Home मनोरंजन वेलेंटाइन डे करीब आते ही सजने लगे फूलों के बाजार

वेलेंटाइन डे करीब आते ही सजने लगे फूलों के बाजार

जगदलपुर। संत वेलेंटाइन की याद में मनाया जाने वाला वेलेंटाइन डे यानि मोहब्बत का दिन का त्यौहार आम त्यौहारों से अलग है। 14 फरवरी के पूर्व ही स्थानीय बाजार मंहगे ग्रिटिंग कार्ड व मंहगे गिफ्ट से सजने लगा है।
वेलेंटाइन डे के एक दिन पहले से प्रेमी जोड़ों के लिए कलकत्ता से सुर्ख लाल गुलाब के फूल मंगाये जा रहे हैं। दुकानों में गिफ्ट खरीदते युवक-युवतियों की संख्या में भी लगातार इजाफा हो रहा है। अधिकतर भारतीय त्यौहार किसी क्षेत्र विशेष के ही त्यौहार होते हैं | दुर्गापूजा महज बंगाल, गणेश पूजा महाराष्ट्र यहां तक कि होली दीपावली भी राष्ट्रीय अर्थात अखिल भारतीय त्यौहार नहीं हैं, बल्कि एक क्षेत्र तक सीमित हैं, लेकिन वेलेंटाइन डे पूर्णतया देश भर में भारतीय त्यौहार के रूप में अपनी पहचान बनाता जा रहा है। युवा पीढ़ी के दिल देने और लेने भर के इस त्यौहार का विकासशील देशों में प्रचालन बढ़ता जा रहा है । इन दिनों नगर में 14 फरवरी को मनाये जाने वाले वेलेंटाइन डे के लिये बाजार सजने लगे हैं। युवा पीढ़ी के साथ-साथ स्कूली बच्चों को भी इन दुकानों पर खरीदारी करते देखा जा रहा है।
इजहार-ए-इश्क के इस रिश्ते को कायम करने के लिये दुकानों में 10 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक के गिफ्ट तथा 5 रुपये से लेकर 1500 रुपये तक के ग्रीटिंग कार्ड मौजूद हैं। जहां महंगी घड़ी, चाकलेट तथा विदेशी गिफ्ट आइटम मौजूद हैं, वहीं इस अवसर पर गुलाब के फूल बेचने वालों की भी चांदी रहती है। एक गुलाब 25 रुपये से लेकर 100 रुपये तक बेचा जाता है। वेलेंटाइन डे पर सुर्ख लाल गुलाब की कली की कीमत अधिक होती है। कहना उचित होगा कि दिलों के लेन-देन का यह कारोबार उन्हीं के लिये होगा, जिसका दिल ही नहीं जेब भी गरम हो।

Load More Related Articles
Load More By आजसमाज ब्यूरो
Load More In मनोरंजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कभी शिकारी थे, अब वन संरक्षण में मददगार बने पारधी

भोपाल। आम लोगों में पारधी समुदाय के लोगों की छवि शिकारियों, अपराधियों की ही रही है। लेकिन …