Home टॉप न्यूज़ Voice of the 942 blasts in the country PM Modi should be heard by the ears – Rahul Gandhi: देश में हुए 942 धमाकों की आवाज पीएम को कान खोलकर सुननी चाहिए- राहुल गांधी

Voice of the 942 blasts in the country PM Modi should be heard by the ears – Rahul Gandhi: देश में हुए 942 धमाकों की आवाज पीएम को कान खोलकर सुननी चाहिए- राहुल गांधी

1 second read
0
0
130

राहुल गांधी ने आज पीएम नरेंद्र मोदी को फैक्ट एंड फिगर के साथ घेरा। उन्होंने पीएम द्वारा बार-बार यह कहे जाने पर कि 2014 के बाद से धमाकों की आवाज आनी बंद हो गई है पलट वार किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कल गढ़चिरैली में मारे गए 15 जवानों का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि नक्सलियों द्वारा बुधवार को गढ़चिरौली में किए गए विस्फोट और पुलवामा, उरी जैसे हमलों का संज्ञान दिलाले हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने कान खोलकर सुनना चाहिए। यह बात विशेष तौर पर राहुल गांधी ने पीएम के उस बयान पर कही है जहां वह कहते हैं कि 2014 के बाद से देश में धमाकों की अवाज आनी बंद हो गई है। बता दें कि राहुल की यह टिप्पणी नक्सलियों द्वारा गढ़चिरौली में किए गए आईईडी विस्फोट के बाद आई है। इस विस्फोट में 15 सुरक्षाकर्मियों समेत 16 लोग मारे गए थे। राहुल गांधी ने कहा, प्रधानमंत्री कहते हैं कि भारत में 2014 के बाद से विस्फोटों की कोई आवाज नहीं सुनी गई। पुलवामा, पठानकोट, उरी और गढ़चिरौली…. और साल 2014 से 942 अन्य प्रमुख धमाके। प्रधानमंत्री को अपने कान खोलकर सुनने की जरूरत है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में नक्सलियों द्वारा एक सुरक्षा वाहन को निशाना बनाया गया। नक्सलियों ने कुरखेड़ा तहसील में ऐसे समय विस्फोट किया, जब राज्य अपना स्थापना दिवस मना रहा है। नक्सलियों ने महाराष्ट्र पुलिस के प्रतिष्ठित सी-60 कमांडो को ले जा रहे वाहन को कुरखेड़ा क्षेत्र में अपराह्न् 12.30 बजे के करीब विस्फोट कर उड़ा दिया। इस घटना के बमुश्किल से 10 घंटे पहले संदिग्ध नक्सलियों ने गढ़चिरौली के दादरपुर गांव में सड़क निर्माण से जुड़े कम से कम 36 वाहनों और एक सड़क निर्माण कांट्रेक्टर के दो साइट कार्यालयों को जला दिया था। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के नक्सल प्रभावित इलाके में अभियान चलाने वाले विशेष त्वरित प्रतिक्रिया बल के कर्मी ऐसी जगह जा रहे थे, जहां से नक्सलियों के हमला करने की साजिश की सूचना मिली थी। सूत्रों की माने तो जंगली क्षेत्र में सुनसान सड़क पर कथित तौर पर गिरे हुए पेड़ मिले। जब वे सड़क से पेड़ हटाने के लिए उतरे, विस्फोट हो गया और कमांडो तत्काल घटनास्थल पर ही शहीद हो गए।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The congregation should be held under the supervision of Shri Akal Takht Sahib: CM: श्री अकाल तख्त साहिब की सरपरस्ती में हो समागम : सीएम

चंडीगढ़। श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्य समागम को मनाने के लिए…