Home राजनीति राज्य शासन ने आधी रात को की प्रशासनिक सर्जरी

राज्य शासन ने आधी रात को की प्रशासनिक सर्जरी

भोपाल। मप्र राज्य शासन ने सोमवार देर रात को बड़ा प्रशासनिक फेरबदल किया है। राज्य सरकार ने 18 आईएएस अफसरों के ट्रांसफर किए हैं। लंबे समय से प्रतीक्षित आईएएस अफसरों के ट्रांसफर सूची में प्रमुख रूप से इंदौर के कमिश्नर संजय दुबे की नई पोस्टिंग श्रम विभाग के प्रमुख के पद पर की गई है। उनके स्थान पर राघवेंद्र कुमार सिंह को इंदौर का नया कमिश्नर बनाया गया है। वे अभी इंदौर में कमिश्नर कमर्शियल टैक्स के पद पर पदस्थ हैं। इंदौर नगर निगम कमिश्नर मनीष सिंह को उज्जैन और श्रीकांत पांडे को देवास कलेक्टर बनाया गया है।
मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अशोक वर्णवाल को तकनीकी शिक्षा विभाग का दायित्व सौंपा गया है। शहडोल संभाग के कमिश्नर रजनीश श्रीवास्तव की नई पोस्टिंग आबकारी आयुक्त ग्वालियर के पद पर की गई है, उनके स्थान पर जेके जैन को शहडोल कमिश्नर की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
मुख्यमंत्री के उप सचिव नंदकुमारम का ट्रांसफर पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी जबलपुर में किया गया है। उनकी पत्नी छवि भारद्वाज को कुछ दिन पहले ही जबलपुर कलेक्टर बनाया गया है। केके सिंह द्वारा वन विभाग के एसीएस का पदभार ग्रहण करने पर दीपक खांडेकर एसीएस सिर्फ वन विभाग के प्रभार से मुक्त होंगे। खांडेकर आर्थिक एवं सांख्यिकी के अपर मुख्य सचिव तथा अध्यक्ष प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड बने रहेंगे।
इसी तरह अश्विनी कुमार राय के प्रमुख सचिव मछुआ कल्याण विभाग का पीएस बनने पर एसीएस वीसी सेमवाल सिर्फ मछुआ कल्याण विभाग के कार्यभार से मुक्त होंगे। राजेश राजौरा प्रमुख सचिव कृषि विभाग के साथ उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।
संजय बंदोपाध्याय प्रमुख सचिव के अनुसूचित जाति कल्याण विभाग का कार्यभार ग्रहण करने पर कल्पना श्रीवास्तव इस विभाग के प्रभार से मुक्त होंगी। केसी गुप्ता प्रमुख सचिव सहकारिता को आयुक्त सहकारी संस्थाएं का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

Load More Related Articles
Load More By आजसमाज ब्यूरो
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कभी शिकारी थे, अब वन संरक्षण में मददगार बने पारधी

भोपाल। आम लोगों में पारधी समुदाय के लोगों की छवि शिकारियों, अपराधियों की ही रही है। लेकिन …