Home ज्योतिष् धर्म Should be happy in everybody’s happiness: सबकी खुशी में खुश होना चाहिए

Should be happy in everybody’s happiness: सबकी खुशी में खुश होना चाहिए

2 second read
0
0
342

समाज में यह सामान्य प्रथा प्रचलित है कि समाज में, परिवार में अथवा विश्व में मानव के दु:ख से हम विचलित होते हैं, दु:खी या पीड़ितजनों के लिए सहानुभूति रखते है और यथा सम्भव उनका दु:ख दूर करने का प्रयास करते हैं। यह बात अलग है कि जितना करीब का रिश्ता उस व्यक्ति के साथ होता है उतनी ही सहानुभूति एवं सहायता हम उस व्यक्ति को देते हैं। एक कहावत भी प्रचलित है कि एक बार किसी के सुख में शामिल न हों परन्तु दु:ख की घड़ी में अवश्य साथ देना चाहिए। एक अन्य कहावत है दुखी के साथ सहानुभूति करते समय मित्र या शत्रु की पहचान नहीं करनी चाहिए, अर्थात दु:ख में सबके साथ शामिल होना चाहिए। मानव को मानव मात्र के कल्याण के लिए सोचना एक उचित और आवश्यक प्रचलन है। परन्तु आज के युग में एक बात अक्सर देखने में आती है, वह है ‘हम अपने दु:ख से कम दु:खी होते हैं अपेक्षाकृत दूसरे के सुख से अधिक दु:खी होते हैं।’ परिणामस्वरूप वह तो अपने संबंध खराब कर लेता है अथवा द्वेष वस उसे नीचा दिखाने के उपाय सोचने लगता है ताकि उसकी आत्म-संतुष्टि हो सके। अर्थात उसके पतन में वह अपना सुख अनुभव करता है और इस लंल में अपने दु:खों को दूर करने के प्रयास करना भी भूल जाता है। हमारे समाज में यह व्यवहार आम प्रचलन में आ रहा है जबकि हमारे मानसिक तनाव का मुख्य कारण भी यही व्यवहार बनता जा रहा है।

अपने दु:खों और कष्टों के अतिरिक्त हम इस प्रकार के अवांछनीय व्यवहार से उत्पन्न मानसिक तनाव अतिरिक्त रूप में बढ़ा लेते हैं। इस प्रकार की सोच हमें बदलनी होगी तभी हमें वास्तविक रूप में प्रसन्नता मिल सकेगी। इससे हमारा लाभ ही होगा नुकसान तो बिल्कुल भी नहीं। यदि सम्भव हो तो ऐसे प्रयास किए जाने चाहिए कि अपने परिजनों, रिश्तेदारों और हितैषियों के चेहरे पर मुस्कान ला सकें। यदि हमारे सहयोग से किसी को लाभ मिलता हो अथवा खुशी प्राप्त होती है तो हमें सहयोग देने से पीछे नहीं हटना चाहिए, फिर भले ही हमें कुछ धन या शारीरिक कष्ट ही क्यों न उठाना पड़े। इस प्रकार का अनुभव करने वाले जानते हैं कि उनके मन को कितनी शांति प्राप्त होती है। खुशी का प्रदर्शन करने के विभिन्न पहलू हो सकते हैं जो व्यक्ति से हमारी घनिष्ठता पर निर्भर करता है जैसे :- अपने देश के दूर दराज के भागों में अथवा विदेश में घटित खुशखबरी के लिए सिर्फ अपनी भावनाएं व्यक्त करना ही काफी नहीं है, उसके लिए टेलीफोन अथवा एसएमएस अथवा डाक द्वारा बधाई संदेश भेजकर उनकी सफलता अथवा खुशी में शामिल हो सकते हैं। यदि अपने शहर की बात है तो सफलता अथवा खुशी के समारोह में उपस्थित होकर प्रसन्नता व्यक्त की जा सकती है और बधाई दी जा सकती है। घनिष्ठ व्यक्ति के साथ खुशी मनाने के लिए तन मन से सहयोग कर उसकी खुशी में चार चांद लगाए जा सकते हैं और उसे सफलता के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। साथ ही उससे अपने संबंधों में प्रगाढ़ता विकसित की जा सकती है तथा उसे अपनेपन का अनुभव कराया जा सकता है। यदि कोई ऐसा व्यक्ति जो आपका शत्रु है तो भी उसकी खुशी में औपचारिकता निभाने में संकोच नहीं करना चाहिए। कभी-कभी तो आपके इस व्यवहार से कटुता भी हो सकती है, बिगड़े संबंधों में सुधार आ सकता है। आपके खुशी व्यक्त करने से आपके व्यक्तित्व में चार चांद लग जाते हैं तथा आपका समाज में कद ऊंचा हो जाता है। अनेक परिवार, जहां लोग निरंकुश स्वभाव रखते हैं, घर के मुख्य सदस्य अर्थात बुजुर्ग परिवार के अन्य सदस्यों के साथ हमेशा सव्त व्यवहार रखते हैं। जब वे खुश हैं तो सब सदस्य खुश होने को स्वतंत्र हैं, परन्तु यदि उनका मूड खराब सामान्य स्थिति में जब वे प्रसन्न नहीं हैं तो किसी भी सदस्य को आराम करना अथवा खुशी व्यक्त करना उनके लिए असहनीय होता है। ऐसे में घर के अन्य सदस्य घर में आते ही तनावग्रस्त हो जाते हैं। ऐसे परिवारों में आपसी सामंजस्य समाप्त हो जाता है और घर के सदस्य घर के अतिरिक्त यार-दोस्तों में अपनी खुशियां ढूंढने लगते हैं। परिवार एक धर्मशाला के रूप में परिवर्तित हो जाता है या फिर बिखराव की स्थिति आ जाती है। अत: हमें सबकी खुशी में खुश होने की आदत डालनी होगी। सभी की भावनाओं को सम्मान देना होगा तभी हम अपने सम्मान की आशा कर सकते हैं। इस प्रयास से देश और समाज की उन्नति का मार्ग प्रशस्त होता है। सबकी उन्नति से हमारी उन्नति व खुशी भी निश्चित है। एक बार आजमा कर तो देखिए।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The congregation should be held under the supervision of Shri Akal Takht Sahib: CM: श्री अकाल तख्त साहिब की सरपरस्ती में हो समागम : सीएम

चंडीगढ़। श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्य समागम को मनाने के लिए…