Home दुनिया डोनाल्‍ड ट्रंप के विरोध में सड़कों पर उतरीं लाखों महिलाएं

डोनाल्‍ड ट्रंप के विरोध में सड़कों पर उतरीं लाखों महिलाएं

0 second read
0
0
1,688

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सत्ता संभालने के एक साल बाद उनके विरोध में आहूत दूसरे महिला मार्च में अमेरिका भर में प्रदर्शनकारी ट्रंप विरोधी तख्तियों के साथ सड़कों पर आ गए. लोगों ने ड्रम बजाकर और गुलाबी रंग की टोपी पहनकर राष्ट्रपति के प्रति अपनी खिलाफत का इजहार किया. वॉशिंगटन, न्यूयॉर्क, शिकागो, डेनवर, बोस्टन, लॉस एंजिलिस और देश के अन्य शहरों में हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर आ गए.
पिछले साल 20 जनवरी को ही ट्रंप ने राष्ट्रपति का पदभार संभाला था. प्रदर्शनकारियों ने ‘फाइट लाइक अ गर्ल’ और ‘अ वुमेन प्लेस इज इन व्हाइट हाउस’ और ‘इलेक्ट अ क्लाउन, एक्स्पेक्ट अ सर्कस’ जैसे नारे लगाए. लॉस एंजिलिस के मेयर ने कहा कि शहर में करीब पांच लाख लोग सड़कों पर उतरे जबकि न्यूयॉर्क पुलिस के मुताबिक शहर में करीब दो लाख लोगों ने प्रदर्शन किया.
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कुर्सी जा सकती है. भारतीय मूल की निकी हेली अमेरिकी राष्ट्रपति बन सकती हैं. ये दावा ‘फायर एंड फ्यूरी: इनसाइड द ट्रंप व्हाइट हाउस’ किताब में किया गया है. डोनाल्ड ट्रंप के व्हाइट हाउस में पहले साल के कार्यकाल पर लिखी गई इस किताब के लेखक माइकल वुल्फ ने कहा है कि उन्होंने ऐसे-ऐसे खुलासे किए हैं जिसके बाद डोनाल्ड ट्रंप का व्हाइट हाउस में सफर खत्म हो सकता है.
किताब की माने तो भारतीय मूल की अमेरिकी नेता निकी हेली राष्ट्रपति बनने की अकांक्षा पाले हुए हैं और डोनाल्ड ट्रंप की नजदीकी मंडली को इस बात का डर है कि निकी इस पद के लिए ट्रंप की उत्तराधिकारी हो सकती हैं. ‘फायर एंड फ्यूरी: इनसाइड द ट्रंप व्हाइट हाउस’ नामक पुस्तक में दावा किया गया है कि निकी की निगाह राष्ट्रपति पद पर है और ट्रंप भी उनको भविष्य की राजनीति के लिए तैयार करते हुए नजर आ रहे हैं. निकी फिलहाल संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत हैं. पुस्तक के किए गए इस दावे पर फिलहाल उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं है. पुस्तक में कहा गया है कि ट्रंप के सिर्फ एक बार राष्ट्रपति रहने के आसार हैं.
माइकल वुल्फ की किताब में दावा किया गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पत्नी मेलानिया नहीं चाहती थीं कि उनके पति राष्ट्रपति बनें और 2016 में चुनाव के नतीजे आने के बाद वह रोने लगीं. पुस्तक में यह भी दावा किया गया है कि ट्रंप खुद राष्ट्रपति चुनाव जीतने में दिलचस्पी नहीं रखते थे और नतीजे आने के बाद मेलानिया रोने लगीं, क्योंकि वह नहीं चाहती थीं कि ट्रंप जीतें.
पुस्तक में यह भी दावा किया गया है कि व्हाइट हाउस के मुख्य रणनीतिकार स्टीव बैनन को बर्खास्त किये जाने की बातों में कोई दम नहीं है. ट्रंप ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा है कि बैनन को जब हटाया गया तो वह रोने लगे और नौकरी की भीख मांगने लगे. ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘माइकल वोल्फ पूरी तरह हताश व्यक्ति हैं, जिन्होंने अपनी उबाऊ और असत्य पुस्तक बेचने के लिए कहानियां गढ़ी हैं. उन्होंने स्टीव बैनन का इस्तेमाल किया. बैनन को जब बर्खास्त किया वह रोए और अपनी नौकरी की भीख मांगी.’

Load More Related Articles
Load More By आजसमाज ब्यूरो
Load More In दुनिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

महिला कांग्रेस में भी होंगी 5 कार्यकारी अध्यक्ष, हाईकमान ने जारी किया आदेश

भोपाल । विधानसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस अपने संगठनात्मक ढांचे को चुस्त-दुरुस्त करने…