Home खास ख़बर Pak removed ban from its air route: पाक नेअपने हवाई मार्ग से रोक हटाई, भारतीय विमान भी करेंगे पाक हवाईमार्ग का इस्तेमाल

Pak removed ban from its air route: पाक नेअपने हवाई मार्ग से रोक हटाई, भारतीय विमान भी करेंगे पाक हवाईमार्ग का इस्तेमाल

0 second read
0
0
104

नई दिल्ली। भारत ने पाक के बालाकोट में आतंकवादियों के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी जिसकी वजह से पाक ने अपने वायुमार्ग को विमानों के प्रवेश के लिए बंद कर दिया था। मंगलवार को पाकिस्तान ने अपने वायु क्षेत्र में बाहरी विमानों के प्रवेश पर लगाई रोक हटा दी है। पाकिस्तान नेअपने हवाई मार्ग को सोमवार देर रात 12 बजकर 41 मिनट से खोला। सूत्रों के मुताबिक भारतीय विमानन कंपनियों के विमान भी जल्दी ही पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र से होते हुए सामान्य रूट पर उड़ान भरने लगेंगे। बता दें कि पाक ने 26 फरवरी से अपना हवाई श्रेत्र बंद कर दिया था। हालांकि पाकिस्तान से स्पष्ट कह दिया है कि भारत कि वाणिज्यि उड़ानों के लिए वह अपने हवाईरूट को तब तक नहींखोलेगा जब तक भारतीय वायुसेना के अग्रिम एयरबेस से लड़ाकू विमानों को नहीं हटा लिया जाता है। पाक के विमानन सचिव ने एक संसदीय समिति को यह जानकारी दी। पाकिस्तान के प्रतिबंध के बाद सभी यात्री उड़ानों को भारत के वैकल्पिक मार्गों पर परिचालित किया जा रहा था। वहीं, भारतीय हवाई क्षेत्र के बंद होने के बाद थाईलैंड से पाकिस्तानी आने वाली उड़ानों को अभी तक बहाल नहीं किया था। इसके अलावा मलेशिया के लिए पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की उड़ानें भी निलंबित थी। नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि पाकिस्तान हवाई क्षेत्र के बंद होने से 2 जुलाई तक भारतीय विमानन कंपनियों को 548 करोड़ का घाटा हुआ। इसमें 2 जुलाई एयर इंडिया को 491 करोड़, 31 मई तक इंडिगो को 25.1 करोड़ और 20 जून तक स्पाइस जेट को 30.73 करोड़ और गोएयर को 2.1 का घाटा हुआ है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Employees’ Provident Fund Organization gave gifts to pensioners: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने दिया पेंशनभोगियों को तोहफा

नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने पेंशनभोगियों को तोहफा दिया है। संगठन ने कर्मचारी …