Home टॉप न्यूज़ Very cold in Punjab and Haryana:पंजाब और हरियाणा में ठिठुर रहे लोग

Very cold in Punjab and Haryana:पंजाब और हरियाणा में ठिठुर रहे लोग

0 second read
0
0
61

चंडीगढ़। पंजाब और हरियाणा के ज्यादातर इलाकों में ठंड का प्रकोप शुक्रवार को भी जारी रहा और आदमपुर में न्यूनतम तापमान 1.2 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया, जो दोनों राज्यों के भी किसी इलाके का सबसे कम तापमान है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने यहां बताया कि जालंधर के निकट आदमपुर में न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे चला गया है जबकि अमृतसर में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पठानकोट में भी पारा लुढ़ककर 3.3 डिग्री सेल्सियस तक चला गया है, जबकि हलवाड़ा, गुरदासपुर, फरीदकोट, बठिंडा में न्यूनतम तापमान क्रमश: 4.5 डिग्री सेल्सियस, 3.3 डिग्री सेल्सियस, 4 डिग्री सेल्सियस और 3.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 7.7 डिग्री सेल्सियस और 7.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इन दोनों शहरों में न्यूनतम तापमान सामान्य बना हुआ है। पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में कड़ाके की ठंड पड़ रही है जहां तापमान गिरकर 5.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। हरियाणा में नारनौल सबसे कम तापमान के साथ राज्य का सबसे ठंडा इलाका बना हुआ है जहां न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। हिसार में भी 5.7 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ कड़ाके की ठंड पड़ रही है। करनाल और भिवानी दोनों में न्यूनतम तापमान 5.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। सिरसा में 5.7 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान रिकॉर्ड किया गया। रोहतक और अंबाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 7.8 डिग्री सेल्सियस और 6 डिग्री सेल्सियस के साथ सामान्य बना हुआ है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि शुक्रवार सुबह धुंध की वजह से अमृतसर, बठिंडा, फरीदकोट, गुरदासपुर, अंबाला, हिसार, करनाल और भिवानी समेत कई इलाकों शहरों में दृष्यता में कमी आई है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Jagdeep made a meaningful name by burning justice lamp:न्याय दीप जलाकर जगदीप ने सार्थक किया नाम

न्याय की आसंदी पर बैठना आसान है, लेकिन उसके दायित्वों का निर्वहन बेहद कठिन है। न्याय वही क…