Home खेल क्रिकेट विश्व कप We were a good team in the nineties, now India is better: Sarfaraj: हम नब्बे के दशक में अच्छी टीम थे , अब भारत बेहतर है : सरफराज

We were a good team in the nineties, now India is better: Sarfaraj: हम नब्बे के दशक में अच्छी टीम थे , अब भारत बेहतर है : सरफराज

0 second read
0
0
85

 मैनचेस्टर।  पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद ने इस बात को स्वीकार किया कि नब्बे के दशक में उनकी टीम भारत से बेहतर थी लेकिन अब हालात इसके विपरीत है । भारत से विश्व कप के मैच में मिली हार के बाद पाकिस्तानी कप्तान पर उनके देश के मीडिया ने असहज सवालों की बौछार कर दी । यह पूछने पर कि क्या इतने साल में भारत पाकिस्तान प्रतिद्वंद्विता का रोमांच खत्म हो गया है, सरफराज ने कहा ,ह्यह्य हम दबाव का बखूबी सामना नहीं कर पा रहे । इस तरह के मैचों में दबाव का सामना करने वाली टीम जीतती है ।

पाकिस्तान की टीम 90 के दशक में बेहतर थी लेकिन अब भारतीय टीम हमसे अच्छी है और यही वजह है कि वे जीत रहे हैं । पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पिच नम होने पर टास जीतकर बल्लेबाजी की सलाह दी थी लेकिन सरफराज ने पहले गेंदबाजी के अपने फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि तीनों विभागों में नाकामी के कारण उनकी टीम हारी । सरफराज ने कहा ,पूरी टीम तीनों विभागों में अच्छा नहीं खेल पा रही है । यदि आप फील्डिंग की बात करें तो विराट कोहली ने भी कहा था कि वह टास जीतकर फील्डिंग चुनते । हमने दो दिन से पिच नहीं देखी थी । उस पर नमी थी लिहाजा मैने फील्डिंग का फैसला किया लेकिन गेंदबाज अनुशासित प्रदर्शन नहीं कर सके ।ह्णह्ण भारत से हार के बाद पाकिस्तानी कप्तान से हर तरह के सवाल पूछे गए । मसलन एक पत्रकार ने कहा कि खिलाड़ियों की भाव भंगिमा इतनी नकारात्मक क्यो थी । इस पर सरफराज ने कहा , आपने ऐसा देखा होगा लेकिन खिलाड़ियों ने अपनी ओर से पूरी कोशिश की । फील्डिंग में चूक हुई ।

रोहित को दो बार रन आउट किया जा सकता था । हम कर पाते तो नतीजा कुछ और होता ।ह्णह्ण एक अन्य पत्रकार ने पूछा कि क्या सभी खिलाड़ी भारत के खिलाफ खेलने के लिये शारीरिक और मानसिक रूप से फिट थे ? इस पर सरफराज ने कहा ,ह्यह्य किसी के साथ कोई मसला नहीं था । इमाद वसीम को पेट संबंधी समस्या थी लेकिन बाकी सभी ने फिटनेस टेस्ट पास कर लिया था । अब हारने पर तो आप कोई भी मसला उठा सकते हैं ।ह्णह्ण उन्होंने ड्रेसिंग रूम में मतभेद और मोहम्मद हफीज तथा शोएब मलिक जैसे सीनियर खिलाड़ियों के उनकी कप्तानी से खफा होने के सवालों के भी जवाब दिये । उन्होंने कहा ,ह्यह्यड्रेसिंग रूम के माहौल में कोई खराबी नहीं है । सभी खिलाड़ी एक दूसरे के साथ है । हफीज और शोएब को एक ओवर से अधिक नहीं देने का जहां तक सवाल है तो मुझे लगा कि उसकी जरूरत नहीं है । बल्लेबाज जम चुके थे और दोनों ने एक एक ओवर में 11 रन दे डाले थे ।ह्णह्ण अब पाकिस्तान के लिये सेमीफाइनल का दावा पुख्ता करना नामुमकिन लग रहा है लेकिन सरफराज ने कहा कि वे बाकी चारों मैच जीतने की कोशिश करेंगे । उन्होंने कहा ,ह्यह्य हमें पाजीटिव रहकर आगे के बारे में सोचना है । हम चारों मैच जीतकर वापसी करेंगे ।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In विश्व कप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The true love story , 71 years after the death of husband and wife together: प्रेम की अदभुद् कहानी, 71 साल बाद पति-पत्नि की एक साथ मौत

जर्मनी। प्यार केवल दो शरीरों का नहीं दो आत्माओं का मिलन होता है। सच्चा प्रेम ईश्वर की भक्त…