Home खास ख़बर The real tear out for the crocodile:मगरमच्छ के लिए निकले असली आंसू

The real tear out for the crocodile:मगरमच्छ के लिए निकले असली आंसू

0 second read
0
0
284

रायपुर। आज के इस आधुनिक युग में भले ही इंसान अपने निजी रिश्तों से दूर होता जा रहा है लेकिन एक मगरमच्छ ने अपने प्यार में पूरे गांव को रुला दिया। बात दरअसल छत्तीसगढ़ के बेमेतरा के बावामोहतरा गांव की है जहां पूरा गांव गंगाराम यानि मगरमच्छ के मर जाने पर रोता नजर आया। उसकी शवयात्रा में लगभग 500 लोग शामिल हुए। गंगाराम भी इतना समझदार था कि आजतक उसने किसी गांव वासी को परेशान नहीं किया। गांव वाले उसे दाल चावल खिलाते थे। तालाब में जब कोई जाता गंगाराम खुद ब खुद दूसरी ओर चला जाता था। घटना मंगलवार की है कुछ ग्रामीण रोज की तरह नहाने के लिए गांव के तालाब पहुंचे तो देखा कि गंगाराम पानी में हिलडुल नहीं रहा है। बस जल्द ही गांववासियों ने उसे पानी से निकाला। वन विभाग की टीम ने वहां पहुंचकर उसकी मौत की पुष्टि की। खबर सुनकर गांव के लोग वहां पहुंचे और फूट-फूट कर रोए। सब डिविजनल आॅफिसर (वन विभाग) आरके सिन्हा ने बताया कि गांव वालों की मौजूदगी में ही मगरमच्छ का पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम के बाद उसका शव उन्हें सौंप दिया गया। मगरमच्छ की मौत प्राकृतिक कारणों से हुई है। गांववालों ने मगरमच्छ को पूरे सम्मान के साथ फूलों से सजे ट्रैक्टर में अंतिम विदाई दी। यही नहीं गांव के सरपंच का कहना है कि इस गांव को मगरमच्छ वाला गांव कहा जाएगा। यही नहीं तालाब के पास जहां मगरमच्छ को दफनाया गया है वहां उसकी मूर्ति लगाई जाएगी। पूरा गांव इस मगरमच्छ से बहुत जुड़ा हुआ महसूस करता था।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The disclosure of Lavasa’s disagreeable comment can endanger anyone’s life: Election Commission: लवासा की असहमति वाली टिप्पणी का खुलासा करने से किसी की जान खतरे में पड़ सकती है: चुनाव आयोग

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग (ईसी) ने आरटीआई अधिनियम के तहत चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की असहमति …