Home देश UP Bar Council president Darvesh Yadav shot dead: यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की गोली मारकर हत्या

UP Bar Council president Darvesh Yadav shot dead: यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की गोली मारकर हत्या

0 second read
0
0
62

आगरा। एक ओर जीत का जश्न मनाया और यह खुशी ज्यादा देर नहीं टिक सकी और मौत ने सारे माहौल को गमजदा कर दिया। ताजनगरी में बुधवार को दिन दहाड़े बड़ी वारदात हुई। दीवानी परिसर में उत्तर प्रदेश बार काउंसिल अध्यक्ष दरवेश यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई। दरवेश को तीन गोली मारी गईं। साथी अधिवक्ता मनीष बाबू शर्मा ने अपने लाइसेंसी रिवाल्वर से दरवेश पर गोलियां बरसाने के बाद खुद को भी गोली मार ली। उसका एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। गोलीकांड की घटना के बाद दीवानी परिसर को छावनी में तब्दील कर दिया गया। बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स यहां तैनात कर दिया गया है। बार काउंसिल आॅफ इंडिया ने यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की हत्या की निंदा की है।

साथ ही काउंसिल ने अपने सदस्यों के लिए सुरक्षा और यूपी सरकार से उनके परिवार को न्यूनतम 50 लाख रुपये का मुआवजा देने की भी मांग की।उप्र बार काउंसिल की अध्यक्ष चुने जाने के बाद दरवेश यादव का दीवानी परिसर में साथी अधिवक्ताओं द्वारा स्वागत समारोह में शामिल हुर्इं। सबने जुलूस निकाला इसके बाद वह अरविंद मिश्रा के चैंबर में गर्इं। किसी बात को लेकर उनका साथी अधिवक्ता मनीष शर्मा से किसी बात को लेकर उनका विवाद हो गया। किसी को नहीं पता था कि बात इतनी बढ़ जाएगी कि मनीष अपना आपा खोकर अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से दरवेश यादव को गोली मार देंगे। मनीष ने दरवेश को दनादन तीन गोली मारीं। इसके तत्काल बाद मनीष ने खुद को भी गोली मार ली। फायरिंग से दीवानी परिसर में अफरा-तफरी फैल गई। दरवेश को तत्काल समीपवर्ती पुष्पांजलि अस्पताल ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इधर मनीष बाबू शर्मा को लोटस अस्पताल में उपचार के लिए ले जाया गया। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The disclosure of Lavasa’s disagreeable comment can endanger anyone’s life: Election Commission: लवासा की असहमति वाली टिप्पणी का खुलासा करने से किसी की जान खतरे में पड़ सकती है: चुनाव आयोग

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग (ईसी) ने आरटीआई अधिनियम के तहत चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की असहमति …