Home खास ख़बर Rahul urges Congress workers to help flood victims: राज्यों में बाढ़ से जीवन अस्त-व्यस्त, राहुल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से की पीड़ितों की मदद की अपील

Rahul urges Congress workers to help flood victims: राज्यों में बाढ़ से जीवन अस्त-व्यस्त, राहुल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से की पीड़ितों की मदद की अपील

1 second read
0
0
72

नई दिल्ली। पूरे देश में कई राज्यों में जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बाढ़ नेलोगों का जीवन कठिन कर दिया है। बिहार और यूपी के साथ अन्य राज्यों में भी इस प्राकृतिक आपदा से लगभग 70 लाख लोगों का जनजीवन प्रभावित हुआ है। इन हालातों को देखते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने कार्यकर्ताओं को कहा है कि वह इन राज्यों में आम लोगों की मदद करें। बता देंकि बाढ़ प्रभावित श्रेत्रों में अब तक 44 ल ोगों की जानें जा चुकी हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्यकतार्ओं से अपील की है कि वह तुरंत राहत और बचाव के कार्य में जुटे। राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा है कि असम, बिहार, उतर प्रदेश, त्रिपुरा और मिजोरम में बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए है। जन-जीवन बुरी तरह प्रभावित हो गया है। मैं इन सभी राज्यों के कांग्रेस कार्यकतार्ओं से अपील करता हूं वे आम लोगों के राहत और बचाव कार्य में तत्काल जुटे। असम, बिहार, उतर प्रदेश, त्रिपुरा और मिजोरम में बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए है। मैं इन सभी राज्यों के कांग्रेस कार्यकतार्ओं से अपील करता हूं वे आम लोगों के राहत और बचाव कार्य में तत्काल जुटे। असम के 33 में से 30 जिलों के करीब 43 लाख लोग सैलाब से प्रभावित हैं। बाढ़ ने 15 लोगों की जान भी ले ली है। इसके अलावा, काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान, पोबितोरा वन्यजीव अभयारण्य और मानस राष्ट्रीय उद्यान भी जलमग्न हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम के मुख्यमंत्री सबार्नंद सोनेवाल से सोमवार को फोन पर बात की और राज्य में बाढ़ के हालात के बारे में जानकारी ली। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने बताया कि राज्य के 4,157 गांवों के 42.87 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। राज्य में ब्रह्मपुत्र का जलस्तर खतरे के निशान से पार चला गया है।
बिहार के 12 जिलों में बाढ़
राज्य के 12 जिलों में आई बाढ़ की वजह से 25.66 लाख लोग प्रभावित हैं। पूर्वी चम्पारण जिले में दो अलग अलग घटनाओं में पांच और बच्चे डूब गए हैं, लेकिन राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसे बाढ़ से संबंधित घटना मानने से इनकार किया। वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने, बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई मुआयना किया।

मिजोरम, मेघालय और त्रिपुरा में हालत गंभीर
मिजोरम में खतलंगतुईपुई नदी में बाढ़ आने की वजह से 32 गांव प्रभावित हुए हैं और कम से कम एक हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा हैं। वहीं वर्षा संबंधित घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गई है। मेघालय में पिछले सात दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से दो नदियों में बाढ़ आ गई है जिनका पानी पश्चिम गारो हिल्स जिले के मैदानी इलाकों में घुस गया है जिससे कम से कम 1.14 लाख लोग प्रभावित है।
महाराष्ट्र, हिमाचल, पंजाब और हरियाणा
राज्य के पालघर और ठाणे जिलों के नदी तट पर बसे 75 गांवों को अलर्ट पर रखा गया है क्योंकि क्षेत्र के प्रमुख बांधों में जल स्तर ओवरफ्लो के निशान के नजदीक पहुंच गया है। हिमाचल प्रदेश के कई हिस्सों में रविवार से हल्की से मध्यम स्तर की बारिश हुई है। मौसम विभाग ने बताया कि ऊना राज्य का सबसे गर्म इलाका रहा जहां पारा 34.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जबकि केलांग में न्यूनतम तापमान 10.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। पंजाब और हरियाणा तथा इनकी संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में बारिश हुई और न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री सेल्सियस तक गिरा है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 119 टीमों को असम और बिहार समेत बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है। इन क्षेत्रों पर करीब से निगाह रखने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में एक 24७7 नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Employees’ Provident Fund Organization gave gifts to pensioners: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने दिया पेंशनभोगियों को तोहफा

नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने पेंशनभोगियों को तोहफा दिया है। संगठन ने कर्मचारी …