर्ड की जा सकती हैं। हाल ही में 6 जूनियर पहलवानों पर 1 साल का प्रतिबंध लगाया है। ये सभी पहलवान अपनी सही उम्र से कम उम्र की प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले रहे थे।

Load More Related Articles
Load More By आजसमाज ब्यूरो
Load More In अन्य खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

महिला कांग्रेस में भी होंगी 5 कार्यकारी अध्यक्ष, हाईकमान ने जारी किया आदेश

भोपाल । विधानसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस अपने संगठनात्मक ढांचे को चुस्त-दुरुस्त करने…